सपने

सपने मेरे नहीं आपके सपने, हमारे सपने, समाज में व्याप्त विसंगतियां मन को व्यथित करती हैं. संवेदनाओं की पृष्ठभूमि से जन्मी रचनाएँ मेरीनहीं आपकी आवाज हैं. इन आँखों में एक ख्वाब पलता है, सुकून हो हर दिल में इक दिया आश का जलता है. - शशि.
शशि का अर्थ है -- चन्द्रमा, तो चाँद सी शीतलता प्रदान करने का नाम है जिंदगी .
शब्दों की मिठास व रचना की सुवास ताउम्र अंतर्मन महकातें हैं. मेरे साथ सपनों की हसीन वादियों में आपका स्वागत है.

follow on facebook

https://www.facebook.com/shashi.purwar

FOLLOWERS

Wednesday, September 14, 2011

हिंदुस्तान की पहचान .....! " हिंदी "



                                   अनेक   है  बोली  ,
                                             अनेक  है  नाम  ,
                                         यही   तो   है  ,
                                   हिंदुस्तान   की  पहचान .

                                   इस   हिंदुस्तान   का परचम ,
                                               लहराने के लिए ,
                                  कई   वीरो  ने  है  अपना ,
                                                सर कलम किया .

                                   गर्व   होता   है ,
                                           हिन्दुस्तानी  होने   पर , जहाँ
                                   अनेक   भाषा   के   साथ ,
                                           प्यार  ने  भी  है  जन्म  लिया  .


                                    भाषाओ  की  जब   बात  उठे   तो,

                             "  हिंदी  "   हिंदुस्तान  की   " राष्ट्रभाषा "  है

                                          सबसे   प्यारी , सबसे   न्यारी ,
                                       दिल  के  एहसास  को   छूने  वाली ,
                              हिंदी    हमारी   " मातृभाषा  "  है .

                                रस   में   घुल   जाते   है   शब्द  ,
                                      जब  हिंदी   का  है   प्रयोग  किया.

                                " जन-गन-मन  "   और    " वन्दे-मातरम "  ने   ,
                                              फक्र   से  दुनियां   में  ,
                                            हमारा  नाम   रौशन   किया  .


                                             पर   व्यथा   है   इसकी   एक  ऐसी ,  कि
                                    हिंदी   राष्ट्र- भाषा   होने   के  बाबत ,
                                    राष्ट्र- कार्य   में    अंग्रेजी   का  प्रयोग  हुआ .

                                               रस  मे  घुली   इस   प्यारी
                                                             हिंदी   भाषा  पे ,
                                               ये   कैसा   है  जुल्म   हुआ  .


                                           इधर - उधर   जिसे  भी  देखो
                                            अंग्रेजी   के  सुर   लगाता  है.......!
 
                                      हिंदी  को  तो   हाय  हमारी  ,  आज
                                  बस ,  इस  इंगरेजी  ने  ही  मार   डाला   है..

                                        रस   की   तरह   पीकर
                                               इन   शब्दो   को

                                           हिंदी  का  प्रयोग  करो ,
                                    मातृभाषा   है   यह   हमारी
                                           अब   तो   इसका  सम्मान  करो .

                                        " जय हिंद , जय भारत "

                                                                :- शशि पुरवार

                                    







linkwith

sapne-shashi.blogspot.com