सपने

सपने मेरे नहीं आपके सपने, हमारे सपने, समाज में व्याप्त विसंगतियां मन को व्यथित करती हैं. संवेदनाओं की पृष्ठभूमि से जन्मी रचनाएँ मेरीनहीं आपकी आवाज हैं. इन आँखों में एक ख्वाब पलता है, सुकून हो हर दिल में इक दिया आश का जलता है. - शशि.
शशि का अर्थ है -- चन्द्रमा, तो चाँद सी शीतलता प्रदान करने का नाम है जिंदगी .
शब्दों की मिठास व रचना की सुवास ताउम्र अंतर्मन महकातें हैं. मेरे साथ सपनों की हसीन वादियों में आपका स्वागत है.

follow on facebook

FOLLOWERS

Friday, September 30, 2011

अनमोल - अनुपम भेटं " बेटियां "



                                              खुदा  की  दी  हुई 
                                           एक  अनमोल - अनुपम ,
                                             भेटं  " बेटियां "

                                           सोने  जैसी  कांचन  और  ,
                                         हीरे  जैसी  मजबूत  होती  है,
                                                   बेटियां 



                                            चिड़ियों  सी  चहकती ,
                                            हिरनों  सी  मचलती  ,

                                            अपने  प्यारे  हाथो से
                                              दुलार  कर   और 
                                            मीठी  बातो  से ,  सारे
                                              दुःख - दर्द  हर  लेती  है ,
                                                  " बेटियां "



                                          दिल  के  करीब , पर
                                                उतनी  ही
                                          समझदार   होती  है
                                                 बेटियां  .........!



                                            घर  आंगन  में ,
                                           किलकारी  भरती
                                        और  अपने  नवजीवन   में ,
                                            नए  घर  को  भी 
                                          रौशन  करती  है,
                                              ये  बेटियां .

                                       एक  ही  नहीं , दो  परिवारों  का 
                                           मान  बढाती  है ,
                                             ये  बेटियां .

                                      नए  संसार को, नयी  उत्त्पति  देकर 
                                          नया  जीवन  संवारती  है ,
                                                ये  बेटियां .

                                  बेटी - बहन - सखी - पत्नी और माता ,

                                        ये  सारे रिश्ते निभाती है
                                                सि र्फ

                                             "  बेटियां "

                                         बेटियों  से  ही  तो  ,
                                    जीवन  की  उत्पत्ति  होती  है  ...   !

                                      बहुत  ही  अनमोल  है ,
                                           ये  बेटियां .


                                      मत  गर्भावस्था   में ,
                                          मारो  इन्हें .
                                     जग  की  जननी  है ,

                                         ये  बेटियां .. !.


                                      रक्षा  करो  इनकी , 
                                      सम्मान  दो  इन्हें .

                                   नहीं  तो  हमेशा  के  लिए ,
                                         सिर्फ  " यादें  "
                                          बन  जाएँगी ,
                                              ये ,


                                          " बेटियां  "
                                       :-  शशि पुरवार        


Tuesday, September 27, 2011

कलम जब हो साथ .....!

                        


                             हम   कवि   तो   नहीं  , पर 
                                   कविता   लिख   लेते   है .
                            हम   फौलाद   तो   नहीं  ,पर 
                                 ज़माने   का  दर्द   भी   सह  लेते है  .

                            हम   सिर्फ   खुशियो   को  ही  नहीं  ,
                                  गम  को  भी  गले  लगा  लेते  है 

                             ये   जिंदगी   है   क्या  , यह   
                                  हम   जिंदगी  से  ही  पूछ   लेते  है .


                                                  तो ,
 
                                     ये   अम्बर  है  जहाँ  तक . 
                                            वहाँ  तक  है   राहे,
                                 जीवन   की  आखिरी   साँस  तक ,
                                            है ,  जीने  की  है  चाहते .

                                      कलम  जब  हो   साथ  तो ,
                                            मिल  जाती  है  मंजिले,
                                       कविता   में   ही   तो  घुली  है .
                                                     हमारी   साँसे ...!
                                     :-   शशि पुरवार
 डायरी के पन्नों से -


    

Monday, September 26, 2011

शिकवा नहीं किया .....!






                                    बात  बिगड़ी  तो  किसी  से  भी  कोई ,
                                             शिकवा   नहीं   किया .
                                    खामोश रहे   जहर   पी   कर
                                                तमाशा  नही  किया .

                                      सबकी  नजरो  में  रहे,   खुले 
                                                   ख़त  की  तरह .
                                      हमने  लोगो  से  भरम  करके ,
                                            दिखावा  नही  किया .

                                     जो  भी  मिलता  है  देता इक  फरेब  ,
                                               एक  हम   है ,
                                     किसी  से   भी  धोखा  नही   किया .


                                        जख्म  जो  दिल  को  मिला  ,
                                                 फूल  समझा   उसको
                                       इन  बहारो   से  कोई  ,
                                                 तकाजा  नही   किया.


                                         कह   गया  कौन,
                                                 मेरे  दुःख   की  कहानी .
                                           मैंने   तो   इस   बात   का ,
                                                        चर्चा  नही   किया .

                                                                  :-  शशि पुरवार

Tuesday, September 20, 2011

अभिव्यक्ति.............!

 
 
                     अभिव्यक्ति शब्दों से की जाती है                            अनुभूति रचनाओ से ली जाती है.                      दिल में गर जज्बा हो, कुछ कह दिखाने का ,                              फिर लेखनी,  वो काम कर जाती है.                                  लेखनी यदि स्वयं की हो तो ,                                      वह अनमोल हो जाती है .                                     उधार की रौशनी में कभी ,                                    वो चमक नहीं आ पाती.....!
                                              :-शशि पुरवार

Wednesday, September 14, 2011

हिंदुस्तान की पहचान .....! " हिंदी "



                                   अनेक   है  बोली  ,
                                             अनेक  है  नाम  ,
                                         यही   तो   है  ,
                                   हिंदुस्तान   की  पहचान .

                                   इस   हिंदुस्तान   का परचम ,
                                               लहराने के लिए ,
                                  कई   वीरो  ने  है  अपना ,
                                                सर कलम किया .

                                   गर्व   होता   है ,
                                           हिन्दुस्तानी  होने   पर , जहाँ
                                   अनेक   भाषा   के   साथ ,
                                           प्यार  ने  भी  है  जन्म  लिया  .


                                    भाषाओ  की  जब   बात  उठे   तो,

                             "  हिंदी  "   हिंदुस्तान  की   " राष्ट्रभाषा "  है

                                          सबसे   प्यारी , सबसे   न्यारी ,
                                       दिल  के  एहसास  को   छूने  वाली ,
                              हिंदी    हमारी   " मातृभाषा  "  है .

                                रस   में   घुल   जाते   है   शब्द  ,
                                      जब  हिंदी   का  है   प्रयोग  किया.

                                " जन-गन-मन  "   और    " वन्दे-मातरम "  ने   ,
                                              फक्र   से  दुनियां   में  ,
                                            हमारा  नाम   रौशन   किया  .


                                             पर   व्यथा   है   इसकी   एक  ऐसी ,  कि
                                    हिंदी   राष्ट्र- भाषा   होने   के  बाबत ,
                                    राष्ट्र- कार्य   में    अंग्रेजी   का  प्रयोग  हुआ .

                                               रस  मे  घुली   इस   प्यारी
                                                             हिंदी   भाषा  पे ,
                                               ये   कैसा   है  जुल्म   हुआ  .


                                           इधर - उधर   जिसे  भी  देखो
                                            अंग्रेजी   के  सुर   लगाता  है.......!
 
                                      हिंदी  को  तो   हाय  हमारी  ,  आज
                                  बस ,  इस  इंगरेजी  ने  ही  मार   डाला   है..

                                        रस   की   तरह   पीकर
                                               इन   शब्दो   को

                                           हिंदी  का  प्रयोग  करो ,
                                    मातृभाषा   है   यह   हमारी
                                           अब   तो   इसका  सम्मान  करो .

                                        " जय हिंद , जय भारत "

                                                                :- शशि पुरवार

                                    







Saturday, September 10, 2011

मंजिल..........!



                                       मंजिल   नयी  सजानी  है  ,
                                             रास्ते  नए   बनाने   है  .

                                    आकाश   के   टिमटिमाते  तारो  में  
                                             एक   पहचान  हमारी   बनानी  है.

                                    चन्द्रमा   की   उंचाइयो  तक  पहुच  कर
                                             उस पार   हमें   तो   जाना  है  .

                                    सूरज   की  तपन   में  तप   कर 
                                            कुंदन   हमें   बन   जाना  है  .

                                    हर   पथरीले   रास्तो   से    गुजरकर   ,
                                          एक  राह   हमें   बनानी   है .

                                   चन्द्रमा   सी   शीतलता   लेकर ,
                                               राहो   को  ,
                                   इन   शीतल   किरणो  से  सजाना  है  ....!

                                  अमावस   न  आये   किसी   के  जीवन    में ,         
                                               ऐसी  ज्योत  जलानी   है.

                                   दीपो   की  मालाये   बनाकर   ,
                                         खुद   ही  राहो  में  बिछानी  है  .  

                                      मंजिल   कितनी   भी   हो दूर  ,
                                              पास   उसके   जाना   है ..
                                              मंजिल    तो  हमें  पानी   है,        
                                      मंजिल   नयी  सजानी  है ..........!

        जिंदगी  में  इतने  उतार-चढ़ाव  आते  है  कि   कई  बार हिम्मत  टूट   जाती   है  .  पर  उठ   कर   निरंतर   चलते   रहने   का   नाम   है   जिंदगी   .  जिदगी   के   हर   मोड़  पर  नजर   आती   है   मंजिल  , तो   वहां   तक  पहुचने  के  लिए  हर   कटीले   रास्तो  को  मुस्कुरा कर   पार   करने    का   नाम  है  जिंदगी  ...... !
         चन्द्रमा   की  तरह   शीतलता   बिखरने  और   शीतल   किरणो   से  सजाने   का  नाम   है   जिंदगी  . 
     शशि   का  अर्थ   है   चाँद ,  तो  चाँद   की  तरह   शीतलता  प्रदान   करने   का   नाम   है   जिंदगी  . डायरी के पन्नों से बचपन की कलम

                           :-    शशि  पुरवार

linkwith

sapne-shashi.blogspot.com