सपने

सपने मेरे नहीं आपके सपने, हमारे सपने, समाज में व्याप्त विसंगतियां मन को व्यथित करती हैं. संवेदनाओं की पृष्ठभूमि से जन्मी रचनाएँ मेरीनहीं आपकी आवाज हैं. इन आँखों में एक ख्वाब पलता है, सुकून हो हर दिल में इक दिया आश का जलता है. - शशि.
शशि का अर्थ है -- चन्द्रमा, तो चाँद सी शीतलता प्रदान करने का नाम है जिंदगी .
शब्दों की मिठास व रचना की सुवास ताउम्र अंतर्मन महकातें हैं. मेरे साथ सपनों की हसीन वादियों में आपका स्वागत है.

follow on facebook

FOLLOWERS

Thursday, August 25, 2011

नाजुक रिश्ते .......!




                               बहुत   नाजुक   होते   है   ये   रिश्ते 
                                    कांच   से   भी   ज्यादा   ,
                                  कोमल  होते  है  ये  रिश्ते.

                              धोखे    से   लगे   एक   कंकड़   से  भी 
                                चटक   कर  उभर   आते   है   निशान .

                               रिश्ता   कोई   भी  हो , 
                                 अलग - अलग   है  उसके   नाम .

                               हर  रिश्ते  में  होती   है   एक ,
                                    गरिमा  और  उसकी  पहचान .

                                प्यार  से  गर  सीचो  तो 
                                           खिलते   है  फूल .
                                कांटे   गर  बोये  तो
                                      रास्ते   हो  जायेंगे   दूर  .

                                बंद  मुट्ठी   जहाँ   होती  है
                                           एकता   की   पहचान .
                                खुले  हाथ  छोड़   जाते  है
                                        सिर्फ  पंजो   के  निशान.

                                 रिश्तो  की  रस्सा - कस्सी  में   
                                      जहाँ  चटक   जाती  है  दीवारे ,
                                  वही  ढह    जाता   है  मकान  .

                                 नाजुकता  के  कांच  से  बने 
                                            इन  रिश्तो  को 
                                  जरा   प्यार  से   संभालो , नहीं   तो
                                       चारो   तरफ   सिर्फ ,
                                  बिखरे   होगे    कांच.
                                                 :-   शशि  पुरवार



9 comments:

  1. प्यार से गर सीचो तो
    खिलते है फूल
    कांटे गर बोये तो
    रास्ते हो जायेंगे दूर
    बहुत बड़ी सत्यता को अपने में समेटे हुए हैं आपकी यह रचना.....

    कभी कभार यहाँ भी झांक ले और अपना समर्थन यहाँ भी करें तो बहुत ख़ुशी होगी....
    MADHUR VAANI
    BINDAAS_BAATEN

    ReplyDelete
  2. Bahut sundar and I love these lines हर रिश्ते में होती है एक ,गरिमा और उसकी पहचान .

    ReplyDelete
  3. thanks saru . i too love this line . its very important in every relation .

    ReplyDelete
  4. beautiful lines di... n important too..

    ReplyDelete
  5. thanks surbhi .....
    ya its very important too.
    nice to see you .

    ReplyDelete
  6. बहुत पसन्द आया
    हमें भी पढवाने के लिये हार्दिक धन्यवाद

    ReplyDelete

नमस्कार मित्रों, आपके शब्द हमारे लिए अनमोल है यहाँ तक आ ही गएँ हैं तो अपनी अनमोल प्रतिक्रिया व्यक्त करके हमें अनुग्रहित करें. स्नेहिल धन्यवाद ---शशि पुरवार



linkwith

sapne-shashi.blogspot.com