सपने

सपने मेरे नहीं आपके व हमारे सपने हे , समाज में व्याप्त विसंगतियां मन को व्यथित करती हैं. संवेदनाओं की पृष्ठभूमि से मेरी जन्मी रचनाएँ आपकी ही आवाज हैं.
इन आँखों में एक ख्वाब पलता
है,
सुकून हो हर दिल में,
इक दिया आश का जलता है.
बदल दो जहाँ को हौसलों के संग
इसी मर्ज से जीवन खुशहाल चलता है - शशि.
शशि का अर्थ है -- चन्द्रमा, तो चाँद सी शीतलता प्रदान करने का नाम है जिंदगी . समाज में सकारात्मकता फैलाने का नाम है जिंदगी , बेटियों से भी रौशन होता है यह जहाँ , सिर्फ बेटे ही नही बेटियों को भी आगे बढ़ाने का नाम है जिंदगी।
शब्दों की मिठास व रचना की सुवास ताउम्र अंतर्मन महकातें हैं. मेरे साथ सपनों की हसीन वादियों में आपका स्वागत है.

follow on facebook

https://www.facebook.com/shashi.purwar

FOLLOWERS

Monday, September 26, 2011

शिकवा नहीं किया .....!






                                    बात  बिगड़ी  तो  किसी  से  भी  कोई ,
                                             शिकवा   नहीं   किया .
                                    खामोश रहे   जहर   पी   कर
                                                तमाशा  नही  किया .

                                      सबकी  नजरो  में  रहे,   खुले 
                                                   ख़त  की  तरह .
                                      हमने  लोगो  से  भरम  करके ,
                                            दिखावा  नही  किया .

                                     जो  भी  मिलता  है  देता इक  फरेब  ,
                                               एक  हम   है ,
                                     किसी  से   भी  धोखा  नही   किया .


                                        जख्म  जो  दिल  को  मिला  ,
                                                 फूल  समझा   उसको
                                       इन  बहारो   से  कोई  ,
                                                 तकाजा  नही   किया.


                                         कह   गया  कौन,
                                                 मेरे  दुःख   की  कहानी .
                                           मैंने   तो   इस   बात   का ,
                                                        चर्चा  नही   किया .

                                                                  :-  शशि पुरवार

4 comments:

  1. कह गया कौन,
    मेरे दुःख की कहानी
    मैंने तो इस बात का ,
    चर्चा न किया .

    kyaa baat hai ,der se hee sahee ,teer pooree taakat se chalayaa hai

    ReplyDelete
  2. कह गया कौन,
    मेरे दुःख की कहानी
    मैंने तो इस बात का ,
    चर्चा न किया .
    खुबसूरत अहसासों को लफ़्ज दे दिए बहुत खूब .....

    ReplyDelete
  3. आपका सभी का बहुत शुक्रिया ,

    ReplyDelete

मित्रों, आपके शब्द हमारे लिए अनमोल है . अपनी अनमोल प्रतिक्रिया व्यक्त करके हमें अनुग्रहित करें. स्नेहिल धन्यवाद ---शशि पुरवार



linkwith

sapne-shashi.blogspot.com