सपने

सपने मेरे नहीं आपके सपने, हमारे सपने, समाज में व्याप्त विसंगतियां मन को व्यथित करती हैं. संवेदनाओं की पृष्ठभूमि से जन्मी रचनाएँ मेरीनहीं आपकी आवाज हैं. इन आँखों में एक ख्वाब पलता है, सुकून हो हर दिल में इक दिया आश का जलता है. - शशि.
शशि का अर्थ है -- चन्द्रमा, तो चाँद सी शीतलता प्रदान करने का नाम है जिंदगी .
शब्दों की मिठास व रचना की सुवास ताउम्र अंतर्मन महकातें हैं. मेरे साथ सपनों की हसीन वादियों में आपका स्वागत है.

follow on facebook

FOLLOWERS

Tuesday, September 20, 2011

अभिव्यक्ति.............!

 
 
                     अभिव्यक्ति शब्दों से की जाती है                            अनुभूति रचनाओ से ली जाती है.                      दिल में गर जज्बा हो, कुछ कह दिखाने का ,                              फिर लेखनी,  वो काम कर जाती है.                                  लेखनी यदि स्वयं की हो तो ,                                      वह अनमोल हो जाती है .                                     उधार की रौशनी में कभी ,                                    वो चमक नहीं आ पाती.....!
                                              :-शशि पुरवार

12 comments:

  1. बहुत सार्थक और अच्छी सोच .....
    सुंदर भावाभिव्यक्ति.

    ReplyDelete
  2. Wonderful and so true. If you wish to do something and are passionate about it, you will win many heart. Beautiful...

    ReplyDelete
  3. बहुत खूब ... सच है उधार की रौशनी ज्यादा देर काम नहीं आती ... अपनी लो खुद ही जगानी पढ़ती है ..

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति .....:))

    ReplyDelete
  5. अभिव्यक्ति को बखू़बी सजाया है आपने...

    ReplyDelete
  6. शब्दों के सुन्दर मिलन से रचना की लौ दूर दूर तक फैलें यही हमारी कामना हें एक ओर बधाई स्वीकारें !

    ReplyDelete
  7. शशि जी...क्या लिखती हैं आप...आपकी रचनाएँ दिल को छू लेतीं हैं.....

    ReplyDelete




  8. शशि पुरवार जी
    स्नेहिल स्मरण एवं नमस्ते !

    बहुत सही कहा आपने -
    उधार की रौशनी में कभी ,
    चमक नहीं आ पाती.....!


    आपकी लेखनी में निरंतर चमक बढ़ती रहे ,
    दिनोंदिन निखार आता रहे……… यही कामना है !


    ♥ हार्दिक मंगलकामनाएं-शुभकामनाएं !♥
    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  9. आपका सभी का बहुत शुक्रिया , आप सभी के शब्दों की अभिव्यक्ति हमें बहुत पसंद आई , एक -एक शब्द ने हमें आगे बढ़ने की राह दिखलाई

    ReplyDelete

नमस्कार मित्रों, आपके शब्द हमारे लिए अनमोल है यहाँ तक आ ही गएँ हैं तो अपनी अनमोल प्रतिक्रिया व्यक्त करके हमें अनुग्रहित करें. स्नेहिल धन्यवाद ---शशि पुरवार



linkwith

sapne-shashi.blogspot.com