सपने

सपने मेरे नहीं आपके सपने, हमारे सपने, समाज में व्याप्त विसंगतियां मन को व्यथित करती हैं. संवेदनाओं की पृष्ठभूमि से जन्मी रचनाएँ मेरीनहीं आपकी आवाज हैं. इन आँखों में एक ख्वाब पलता है, सुकून हो हर दिल में इक दिया आश का जलता है. - शशि.
शशि का अर्थ है -- चन्द्रमा, तो चाँद सी शीतलता प्रदान करने का नाम है जिंदगी .
शब्दों की मिठास व रचना की सुवास ताउम्र अंतर्मन महकातें हैं. मेरे साथ सपनों की हसीन वादियों में आपका स्वागत है.

follow on facebook

FOLLOWERS

Tuesday, December 6, 2011

हायुक ...

                                       १) कॉपी - पेस्ट
                                           मूल दस्तावेजों
                                            संग अपराध .

                                      २ )  शक , दीमक
                                           रिश्तो में दूरियां
                                             मकड़ीजाल .

                                     ३ )   रचनाओं पे
                                         शब्दों की समीक्षा
                                            मेहनताना.

                                      ४ ) माँ  का दुलार
                                         सुरक्षा  का कवच
                                           शिशु जीवन .

                                   ५ )  मन की जीत
                                        सुनहरा प्रकाश
                                          प्रज्वलित .

                                   ६ )   परिवार है
                                      सुखी जीवन की
                                       असली नीव.

                                 ७ )    गुलशन में
                                      फूलो संग लिपटी
                                         हुई ख़ामोशी .

                                ८ )  विष  सा  कार्य
                                     रिश्तो में शोषण 
                                       कड़वाहट .

                                ९ )   है जानलेवा
                                     केंसर से खतरा
                                        मदिरापान.

                                10)  दिल पागल
                                    दीवानापन , प्यार
                                      है  दिलदार .

                                         :- शशि पुरवार



11 comments:

  1. आपकी मास्टरी है हाइकू में ... जबरदस्त है सभी ...

    ReplyDelete
  2. वाह! बहुत सुन्दर प्रस्तुति है आपकी.
    कम शब्दों में बड़ी बातें.

    आपने मेरे ब्लॉग को क्यूँ भुला दिया शशि जी.

    ReplyDelete
  3. नमस्कार राजेंद्र जी
    आपकी समीक्षा हमेशा हमारा उत्त्साह बढाती है ,
    हयुक में १७ वर्ण होते है ५+७+५ ,
    परन्तु क्षणिकाओ में वर्णों की गिनती नहीं होती ,
    धन्यवाद
    शशि पुरवार

    ReplyDelete
  4. दमदार हायकू.
    मज़ा आ गया.

    बधाई.

    ReplyDelete
  5. सुंदर हाइकु,बधाई स्वीकारें...

    ReplyDelete
  6. sunder haiku gagar me sagr ho jaese
    rachana

    ReplyDelete
  7. किसी भी बड़ी बात को कम शब्दों में कहने का सबसे आसान है हाइकू
    सचमुच लाजवाब है सभी लाइन
    बहुत बहुत बधाई हो आपको आपका स्वागत है मेरे फेसबुक के मित्र मधुर परिवार में विश्वास है आप जरुर शामिल होंगे लिंक नीचे है

    MITRA-MADHUR pariwaar

    ReplyDelete
  8. There is clearly a bunch to realize about this. I consider you made certain nice points in features also

    From Great talent

    ReplyDelete

नमस्कार मित्रों, आपके शब्द हमारे लिए अनमोल है यहाँ तक आ ही गएँ हैं तो अपनी अनमोल प्रतिक्रिया व्यक्त करके हमें अनुग्रहित करें. स्नेहिल धन्यवाद ---शशि पुरवार



linkwith

sapne-shashi.blogspot.com