सपने

सपने मेरे नहीं आपके सपने, हमारे सपने, समाज में व्याप्त विसंगतियां मन को व्यथित करती हैं. संवेदनाओं की पृष्ठभूमि से जन्मी रचनाएँ मेरीनहीं आपकी आवाज हैं. इन आँखों में एक ख्वाब पलता है, सुकून हो हर दिल में इक दिया आश का जलता है. - शशि.
शशि का अर्थ है -- चन्द्रमा, तो चाँद सी शीतलता प्रदान करने का नाम है जिंदगी .
शब्दों की मिठास व रचना की सुवास ताउम्र अंतर्मन महकातें हैं. मेरे साथ सपनों की हसीन वादियों में आपका स्वागत है.

follow on facebook

https://www.facebook.com/shashi.purwar

FOLLOWERS

Saturday, October 1, 2011

नजराना..........!




                                             कागज  के  यह  
                                              चंद  टुकड़े (पन्ने )  ,
                                          नजराना  समझ  कर
                                                रख  लेना .
                                            इन  पत्थरों  की  तुलना  ,
                                                हीरे  से  न  करना .

                                         कल  हम  रहें  या  ना  रहें 
                                              बेगाना समझ कर ही  ,
                                                याद   कर  लेना .

                                               ये   जिंदगी  है  ,
                                               जब  तक  बाकी 
                                               याद   रह  जाये ,
                                               तो  मिल  लेना .


                                                तोहफे  में  दिए  ,
                                               इन  पन्नो  को  ही 
                                                  प्यार   की  
                                                भेंट  समझना .
                                                       :-  शशि पुरवार

कई बार हम तोहफे में  सिर्फ कार्ड या कुछ लाइन  हमारे प्रिये जनों को देते है , जो सबके लिए अनमोल नहीं होती हैं। आज लोग रूपये से ही तोहफे का वजन तोलते है . कागज के टुकड़े , का मतलब यहाँ पन्नो से है. यहाँ कागज  को पत्थरों  के सामान बेजान मन गया है जिसका कोई मोल नहीं होता , पर हीरे का होता है ....... ज्यादातर  लोग तोहफे  का मोल देखते है ,देने वाले का दिल और मन नहीं , हर किसी के लिए कार्ड  या लेखनी का मोल नहीं होता ,जिसे वह कुछ समय बाद फ़ेंक  देते है . आज कितने लोग कार्ड और पत्रों का मोल समझते है,इसी बात को अलग -अलग शब्दों में दर्शाने की कोशिश ......! डायरी के पन्नों से 











2 comments:

  1. pyar se diya hua kagaj ka panna aur us par likhi hui pyar se bhari line jyda kimti najrana hoti hai .

    ReplyDelete

मित्रों, आपके शब्द हमारे लिए अनमोल है . अपनी अनमोल प्रतिक्रिया व्यक्त करके हमें अनुग्रहित करें. स्नेहिल धन्यवाद ---शशि पुरवार



linkwith

sapne-shashi.blogspot.com