सपने

सपने मेरे नहीं आपके सपने, हमारे सपने, समाज में व्याप्त विसंगतियां मन को व्यथित करती हैं. संवेदनाओं की पृष्ठभूमि से जन्मी रचनाएँ मेरीनहीं आपकी आवाज हैं. इन आँखों में एक ख्वाब पलता है, सुकून हो हर दिल में इक दिया आश का जलता है. - शशि.
शशि का अर्थ है -- चन्द्रमा, तो चाँद सी शीतलता प्रदान करने का नाम है जिंदगी .
शब्दों की मिठास व रचना की सुवास ताउम्र अंतर्मन महकातें हैं. मेरे साथ सपनों की हसीन वादियों में आपका स्वागत है.

follow on facebook

FOLLOWERS

Friday, December 9, 2011

सुंदर स्वप्न........!

                                          सुंदर  स्वप्न,
                                     तितली  बन  के उड़े,
                                         अखिंयन  में .

                                       फूल खिले , तो
                                     गुलजार  हुआ है  मन ,
                                      दिल  जोहे  है  वाट
                                       मधुबन   में ...!

                                      पवित्र  प्रेम  की
                                   बिखरी   है  कलियाँ,
                                   सिमट  गयी  बतियाँ
                                  खो  गए  , नीलगगन  में .

                                तारों  ने   भी  दी  है  सौगात
                                  खिला  पूनम   का  चाँद,
                                 रौशन   हुयी  दिल  की  बगिया
                                        गुलशन  में ....!

                                     अब  आये  न  होश
                                       हुए  है   मदहोश  ,
                                   छाया  अनुपम  सौन्दर्य 
                                      बगियन  में ...!

                                     सुंदर स्वप्न .....!

                                                  : - शशि पुरवार

डायरी के पन्नों से -




18 comments:

  1. अब आये न होश
    हुए है मदहोश ,
    छाया अनुपम सौन्दर्य
    बगियन में ...!bahut khub.

    ReplyDelete
  2. छाया अनुपम सौन्दर्य
    बगियन में....
    bahut bahut sunder prastuti,kaash jeewan sapno sa hi hota....

    ReplyDelete
  3. ' फूल खिले , तो
    गुलजार हुआ है मन ,
    दिल जोहे है वाट
    मधुबन में ...!'
    बहुत सुन्दर भाव.बधाई.

    ReplyDelete
  4. Dreams and lovely dreams...Sigh!

    Lovely words:)

    ReplyDelete
  5. सुंदर स्वप्न .....!-अंखियन में....सुन्दर....

    ReplyDelete
  6. पवित्र प्रेम की
    बिखरी है कलियाँ,
    सिमट गयी बतियाँ
    खो गए , नीलगगन में...
    बहुत सुन्दर , बधाई

    ReplyDelete
  7. bahut sundar panktiyan....

    http://dilkikashmakash.blogspot.com/

    ReplyDelete
  8. बहुत सुंदर भावमयी प्रस्तुति...शब्दों और भावों का सुंदर संयोजन..

    ReplyDelete
  9. आपके पोस्ट पर आना सार्थक होता है । मेरे नए पोस्ट "खुशवंत सिंह" पर आपका इंतजार रहेगा । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  10. भावमय सुन्दर कविता ....

    ReplyDelete
  11. ' फूल खिले , तो
    गुलजार हुआ है मन ,
    दिल जोहे है वाट
    मधुबन में ...!'
    sunder panktiyan
    rachana

    ReplyDelete
  12. अच्छी कविता बधाई और शुभकामनाएं |

    ReplyDelete

नमस्कार मित्रों, आपके शब्द हमारे लिए अनमोल है यहाँ तक आ ही गएँ हैं तो अपनी अनमोल प्रतिक्रिया व्यक्त करके हमें अनुग्रहित करें. स्नेहिल धन्यवाद ---शशि पुरवार



linkwith

sapne-shashi.blogspot.com