सपने

सपने मेरे नहीं आपके सपने, हमारे सपने, समाज में व्याप्त विसंगतियां मन को व्यथित करती हैं. संवेदनाओं की पृष्ठभूमि से जन्मी रचनाएँ मेरीनहीं आपकी आवाज हैं. इन आँखों में एक ख्वाब पलता है, सुकून हो हर दिल में इक दिया आश का जलता है. - शशि.
शशि का अर्थ है -- चन्द्रमा, तो चाँद सी शीतलता प्रदान करने का नाम है जिंदगी .
शब्दों की मिठास व रचना की सुवास ताउम्र अंतर्मन महकातें हैं. मेरे साथ सपनों की हसीन वादियों में आपका स्वागत है.

follow on facebook

FOLLOWERS

Wednesday, November 9, 2011

छुपती - छुपाती ......परछाईयां,

                                            परछाईयों  से  है,
                                            नाता   पुराना 
                                            साथ  चलती,
                                            परछाईयाँ 
                                            दिखाती  हैं  , 
                                         क़दमों  के  निशां .

                                           चांदनी  रात  में 
                                           छुपती - छुपाती  
                                             परछाईयाँ,
                                           उजागर  करती  है 
                                         अतीत  के  पन्नों  को .

                                          चंचल  हिरनी  सी  
                                           चपल , लजाती ,
                                         अपने  अस्तित्व  का ,
                                          अहसास  कराती .
                                         सुख - दुःख  का  मेरा 
                                             सच्चा  साथी ,
                                         मेरी  हर  तस्वीर  का
                                            आइना  है , ये 
                                              परछाईयाँ .

                                       बचपन  में   " चंचल "
                                       जवानी  में  " अल्हड "
                                       बुढ़ापे  में   " तठस्थ "
                                         हर  पल  रूप ,
                                      बदलती  " परछाईयाँ".
 
                                      कभी  नजदीक  है  आती 
                                        कभी  दूर  हो  जाती ,
                                          ढूँढो , इनको ,तो 
                                          खुद   का   ही ,
                                        प्रतिबिम्ब  दिखाती .


                                       पलभर   में  गुम
                                       पलभर   में  पास ,
                                     ख़ामोशी   से  कहती 
                                      सदा  एक  ही  बात ,
                                      हम  तो  जीवन  भर 
                                        साथ  निभाती .

                                      हमकदम , हमनशीं 
                                        हमसफ़र , मेरे 
                                        अन्तःस   का 
                                          आइना 
                                       " परछाईयाँ "
                                                  :-   शशि पुरवार

डायरी के पन्नों से - 


          

linkwith

sapne-shashi.blogspot.com