सपने

सपने मेरे नहीं आपके सपने, हमारे सपने, समाज में व्याप्त विसंगतियां मन को व्यथित करती हैं. संवेदनाओं की पृष्ठभूमि से जन्मी रचनाएँ मेरीनहीं आपकी आवाज हैं. इन आँखों में एक ख्वाब पलता है, सुकून हो हर दिल में इक दिया आश का जलता है. - शशि.
शशि का अर्थ है -- चन्द्रमा, तो चाँद सी शीतलता प्रदान करने का नाम है जिंदगी .
शब्दों की मिठास व रचना की सुवास ताउम्र अंतर्मन महकातें हैं. मेरे साथ सपनों की हसीन वादियों में आपका स्वागत है.

follow on facebook

https://www.facebook.com/shashi.purwar

FOLLOWERS

Thursday, August 25, 2011

नाजुक रिश्ते .......!




                               बहुत   नाजुक   होते   है   ये   रिश्ते 
                                    कांच   से   भी   ज्यादा   ,
                                  कोमल  होते  है  ये  रिश्ते.

                              धोखे    से   लगे   एक   कंकड़   से  भी 
                                चटक   कर  उभर   आते   है   निशान .

                               रिश्ता   कोई   भी  हो , 
                                 अलग - अलग   है  उसके   नाम .

                               हर  रिश्ते  में  होती   है   एक ,
                                    गरिमा  और  उसकी  पहचान .

                                प्यार  से  गर  सीचो  तो 
                                           खिलते   है  फूल .
                                कांटे   गर  बोये  तो
                                      रास्ते   हो  जायेंगे   दूर  .

                                बंद  मुट्ठी   जहाँ   होती  है
                                           एकता   की   पहचान .
                                खुले  हाथ  छोड़   जाते  है
                                        सिर्फ  पंजो   के  निशान.

                                 रिश्तो  की  रस्सा - कस्सी  में   
                                      जहाँ  चटक   जाती  है  दीवारे ,
                                  वही  ढह    जाता   है  मकान  .

                                 नाजुकता  के  कांच  से  बने 
                                            इन  रिश्तो  को 
                                  जरा   प्यार  से   संभालो , नहीं   तो
                                       चारो   तरफ   सिर्फ ,
                                  बिखरे   होगे    कांच.
                                                 :-   शशि  पुरवार



linkwith

sapne-shashi.blogspot.com