सपने

सपने मेरे नहीं आपके सपने, हमारे सपने, समाज में व्याप्त विसंगतियां मन को व्यथित करती हैं. संवेदनाओं की पृष्ठभूमि से जन्मी रचनाएँ मेरीनहीं आपकी आवाज हैं. इन आँखों में एक ख्वाब पलता है, सुकून हो हर दिल में इक दिया आश का जलता है. - शशि.
शशि का अर्थ है -- चन्द्रमा, तो चाँद सी शीतलता प्रदान करने का नाम है जिंदगी .
शब्दों की मिठास व रचना की सुवास ताउम्र अंतर्मन महकातें हैं. मेरे साथ सपनों की हसीन वादियों में आपका स्वागत है.

follow on facebook

FOLLOWERS

Wednesday, August 31, 2011

जीवन की तस्वीर है यह........!




                                 शिकवा  क्या  करें   इस   जहाँ  से ,
                                       मानवीय  संवेदनाओ   से   परे  है  यह .

                                तकदीर   के   हाथो   खेल   रही ,
                                         जीवन  की  तस्वीर  है  यह.

                                संवेदनाओ   के  हवन  कुण्ड  से  निकलती ,
                                      चमक  नहीं  ये   बेबसी   की  लपटे  है.

                                 दम  तोड़ती  है  यहाँ  संवेदनाए ,
                                           क्यूंकि , बे- गैरत  इंसानो  से ,
                                                       भरा है  यह  जहाँ.

                                  नशे  का गर  हवन - कुण्ड  है  , तो 
                                         लालच  की  है  इसकी  दीवारें .
                                   स्वाहा  होती है  यहाँ  जिदगियाँ  , पर 
                                               कौन  उन्हें  संभाले ......!

                                   कतरा - कतरा   बह  रहा है  खून ,
                                           उजड़   रहे   है  चमन ,
                                   फिर   भी   कोशिश   यही   है  कि,
                                           हम   इन्हें  बचा ले .......!

                                   मासूम   होती   है  ये  जिंदगानी 
                                          क्यूँ     इसे  नरक   बना  दे .

 
                                   कोई   तो  समझाओ , कोई   तो  बताओ ,
                                              इस  हवन -कुण्ड  में .......,
                                   इंसानो  को   नहीं  , अपने   लालच  , और 
                                               बुराइयो   को   जलाओ .......!

                                                           : - शशि पुरवार


                        आज  देश - विदेश   में  नशा  एक  आम  चीज   हो   गयी   है  , नशे   की   लत  लोगो  में   बढती   जा  रही   है . सिगरते , तम्बाकू ., शराब ...... चरस , गाँजा........ आदि . अनेक  प्रकार  के  साधन उपलब्ध  है   और   लोग  जानते   हुए   भी  नशे  का  सेवन   करते  है   और  इन   चीजो   ने   बच्चो   और  उच्च   वर्गीय   महिलाओं   को   भी  अपना  गुलाम  बना  लिया  है  . सरकार   को  इन  वस्तुओ  से  कमाई  होती  है  तो  वह   भी  अपने  मतलब   के   लिए  बंद  नहीं  करती   और  इन्हें   बनाने  वालो  को  तो   सिर्फ  अपनी  मोटी  रकम  से  मतलब   होता  है .
                 मैंने  नशे  के  ऊपर  लेख  लिखा था  , जो  बहुत  पहले  पत्रिकाओ  में  प्रकाशित   हो  चुका  है. पर  ये  गन्दा  धुआं   आज  भी  अपने  पैर  पसार  रहा   है .  आज  मन   हुआ  कि   इस  पर  कविता  लिख  दू  .  यहाँ   कभी   अपना   लेख   भी   प्रस्तुत  करूंगी .
           अगर  मेरे   लेख  या   कविता  से  किसी  को  भी  कुछ  फर्क  पड़ता है ,  तो  मुझे ख़ुशी   होगी   कि  प्रयास  बेकार  नहीं  हुआ.............!



Friday, August 26, 2011

क्यों सोचता है इंसान ........?

                                            क्यो  सोचता  है  इंसान 
                                               होंगे बच्चे  उसके  साथ .

                                          आगे  बढने  की  चाह  में  हम 
                                                  नहीं  रोक   सकते ,
                                                        उन्हें  अपने  पास .

                                         जीवन  भर   की  संजोई  धरोहर 
                                                  संजोये   सपने ,
                                                         बिखर  जाते  है
                                          जब  बच्चे  ,
                                                 दूर  हो जाते  है .

                                            एक तरफ खुशी है  , तो 
                                                      दूसरी तरफ  तन्हाई है.

                                           जीवन  की   साधना ,  आज 
                                                   सफल  हो पाई  है  , फिर 
                                          क्यूँ  जीवन  में  रिक्तता  आई  है  ..... ?
                                                                 : -  शशि  पुरवार

      यह  कविता   पत्रिकाओं  में  प्रकाशित  हो  चुकी है.
            हर  माता-पिता  कि  ये  तम्मना  होती  है  कि  उनके  बच्चे   उच्च  शिक्षा  ले  ,ऊँचा   मुकाम  जिन्दगी   में  हासिल   करे  ,  इससे    उनका  भी   मान   बढेगा .  इसलिए  वह  उम्र  भर  अपने  बच्चो  के  लिए न   जाने   कितने    त्याग   व  जतन    करते   है  . बच्चो   को   उच्च   शिक्षा   व  आगे   बढ़ने   के  लिए  घर   से   बाहर   निकलना  पड़ता   है ,  फिर   वह  वापिस   नहीं   आ  पाते   और   उम्र   के   एक   मुकाम  पर   बच्चो   की   कमी   खलने   लगाती   है .
              उन्हें  जहाँ   एक  तरफ  बच्चो  कि  उपलब्धियो   कि  ख़ुशी  होती  है  ,  वहीं  दूसरी   तरफ  तन्हाई  , अकेलापन , रिक्तता........! 
                बच्चे  तो   जिंदगी  कि  दौड़  में  रुक  नहीं  पाते ...... और  बड़े  उम्र   कि   इस   दहलीज  में  उनके  साथ   दौड़   नहीं  पाते    और   कभी  अपनी    जड़े   छोड़   नहीं  पाते .  जहाँ  इस  उम्र   में  प्यार और   सहारे  कि  जरूरत  होती   वहीं   ,  अकेलापन  उन्हे   जीने   नहीं  देता . 

Thursday, August 25, 2011

नाजुक रिश्ते .......!




                               बहुत   नाजुक   होते   है   ये   रिश्ते 
                                    कांच   से   भी   ज्यादा   ,
                                  कोमल  होते  है  ये  रिश्ते.

                              धोखे    से   लगे   एक   कंकड़   से  भी 
                                चटक   कर  उभर   आते   है   निशान .

                               रिश्ता   कोई   भी  हो , 
                                 अलग - अलग   है  उसके   नाम .

                               हर  रिश्ते  में  होती   है   एक ,
                                    गरिमा  और  उसकी  पहचान .

                                प्यार  से  गर  सीचो  तो 
                                           खिलते   है  फूल .
                                कांटे   गर  बोये  तो
                                      रास्ते   हो  जायेंगे   दूर  .

                                बंद  मुट्ठी   जहाँ   होती  है
                                           एकता   की   पहचान .
                                खुले  हाथ  छोड़   जाते  है
                                        सिर्फ  पंजो   के  निशान.

                                 रिश्तो  की  रस्सा - कस्सी  में   
                                      जहाँ  चटक   जाती  है  दीवारे ,
                                  वही  ढह    जाता   है  मकान  .

                                 नाजुकता  के  कांच  से  बने 
                                            इन  रिश्तो  को 
                                  जरा   प्यार  से   संभालो , नहीं   तो
                                       चारो   तरफ   सिर्फ ,
                                  बिखरे   होगे    कांच.
                                                 :-   शशि  पुरवार



Tuesday, August 23, 2011

सुहानी सुबह .....!



                                             भोर   जब   मैंने   ली  अंगडाई  ,
                                                   सुबह   की   सुहानी  ,
                                                              चंचल   चितवन   ने ,
                                             अधरो   पे   मेरे ,
                                                      मुस्कान   लाई.


                                             चिड़ियो   का  चहचहाना ,  और
                                                     भोर   की  पहली  
                                                                  किरण   का,
                                             चुपके   से   मेरे
                                                         घर   आना ,  फिर 
                                              दिल  में  आशा   की 
                                                        नयी   ज्योत   जगाना .


                                            शीतल   हवा   का  होले   से
                                                       छूकर   जाना  , और 
                                             मन   का  मचल   जाना.

                                            नए   दिन   का  यह 
                                                        सुहाना    सफ़र  ,
                                            भोर  का  यह  
                                                     प्यारा    सा   पल   
                                            खोल   रहा   है , मेरे 
                                                       नयनो   का   पट .

                                                                     :-  शशि  पुरवार

                                कभी   जब   ऐसी   सुबह   मन   को   प्रफुल्लित  करती  है  , तो   दिन  भी  सुहाना   ही   होता   है .  काश   हर   सुबह    इतनी   ही  सुहानी    हो . नया  दिन    सुहाने  सफ़र   के   साथ  .

Wednesday, August 10, 2011

क्या हूँ मै .......... ?



पन्नो   से   पूछती  हूँ  ,
कहाँ    हूँ    मै .......?

 अक्सर   तन्हाइयो    में   सोचती  हूँ ,
   क्या   हूँ    मै... ?

लगता   है    जैसे   पहचान    तो  बहुत   है ,
पर   पहचानता   कोई   नहीं .. !

 दुनिया   की   इस   भीड़   में   भी  ,
   तन्हा   हूँ  मै    !

 तूफानी   हवाओं   के   साथ   ,
   ठिकानो   की    तलाश   है ....!

पतझड़    के   मौसम   में   भी   ,
     बहारो   की   आश   है  .

छलकती   मन   की   गागर   को  ,
    सबसे   छिपाऊ   मै .....!

कागज - कलम    उठाकर   ही  ,
 अपना   दिल   बहलाऊ   मै..........!



 यह   कविता  समाचार   पत्रो   व   पत्रिकाओ   में   प्रकाशित   हो  चुकी  है   .
           कई   बार  ऐसा  होता  है  क़ि  हमारी   पहचान  तो बहुत  होती  है , पर  वास्तव   में   कोई   नहीं   पहचानता ......! 

Monday, August 8, 2011

फिर मानवता बिलख उठी ...!


कितना   बे-गैरत   है   जमाना  
   चाहते  है   एक   आशियाँ   बनाना  . 
 
  मिटटी - गारा   तो  लाये                   
        और  फिर  सामान  फैला  कर  
  इक   टूटा  आशिया  बना  दिया  .


 मानव   मुल्यो   की   क्या   जगह    है   यहाँ  ,
   पर  कीमत  तो   आको 
   मानव  खुद  ही  बिक  जायेगा   यहाँ  !


    प्रेम  क्या  है  ?
     पूछो   इन   माटी  के   पुतलो  से  -

     " पैसा   ही  तो   प्रेम   है  ".

   सुन्दरता  क्या  है   ? 
              पूछो  इन    हस्तियों  से  ,

         "  पैसा  ही  सबसे   सुन्दर  है  " .

  इंसानियत  को   न  जानने   वाले    ये   मानव 
   इंसानियत  का   ही   ढोल  पीटते  है  !

  जिंदगी  से   खिलवाड़   करने   वाले  ये   मानव ,
      सभ्यता  को   कौन   सा   रूप  प्रदान   करते   है  ?

                                    

                                       :  - शशि   पुरवार






यह   कविता   पत्रिकाओ   में    प्रकाशित    हो    चुकी   है

linkwith

sapne-shashi.blogspot.com