सपने

सपने मेरे नहीं आपके सपने, हमारे सपने, समाज में व्याप्त विसंगतियां मन को व्यथित करती हैं. संवेदनाओं की पृष्ठभूमि से जन्मी रचनाएँ मेरीनहीं आपकी आवाज हैं. इन आँखों में एक ख्वाब पलता है, सुकून हो हर दिल में इक दिया आश का जलता है. - शशि.
शशि का अर्थ है -- चन्द्रमा, तो चाँद सी शीतलता प्रदान करने का नाम है जिंदगी .
शब्दों की मिठास व रचना की सुवास ताउम्र अंतर्मन महकातें हैं. मेरे साथ सपनों की हसीन वादियों में आपका स्वागत है.

follow on facebook

FOLLOWERS

Tuesday, August 23, 2011

सुहानी सुबह .....!



                                             भोर   जब   मैंने   ली  अंगडाई  ,
                                                   सुबह   की   सुहानी  ,
                                                              चंचल   चितवन   ने ,
                                             अधरो   पे   मेरे ,
                                                      मुस्कान   लाई.


                                             चिड़ियो   का  चहचहाना ,  और
                                                     भोर   की  पहली  
                                                                  किरण   का,
                                             चुपके   से   मेरे
                                                         घर   आना ,  फिर 
                                              दिल  में  आशा   की 
                                                        नयी   ज्योत   जगाना .


                                            शीतल   हवा   का  होले   से
                                                       छूकर   जाना  , और 
                                             मन   का  मचल   जाना.

                                            नए   दिन   का  यह 
                                                        सुहाना    सफ़र  ,
                                            भोर  का  यह  
                                                     प्यारा    सा   पल   
                                            खोल   रहा   है , मेरे 
                                                       नयनो   का   पट .

                                                                     :-  शशि  पुरवार

                                कभी   जब   ऐसी   सुबह   मन   को   प्रफुल्लित  करती  है  , तो   दिन  भी  सुहाना   ही   होता   है .  काश   हर   सुबह    इतनी   ही  सुहानी    हो . नया  दिन    सुहाने  सफ़र   के   साथ  .

11 comments:

  1. बहुत ही सुहानी प्रस्तुति है आपकी.
    पढकर प्रफुल्लित हो गया है मन.

    सुन्दर प्रस्तुति के लिए आभार.
    आपके ब्लॉग को फालो कर रहा हूँ.

    समय मिलने पर मेरे ब्लॉग पर भी आईयेगा.
    बहुत बहुत स्वागत है आपका.

    ReplyDelete
  2. सुन्दर अभिव्यक्ति..शुभकामनाएं !

    BLOG PAHELI

    ReplyDelete
  3. चिड़ियो का चहचहाना , और
    भोर की पहली
    किरण का,
    चुपके से मेरे
    घर आना , फिर
    दिल में आशा की
    नयी ज्योत जगाना .bahut achchi lagi.......

    ReplyDelete
  4. Again, very beautiful poem and the new picture is very pretty. You're looking so gorgeous.

    ReplyDelete
  5. शशि जी सुंदर कविता बधाई और शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  6. शुक्रिया मृदुला जी

    ReplyDelete
  7. धन्यवाद जयकृष्ण राय जी

    राकेश जी ,

    शिखा

    ReplyDelete
  8. चिड़ियों का चहचहाना,और
    भोर की पहली
    किरण का,
    चुपके से मेरे
    घर आना ,फिर
    दिल में आशा की
    नयी ज्योत जगाना.

    सुहानी सुबह का सुहाना वर्णन...
    बहुत अच्छा है| बधाई

    ReplyDelete
  9. ऋता शेखर 'मधु' जी धन्यवाद
    आपका स्वागत है .

    ReplyDelete
  10. भोर जब मैंने ली अंगडाई ,
    सुबह की सुहानी ,
    चंचल चितवन ने ,
    अधरो पे मेरे ,
    मुस्कान लाई.BE HAPPY WITH EVERY GOOD MORNING

    ReplyDelete

नमस्कार मित्रों, आपके शब्द हमारे लिए अनमोल है यहाँ तक आ ही गएँ हैं तो अपनी अनमोल प्रतिक्रिया व्यक्त करके हमें अनुग्रहित करें. स्नेहिल धन्यवाद ---शशि पुरवार



linkwith

sapne-shashi.blogspot.com