सपने

सपने मेरे नहीं आपके सपने, हमारे सपने, समाज में व्याप्त विसंगतियां मन को व्यथित करती हैं. संवेदनाओं की पृष्ठभूमि से जन्मी रचनाएँ मेरीनहीं आपकी आवाज हैं. इन आँखों में एक ख्वाब पलता है, सुकून हो हर दिल में इक दिया आश का जलता है. - शशि.
शशि का अर्थ है -- चन्द्रमा, तो चाँद सी शीतलता प्रदान करने का नाम है जिंदगी .
शब्दों की मिठास व रचना की सुवास ताउम्र अंतर्मन महकातें हैं. मेरे साथ सपनों की हसीन वादियों में आपका स्वागत है.

follow on facebook

FOLLOWERS

Friday, December 23, 2011

नया नहीं है .यह बस ......!

  
                                 दैनिक जीवन की जब बात चले
                                घडी व नारी नजरो के सम्मुख
                                       आ  हुए है खड़े .

                                  अनवरत , दृढ़ , अविचल
                                 नारी  ... घडी के  समान
                                    सदैव धुरी सी घुमे .

                                    सुख का पल हो या
                                     दुःख का मातम ,
                                   जवानी हो या बुढ़ापा
                                स्वयं को सम्हाले , अडिग
                              पाषाण ,निरंतर फिर से  उठे ,
                           अपने कार्य की गरिमा को निभाते चले .

                          नया साल हो या जीवन का नया पल ,
                            घडी , नारी , वक़्त के साथ
                                    बस चलते ही  रहे .
                              नारी कई पदों पर कायम ,
                              पर नर की ही है पहचान
                              ब्रम्हा जी की इस सृष्टि में
                               नए साल पर हम करते
                                  दोनों को सलाम .
                               नया नहीं है यह बस ,
                             वक़्त की है बात ,जब
                             भी नयी राह वक़्त से मिले
                                 तभी नया साल .
                                      :-शशि -पुरवार

13 comments:

  1. naari ke binaa nar adhooraa rahtaa
    har nar ye haqeeqat jaantaa
    varchasv banaaye rakhne ke liye
    sach ko jhooth kahtaa

    shashijee,
    good lines

    ReplyDelete
  2. bahut hi sunder rachna hai shashi ji,badhai...

    aur hamara salam bhi...

    ReplyDelete
  3. सधे शब्दों में ...कमाल की लेखनी

    ReplyDelete
  4. umang se bhare hue shabd..happy new year.

    ReplyDelete
  5. …………(¯`O´¯)
    …………*./ | \ .*
    …………..*♫*.
    ………, • '*♥* ' • ,
    ……. '*• ♫♫♫•*'
    ….. ' *, • '♫ ' • ,* '
    ….' * • ♫*♥*♫• * '
    … * , • MERRY' • , * '
    …* ' •♫♫*♥*♫♫ • ' * '
    ' ' • . CHRISTMAS . • ' ' '
    ' ' • ♫♫♫*♥*♫♫♫• * ' '
    …………..x♥x
    …………….♥
    My greetings from France! After visiting your blog, I could not leave without putting a comment.
    I congratulate you on your blog!
    Maybe I would have the opportunity to welcome you on mine too!
    My blog is in french, but on the right is the Google translator!
    good day
    cordially
    Chris
    http://sweetmelody87.blogspot.com/
    MERRY CHRISTMAS TO YOU AND YOUR FAMILY
    http://joyeux-noel-sweetmelody.blogspot.com/

    ReplyDelete
  6. सरल शब्दों में बहुत ही सुन्दर पंक्तियाँ ... बधाई



    आपका मेरे ब्लॉग पर हार्दिक अभिन्दन ...

    please join my Blog

    'Thank You'

    ReplyDelete
  7. बहुत अच्छी कविता।

    ReplyDelete
  8. बहुत ही सुंदर भावों का प्रस्फुटन देखने को मिला है । मेरे नए पोस्ट उपेंद्र नाथ अश्क पर आपकी सादर उपस्थिति की जरूरत है । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  9. नारी कई पदों पर कायम ,
    पर नर की ही है पहचान
    ब्रम्हा जी की इस सृष्टि में
    sunder bhav
    rachana

    ReplyDelete
  10. नारी कई पदों पर कायम ,
    पर नर की ही है पहचान
    ब्रम्हा जी की इस सृष्टि में
    नए साल पर हम करते
    दोनों को सलाम .

    NAV VARSH PR AK SUNDAR RACHANA KE LIYE ABHAR SHASHI JI . SATH HI NAV VARSH PR SHUBH KAMNAYEN.

    ReplyDelete

नमस्कार मित्रों, आपके शब्द हमारे लिए अनमोल है यहाँ तक आ ही गएँ हैं तो अपनी अनमोल प्रतिक्रिया व्यक्त करके हमें अनुग्रहित करें. स्नेहिल धन्यवाद ---शशि पुरवार



linkwith

sapne-shashi.blogspot.com