सपने

सपने मेरे नहीं आपके सपने, हमारे सपने, समाज में व्याप्त विसंगतियां मन को व्यथित करती हैं. संवेदनाओं की पृष्ठभूमि से जन्मी रचनाएँ मेरीनहीं आपकी आवाज हैं. इन आँखों में एक ख्वाब पलता है, सुकून हो हर दिल में इक दिया आश का जलता है. - शशि.
शशि का अर्थ है -- चन्द्रमा, तो चाँद सी शीतलता प्रदान करने का नाम है जिंदगी .
शब्दों की मिठास व रचना की सुवास ताउम्र अंतर्मन महकातें हैं. मेरे साथ सपनों की हसीन वादियों में आपका स्वागत है.

follow on facebook

FOLLOWERS

Saturday, October 29, 2011

ख़ामोशी कुछ कहती है ......




                                              ख़ामोशी , 
                                            बड़ी  अदा  से 
                                           पल - पल  कुछ ,
                                              कहती  है .


                                         बर्फीली  वादियों   में  
                                          सन्नाटे   को  चीरती ,
                                              ख़ामोशी .


                                      गुलशन  की  वादियों  में ,
                                            फूलो  संग ,
                                            लिपटी  हुई 
                                            ख़ामोशी .


                                        मधुर   बेला   में ,
                                            गुदगुदाती 
                                             ख़ामोशी .


                                          पीड़ा   में  ,
                                      चीत्कार  उठती  है 
                                           ख़ामोशी .


                                            शब्द गुम 
                                           मौन  मुखर  ,
                                             ऐसे  में ,
                                       ख़ामोशी  को  भी 
                                           खूब  सताती
                                             ख़ामोशी .


                                          चंचल   चितवन ,
                                          या  आहत  मन 
                                             संग  खूब  
                                             बोलती  है 
                                              ख़ामोशी .

                                         खामोश नजरो से
                                            हाले दिल
                                           बयां  कर
                                      अदा  से  इठलाती  है
                                            ख़ामोशी .

                                                 :-  शशि  पुरवार

                           मौन  भी  मुखर  होते  है , ख़ामोशी  भी  बोलती है , हर  समय  शब्दों  का  ताना - बाना   नहीं  होता , परन्तु  कई  बार  ऐसा  होता  है  कि  शब्द  गुम  हो  जाते  है  और  ख़ामोशी  का  आलम  छा  जाता  है . मौन  को  पढना  और  ख़ामोशी  को  समझना  भी  एक  कला  है ........!



Tuesday, October 25, 2011

शुभ दीपावली /_\







                                             
                                                  शुभ  दीपावली                                                                       रंगों से खूब सजी ,
                                      दे रही नयी उमंग
                                   झिलमिल रौशनी संग
                                   दीपों की इन सुनहरी
                                      मालाओ के साथ
                                         शशि करती है
                                        आपको नमस्कार
                             आप  को एवं आपके परिवार की  सबकी दीपावली मंगलमय हो .....  /_\          
                                       "शुभ दीपावली "
                                                           :- शशि पुरवार

अभी व्यस्तता के कारण आप सबके ब्लॉग पर नहीं आ पा रही हूँ , जल्दी  ही  आपसे आपके ब्लॉग पर मिलूंगी . दीपावली की हार्दिक शुभकामनाये ........ /_\

Monday, October 24, 2011

हयुक संग दीपावली पर्व ........!!!!!!

                 १)             हयुक  संग 
                             दीपावली  पर्व  की 
                               फुलझड़ियाँ .

                 २)            त्योहारों  की 
                             रंग - बिरंगी  छठा 
                               दुकानों  पर .

                  ३)              दीपावली  में 
                              हर्ष , उल्लास  खास 
                                मुबारकबाद .

                  ४ )          मिठाईयों  में 
                               डिजाइनर  सेप
                               सुगर  फ्री  भी .

                  ५)            उपहार  है 
                             जीताजागता  रूप 
                              भावनाओ  का .

                  ६)           कंदील  संग 
                              मन  का  प्रकाश 
                                प्रज्वलित .

                  ७)          पटाखों  संग 
                             असावधानी घात
                                 ऐहतिहात .

                  ८)            पटाखों  से 
                              ध्वनी , वायुमंडल 
                                प्रदूषण  भी .

                  ९)          मिलावट  भी 
                              बुराई  का  प्रतीक
                                रावण  आज  .

                १०)            प्रियजन  की 
                             अनमोल  सौगात 
                               शुभाशीर्वाद  .

                ११)              रिश्तो में 
                             दिलों की है मिठास 
                                 बेहद खास .

                 १२)             मित्रगण भी 
                                 है  एक  परिवार 
                                   प्रियजन  संग .
                                       :- शशि पुरवार

 सभी मित्रो को दीपावली की हार्दिक बधाई , व्यस्तता के कारण समय नहीं दे पा रही हूँ  जल्दी ही आप सभी के ब्लॉग पर आउंगी , तब तक के लिए छमा चाहती हूँ . 
आप सभी की दीपावली मंगलमय हो :-- शशि पुरवार

Tuesday, October 18, 2011

अमावस का तम

                                         
                                            दीपावली का त्यौहार 
                                            जले  लड़ियाँ  हजार 

                                            अमावस  का  तम
                                            लड़ा  रौशनी  संग.

                                        गोधुली साँझ की बेला में,
                                          लक्ष्मी  संग  गणेश
                                            का  आगमन.


                                          चहुँ  ओर  छाए
                                         टिमटिमाते  पंती,
                                         पटाखों  का  गुंजन
                                        जग  हो  जाये रौशन.

                                         रॉकेट संग उमंगें
                                         करे  नभ  से रीत

                                        पैगाम  दे  मुकाम  का
                                       प्रयत्न  संग  जोड़ो  प्रीत.
                                                  :-  शशि पुरवार

Saturday, October 15, 2011

मौत क्यूँ ........ ? जीवन अनमोल है ......!

" जिन्दगी पथ है ,मंजिल की तरफ जाने  का ,
  मौत गीत है , सदा मस्ती में गाने का .
 जिन्दगी नाम है ,तूफान से टकराने का ,
 मौत  नाम  है  आराम  से  सो  जाने  का ."

किसी  शायर  की  ये  चंद  लाइन  कुछ  न  कहते  हुए  भी  बहुत  कुछ  कह  जाती  है . जिन्दगी  के   प्रति हिम्मत  दिलाती  हुई  इन  चंद   पंक्तियो  ने   जिन्दगी   और  मौत  के  अंतर  को  आसानी  से  व्यक्त  कर  दिया है  .  पर  लगता  है  यह  सिर्फ  किताबो  के  बंद  पन्नो  में  ही  उलझ  कर  रह  गयी  है  और  जिन्दगी  की जगह  मौत  का  खेल  होने  लगा  है .........लोगो  का  जिन्दगी  देखने  का  नजरिया  भी  बदलने  लगा  है .
                   हम  अक्सर   समाचार  पत्रो  में  व  मिडिया  द्वारा  मृत्यु   की  खबरे   देखते   सुनते  है ......युवा  हो  या  जवान , उम्रदराज  हो  या  अन्य  , वालीवुड  कलाकार  हो  या  किसान ....आदि  ने  मौत  को  गले  लगाया  है .
          यह  हमारे  देश  का  दुर्भाग्य  है  कि  लोगो  की  नजर  में  जिन्दगी  की   अहमियत  कम  होती  जा  रही  है .  बीते  वर्षों  में   किसानो   की  आत्महत्या  ने   भी  कई   सवाल  खड़े  किये  थे .  मरने  वाला  चाहे साधारण   इन्सान  हो  या  चमकता  सितारा ....... इस   तरह  मौत  को  गले   लगाना   शर्मसार   करता   है .  ऐसे  लोग दूसरो  की  सोच  को  भी   गलत   दिशा  की  तरफ  मोड़  देते  है . हम   अक्सर  पढ़ते  व  सुनते   है  कि   परीक्षा   की  असफलता  , प्रेम   की   नाकामी  , पारिवारिक  कलह  , नौकरी  , तंगहाली , बेरोजगारी , कर्ज  , अवसाद  व  सफल   न   हो   पाना ......... इत्यादि  अनेक  ऐसी   बाते  है   जिसके   चलते   लोग   मौत   को   गले   लगाते   है .  परन्तु   इसके   अलावा  मौत   का  बाकायदा  खेल   भी  होने  लगा  है  , जिसमे समझदार    के   साथ  मासूम  भी   फँस  जाते   है . मौत   के   ऐसे   सौदागर   भी   है   जो   मौत   को   बेच रहे   है ......... आजकल   तो   बम   ब्लास्ट  , मानव   बम   भी   आम   हो   गए   है ..............बस   एक खेल   और   जिंदगी   ख़त्म....  !

  मौत   का   यह   मंजर   दिल  दहला   देने   वाला   होता   है ......मौत   के   इस   खेल   पर   रोक   लगाना  बहुत   जरूरी  है . जिन्दगी   को   दाँव  पर   लगाना   कहाँ   की  समझदारी  है .   इस   तरह   के  लोगों   ने   जिन्दगी  को   एक  मजाक   बना  दिया  है ......... उनके  द्वारा  किया  गया  यह  जघन्य  कार्य .......  वास्तव   में  शर्मसार  व  परिजनों   के   लिए   कष्टदायी  होता है .  जो  भी   लोग   आत्महत्या   जैसा  कदम   उठाते   है   वे   यह   भी   नहीं    सोचते   की   माला  का   एक   मोती   यदि   टूट    जाता  है  तो माला   पहले    जैसी  नही   रहती   है  , उसमे   बिखराव   आ   जाता  है  और  वह  स्थान  कभी  नहीं   भरता .........!

    मौत   को   गले   लगाने   के   पहले   लोग  यह  भी  नहीं  सोचते  कि  उनके  मरने  के  वाद  उनके निकटवर्ती   एवं  परिवार   का   क्या  होगा ........?  वे   खुद   तो   मृत्यु    का   वरण   करते   है  , परन्तु   कई   सारे  प्रश्न   अपने   परिजनो   के   लिए   छोड़   जाते   है .  मरने   वाले   के   साथ   उसका  परिवार  भी  जीते   जी   मर   जाता   है  .  परिवार   का   हर   सदस्य  संदेह  , शक  व  प्रश्नो   के   ऐसे    कठघरे   में खड़ा   हो   जाता   है   कि  उसे  सामान्य   जीवन   जीने   में   भी   कई   वर्ष   लग  जाते   है  .  कई   बार  तो   लोग  इस   सच   से   परेशान   होकर   शहर   भी   बदल   लेते   है   .............   परन्तु    उन   बातो के   निशान   कभी   नहीं  जाते .

            सच   तो   यह   है  कि   वे   ही   लोग  मौत   को  गले   लगाते   है   जो  कायर  होते   है  ,  जिन्हें संघर्ष   से   डर  लगता  है . मरना   कोई   बड़ी   बात   नहीं , मर  तो   कोई   भी   सकता   है .......... परन्तु  असली   साहस   तो   जीने   में   है . सच्चा   एवं   बहादुर   वही   होता   है   जो   जिन्दगी   में   हर   कडवे   व   मीठे   सच   का   सामना   करते    हुए   जिन्दगी   कि   जंग   जीतता   है   .  वह    जीवन   ही   क्या जिसमे   संघर्ष   न   हो   . जीवन   में   कब   क्या   होगा   कोई   नहीं   जानता   ,  आने  वाला   हर   पल   एक   इंतिहान   होता   है   .  जीवन   के   आने   वाले  पलो   को   तो   कोई   नहीं   बता   सकता ......... परन्तु   मरने   के  बाद   तो   जीवन   बदल   जाता  है  .  जीवन   के  कष्टों   से   भागने   या   खेल  - खेल  में   जिन्दगी   को   दावं   पर   लगा   देना   समझदारी   नहीं  .  जो   लोग   जीने   में   यकीं   रखते   है   वे मौत   के  बारे   में   नहीं   सोचते , जीवन   से   नहीं   डरते ..........!
   कहने   का   तात्पर्य   है   कि  इन्सान   कई   बार   अपने   मन   से   मरता   है   पर   फिर   भी  जीना   नहीं  छोड़ता  क्यूंकि  एक   न   एक   दिन  सभी  को मरना  है , तो  फिर  जीवन  से   हार   क्यूँ   मानी   जाए ................?

हर   सुबह   एक  नयी   किरण   लेकर   आती   है   और  जाते   समय  अंधकार  दे  जाती  है , पर  फिर  एक नई   सुबह   का   वादा  करके| उसी   प्रकार  जिंदगी  में  भी  अंधकार   के   बाद   सबेरा  होना  ही   है   तो  क्यूँ   न   उस   सुबह  की  सुनहरी   किरण  के   इंतजार   में   अँधेरे  को  भी   ख़ुशी   से  जिया  जाए .............!
                     हर   तूफान   के  पूर्व   शांति   है ,  हर  पतझड़   के  बाद  बहार   है ,  हर  जीवन   का  अंत मौत  है ......... पर   यदि  जीवन  निडरता  पूर्ण  जिया   जाए   तो   मृत्यु  भी   सुखद   होती  है .
                         यदि    इस   सत्य  को   हम  हमेशा  याद   रखे   तो   जीवन   के   संघर्ष   बहुत  आसान हो   जाते   है   जो   हमेशा   एक - दूसरे   के   लिए   प्रेरणादायी  रहते   है   .  यदि   सभी   यह   प्रण  करे  कि वे   मरने   जैसा   कायरतापूर्ण   कार्य   न   खुद   करेंगे  और   न   किसी   दूसरे   को   करने   देंगे   , तो   आप जो   मानसिक   सुख   पाएंगे  वो  अनमोल   होगा  .   जीवन   एक   सुख - दुःख   के  पहियो   से   बनी   एक ऐसी   गाड़ी   है  जो   हर   डगर  पर  चलती है   और  यह  गाड़ी   हर   किसी   को   नहीं   मिलती  .  जीवन तो   किस्मत   वालों   को   ही   मिलता   है .  तो   फिर   अपने   इस   अनमोल   जीवन   पर   मृत्यु   का ग्रहण   स्वयं  न   लगाये  ,  यह  काम  वक़्त   के  लिए   छोड़   दे . जब     भी   कभी   उदास   हो   तो निराशा  को   दूर   करने   के   लिए   अपने   अच्छे   पलो   को   याद   कर   ले  , जो   जादुई   अमृत   का    काम   करता   है   और   तन  -  मन   में   नया   संचार   एवं   स्फूर्ति  भर   देता है . ऐसे   समय   नयी  सोच के   साथ   नई   शुरुआत   करे  , आने   वाली   सुबह   की   सुनहरी   किरण   कभी   आपके    जीवन   में   भी   प्रकाश    फैलाएगी .
   जीवन  अनमोल   है   उसकी   सुरक्षा  कीजिये ..!

                                                       :  --   शशि - पुरवार
पत्रिका में प्रकाशित .


Wednesday, October 12, 2011

क्यूँ एक आस..............!

                                    उसके खोने का  है  गम 
                                     जो न था कभी अपना ,
                                   इस बात का है मुझे एहसास 
                                   आज दिल फिर क्यूँ उदास ...?

                                     इसी काबिल  था यह शायद
                                    रह जाये  अकेले  सफ़र में,
                                    अब साया भी न मेरे पास 
                                     दिल में फिर भी बची 
                                          क्यूँ एक आस.

                               चंचल मन , तर्क पूर्ण बुद्दि के बीच
                               हो रहे भयंकर इस अंतरद्वन्द  में ,
                               किसका अनुकरण करूं में 
                                 अंतत: हार निश्चित है ,
                                     क्यूँ साथ है ....?

                                  उलझ गयी  हूँ इस सोच में 
                                  सोचती  हूँ कुछ और सोचूँ ,
                                  एक नयी सोच की तलाश है 
                                    आज दिल फिर उदास है .

                                    उसके खोने का .............!
                                                   :-  शशि पुरवार 


Saturday, October 8, 2011

निरह सी आँखे ,


                
                                        निरह  सी आँखे ,
                                          देख  रही  है 
                                         ख्वाब  सुनहरे
                                         सपनो  के.

                                        सफ़र  है कठिन ,
                                         होसले  बुलंद ,
                                         पल-पल  नयी
                                         तलाश  में
                                         गुजरते  क्षण .
                                  
                                      ठिठुरती  रात  में
                                       सिहरता  तन
                                       नीलगगन  तले
                                       तक  रहे  नयन .

                                        रात  बीती ,
                                       नयी  सुबह  ने
                                        ली  अंगड़ाई .
                                        दिल  में  एक
                                        आस  आई
                                       काश  चार  दिवारी  में 
                                        बंद  होते  हम
                                       : - शशि पुरवार

                     

Wednesday, October 5, 2011

क्षणिकाएं .......

                                               दशहरा 
                                              रावण के  संग 
                                              बुराई- पाप  का
                                              अंत  किया.
                                             
                                             -----------------

                                              दीपावली 
                                            जगमग रोशनी संग 
                                              अंधकार 
                                             दूर  दिया .

                                           ---------------------

                                            प्यार प्रतीक है 
                                             दिल का 
                                            विश्वास की
                                             ज्योत से 
                                          प्रज्वलित  किया .

                                          ------------------------

                                          जीवन एक समंदर 
                                           आशाओं  की 
                                            नैया संग 
                                         हर  कठिनाई को 
                                          पार किया .

                                          :- शशि पुरवार


आप   को  व  आपके  परिवार  को  दशहरे  की  हार्दिक शुभकामनाये .
आपके  जीवन  में  खुशियों  की  बौछार  हो  यही  हमारी  कामना  है .
:-  शशि पुरवार

Monday, October 3, 2011

और हमारा तुमसे मिलना ............1





                                           जीवन एक सुंदर सपना ,

                                         और  हमारा तुमसे मिलना ,

                                         इस कदर अपनों सा चाहना ,

                                          आँखों से यूँ  प्यार बरसना  ,

                                         अब तो ठंडी आहें  भरना,

                                          यूँ हमारा तुमसे बिछड़ना ,

                                            देखना , जी लेंगे हम ,

                                              यादों  में तुम्हारी ,

                                           प्यारे मित्र  और सखियाँ .

                                   बचपन  के  दिन  भी  कितने  सुंदर  होते  है - मित्र , सखियाँ  ,सहेलियां ......और  हंगामे .  पर  एक  वक़्त  ऐसा  भी  आता  है  जब  सब  बिछड़  जाते  है  हमेशा  के  लिए , क्यूंकि  जिंदगी  के  आयाम  बदल जाते  है  और  ये  सारे  पल  फिर  से  चाह  कर  भी  नहीं  आ  पाते . ऐसा  सिर्फ  लड़कियों  के  साथ  नहीं होता, लड़कों   के  भी  साथ  होता  है , क्यूंकि  जिंदगी  एक  की  नहीं  दोनो  की  बदलती  है  , और  एक  नयी  दुनियां  नजर  आती  है . वास्तव  में  बचपन  के  मासूम  दिन  बहुत  ही  खूबसूरत  होते  है .डायरी के पन्ने 
                       :- शशि पुरवार


Sunday, October 2, 2011

"सच का आइना " .

                                          महंगाई   की  ,
                                          मार  तो  देखो 
                                      और  इन   नेताओ  की  ,
                                          चाल  तो  देखो  .


                                        कान  तो  बंद  है ,
                                        खुली  है  आँखे
                                  फिर  भी नजर  नहीं  आ  रहा ,
                                     इन्हें  जीवन  के कडवे ,
                                      "सच  का   आइना  " .

                                    इसी तरह के  झंझावत   में  ,
                                         गुजर  रही  है,
                                      कई  जिन्दगानिया.
                                  
                                         वस्त्र   नहीं  है,
                                       तन   ढकने  को ,
                                         छत   नहीं  है  ,
                                     सिर  छुपाने  को, और
                                     अन्न  नहीं  है  खाने  को.


                                    फिर  भी  किसी  तरह ,
                                        सड़क  किनारे  
                                        जी  रही  है  ,
                                     ये   मासूम  जवानिया .

                                       महंगाई का दानव  ,
                                          छल रहा ,
                                      काला धन भर रहा,
                                        कोई तो , इनका 
                                         संहार करो . 

                                      भ्रष्टाचार  रुपी इस 
                                          रावन का ,
                                          मिल कर 
                                          दहन  करो .
                                          :-  शशि पुरवार
 
 यदि हर इन्सान प्रण ले कि भ्रष्टाचार का दहन करना है , तो ये दानव स्वतः ही दम तोड़ देगा ......!   
                  

   

Saturday, October 1, 2011

नजराना..........!




                                             कागज  के  यह  
                                              चंद  टुकड़े (पन्ने )  ,
                                          नजराना  समझ  कर
                                                रख  लेना .
                                            इन  पत्थरों  की  तुलना  ,
                                                हीरे  से  न  करना .

                                         कल  हम  रहें  या  ना  रहें 
                                              बेगाना समझ कर ही  ,
                                                याद   कर  लेना .

                                               ये   जिंदगी  है  ,
                                               जब  तक  बाकी 
                                               याद   रह  जाये ,
                                               तो  मिल  लेना .


                                                तोहफे  में  दिए  ,
                                               इन  पन्नो  को  ही 
                                                  प्यार   की  
                                                भेंट  समझना .
                                                       :-  शशि पुरवार

कई बार हम तोहफे में  सिर्फ कार्ड या कुछ लाइन  हमारे प्रिये जनों को देते है , जो सबके लिए अनमोल नहीं होती हैं। आज लोग रूपये से ही तोहफे का वजन तोलते है . कागज के टुकड़े , का मतलब यहाँ पन्नो से है. यहाँ कागज  को पत्थरों  के सामान बेजान मन गया है जिसका कोई मोल नहीं होता , पर हीरे का होता है ....... ज्यादातर  लोग तोहफे  का मोल देखते है ,देने वाले का दिल और मन नहीं , हर किसी के लिए कार्ड  या लेखनी का मोल नहीं होता ,जिसे वह कुछ समय बाद फ़ेंक  देते है . आज कितने लोग कार्ड और पत्रों का मोल समझते है,इसी बात को अलग -अलग शब्दों में दर्शाने की कोशिश ......! डायरी के पन्नों से 











linkwith

sapne-shashi.blogspot.com