सपने

सपने मेरे नहीं आपके सपने, हमारे सपने, समाज में व्याप्त विसंगतियां मन को व्यथित करती हैं. संवेदनाओं की पृष्ठभूमि से जन्मी रचनाएँ मेरीनहीं आपकी आवाज हैं. इन आँखों में एक ख्वाब पलता है, सुकून हो हर दिल में इक दिया आश का जलता है. - शशि.
शशि का अर्थ है -- चन्द्रमा, तो चाँद सी शीतलता प्रदान करने का नाम है जिंदगी .
शब्दों की मिठास व रचना की सुवास ताउम्र अंतर्मन महकातें हैं. मेरे साथ सपनों की हसीन वादियों में आपका स्वागत है.

follow on facebook

FOLLOWERS

Thursday, December 29, 2011

मिले सभी को .......



                                               भविष्य के संदूक में छुपे हुए अनके
                                                     अनंत तोहफे , जिंदगी के .
                                              दिल  झूमा , उमंगो ने ली फिर
                                                  अंगड़ाई , मीठे सपनो की
                                           महफ़िल नैनों में बारात बन कर आई .

                                        बिता  समय , बीती बतिया . दुःख ,कष्ट ,
                                          तकलीफे ,आतंक ,महामारी ,भ्रष्टाचार ,
                                                   महंगाई का गरमा है बाजार .
                                              छोड़ो यह तो रोज  का है समाचार .

                                            गरीबों का हर दिन , जब भी मिले
                                                काम  का मेहनताना ,होता है
                                               खुशियों का छोटा सा खजाना .
                                           छोटे से नीड़ व  , नयनो में  भरा है,
                                              उम्मीदों और उमंगो का खजाना .
                                                   उम्र नहीं होती काम की ,
                                               वक़्त नहीं मिलता बार -बार
                                           हर पल को जिलो , यही  देगा यादों
                                                     का सुंदर संसार .

                                             नए वर्ष की चमक  चहरे  पे
                                                  ठंडी की भी है बयार ,
                                                    सूर्ये की लालिमा ,
                                                 चिड़ियों की कलवल
                                               बाहें पसारे सब कर रहे
                                                 नव वर्ष का स्वागत .

                                            जीवन हो जाये  संगीतमय
                                                    फूलों सी महक
                                                सितारों सी   चमक ,
                                                खुशियों की बौछार
                                               दिल से दुआ है यही
                                                   मिले सभी को
                                     नववर्ष का  यही  प्यारा सा उपहार .
                                                              :-  शशि पुरवार

Friday, December 23, 2011

नया नहीं है .यह बस ......!

  
                                 दैनिक जीवन की जब बात चले
                                घडी व नारी नजरो के सम्मुख
                                       आ  हुए है खड़े .

                                  अनवरत , दृढ़ , अविचल
                                 नारी  ... घडी के  समान
                                    सदैव धुरी सी घुमे .

                                    सुख का पल हो या
                                     दुःख का मातम ,
                                   जवानी हो या बुढ़ापा
                                स्वयं को सम्हाले , अडिग
                              पाषाण ,निरंतर फिर से  उठे ,
                           अपने कार्य की गरिमा को निभाते चले .

                          नया साल हो या जीवन का नया पल ,
                            घडी , नारी , वक़्त के साथ
                                    बस चलते ही  रहे .
                              नारी कई पदों पर कायम ,
                              पर नर की ही है पहचान
                              ब्रम्हा जी की इस सृष्टि में
                               नए साल पर हम करते
                                  दोनों को सलाम .
                               नया नहीं है यह बस ,
                             वक़्त की है बात ,जब
                             भी नयी राह वक़्त से मिले
                                 तभी नया साल .
                                      :-शशि -पुरवार

Tuesday, December 20, 2011

हयुक ........शब्द है गुम........

                                            १)    बर्फीली घाटी
                                                 सन्नाटे को चीरती
                                                    हुयी ख़ामोशी .

                                            २)   शब्द है गुम
                                                 मौन हुआ मुखर
                                                  खामोश बातें

                                          ३)     एकाकीपन
                                               बिखरी है उदासी
                                                स्याही ख़ामोशी

                                        ४)     आतंकवाद
                                             जीवन के उजाले
                                              की स्याही रात

                                         ५)    गहन रात
                                            छुप गया है चाँद ,
                                             कृष्ण -पक्ष में .

                                       ६)    चुप है रात
                                           ख़ामोशी लगे खास
                                              वृन्दावन में .

                                     ७)    साक्षी है रात
                                        कृष्ण -राधा का रास
                                            वृन्दावन में.

                                     ८)    मन दर्पण
                                         दिखता है अक्स
                                            चेहरे संग.

                                   ९)    चन्दन टिका
                                        मस्तक पे है सजा
                                           शिव-शंकर .

                               १०)      राग - बैरागी
                                      सुर गाये मल्हार
                                        छिड़ी झंकार .

                                  ११)   धरा -अम्बर
                                        पे तारों की चुनर
                                         सौम्य श्रंगार .

                                  १२)   तन चन्दन
                                       जले मनमोहिनी
                                          अगरबत्ती .

                                   १३)   मोहक रूप
                                       फूलों संग श्रंगार
                                          छुईमुई सा .

                               १४)     सुंदर स्वप्न
                                       तितली बन उड़े
                                         अखिंयन में .

                                  १५)    है फूल खिले
                                        गुलजार है मन
                                          मधुबन में .

                                  १६)  सूखे है पत्ते
                                      बदला हुआ वक़्त
                                        पड़ाव , अंत .

                                    १७)  सूखी पत्तिया
                                      बेजार हुआ तन
                                       अंतिम क्षण .

                                 १८)   हिम शिखर
                                     मनमोहिनी घटा
                                      अप्रतिम सा .

                                  १९)   परिवर्तन
                                    वक़्त की है पुकार
                                        कदम ताल .

                                  २०) नव वर्ष की
                                    शुभ बेला है आई
                                       ले अंगड़ाई.

                                  २१)  गहन रात
                                       पूनम का ये चाँद
                                        खिलखिलाता.

                                २२)    मेरी जिंदगी !
                                      मेरे ख्वाबों को तुम,
                                       नया नाम दो .

                                  २३) साँसों में बसी
                                      है खुशबू प्यार की,
                                        तुम जान लो  .

                                  २४) प्यार के पल
                                       महक रही यादें
                                         तन्हाई संग .

                               २५)     सुहानी धूप
                                       सर्द हुआ मौसम ,
                                          सिमटा वक्त

                                 २६)   सजी तारो से
                                      रात , बिखेरे छटा
                                        पूनों का चाँद .

                                 २७)    बाजरा -रोटी
                                      घी संग गुड डली
                                       सौंधी -सी लगे .

                                 २८)    पीली सरसों
                                 मक्के दी भाखरी ,लो
                                     सर्दी है आई.

                                              :-   शशि पुरवार
                                                                  प्रकाशित हुए हयुक .

Friday, December 9, 2011

सुंदर स्वप्न........!

                                          सुंदर  स्वप्न,
                                     तितली  बन  के उड़े,
                                         अखिंयन  में .

                                       फूल खिले , तो
                                     गुलजार  हुआ है  मन ,
                                      दिल  जोहे  है  वाट
                                       मधुबन   में ...!

                                      पवित्र  प्रेम  की
                                   बिखरी   है  कलियाँ,
                                   सिमट  गयी  बतियाँ
                                  खो  गए  , नीलगगन  में .

                                तारों  ने   भी  दी  है  सौगात
                                  खिला  पूनम   का  चाँद,
                                 रौशन   हुयी  दिल  की  बगिया
                                        गुलशन  में ....!

                                     अब  आये  न  होश
                                       हुए  है   मदहोश  ,
                                   छाया  अनुपम  सौन्दर्य 
                                      बगियन  में ...!

                                     सुंदर स्वप्न .....!

                                                  : - शशि पुरवार

डायरी के पन्नों से -




Tuesday, December 6, 2011

हायुक ...

                                       १) कॉपी - पेस्ट
                                           मूल दस्तावेजों
                                            संग अपराध .

                                      २ )  शक , दीमक
                                           रिश्तो में दूरियां
                                             मकड़ीजाल .

                                     ३ )   रचनाओं पे
                                         शब्दों की समीक्षा
                                            मेहनताना.

                                      ४ ) माँ  का दुलार
                                         सुरक्षा  का कवच
                                           शिशु जीवन .

                                   ५ )  मन की जीत
                                        सुनहरा प्रकाश
                                          प्रज्वलित .

                                   ६ )   परिवार है
                                      सुखी जीवन की
                                       असली नीव.

                                 ७ )    गुलशन में
                                      फूलो संग लिपटी
                                         हुई ख़ामोशी .

                                ८ )  विष  सा  कार्य
                                     रिश्तो में शोषण 
                                       कड़वाहट .

                                ९ )   है जानलेवा
                                     केंसर से खतरा
                                        मदिरापान.

                                10)  दिल पागल
                                    दीवानापन , प्यार
                                      है  दिलदार .

                                         :- शशि पुरवार



linkwith

sapne-shashi.blogspot.com