सपने

सपने मेरे नहीं आपके सपने, हमारे सपने, समाज में व्याप्त विसंगतियां मन को व्यथित करती हैं. संवेदनाओं की पृष्ठभूमि से जन्मी रचनाएँ मेरीनहीं आपकी आवाज हैं. इन आँखों में एक ख्वाब पलता है, सुकून हो हर दिल में इक दिया आश का जलता है. - शशि.
शशि का अर्थ है -- चन्द्रमा, तो चाँद सी शीतलता प्रदान करने का नाम है जिंदगी .
शब्दों की मिठास व रचना की सुवास ताउम्र अंतर्मन महकातें हैं. मेरे साथ सपनों की हसीन वादियों में आपका स्वागत है.

follow on facebook

FOLLOWERS

Tuesday, January 3, 2012

कभी तुम कुछ कहते हो .........!

                                  कभी  तुम कुछ  कहते हो ,
                                     कभी तुम चुप रहते हो ,
                                       पर हमेशा मुझसे ही कुछ  ,
                                         कहलवाने  की कोशिश करते हो ...!

                                  कभी नजरे मिलते हो ,
                                     कभी नजरे चुराते हो ,
                                      ऐसा लगता है कि ,दूर
                                      जाने कि कोशिश करते हो ...!

                                  कभी पास आते हो ,
                                    कभी दूर चले जाते हो ,
                                       क्या दिल ,लगाने कि
                                          कोशिश करते हो ....!
                    
                                   कभी प्यार जताते हो ,
                                      कभी प्यार छुपाते हो ,
                                        क्या तुम मेरे प्यार को ,
                                      आजमाने कि कोशिश करते हो ........!
      
                                   कभी तुम कुछ कहते हो .........!
                                                   :--  शशि पुरवार


23 comments:

  1. बहुत ही खूबसूरत!

    नव वर्ष 2012 की हार्दिक शुभकामनाएँ।

    सादर

    ReplyDelete
  2. ....खूबसूरती से लिखा है आपने...शशि जी

    ReplyDelete
  3. कभी प्यार जताते हो ,
    कभी प्यार छुपाते हो ,
    क्या तुम मेरे प्यार को ,
    आजमाने कि कोशिश करते हो ........!
    vah shashi ji apki rachana prem ke manovigyan ki gutthi suljhane wali lagi ...ak sundar prastuti ke liye abhar .

    ReplyDelete
  4. सुंदर अभिव्‍यक्ति।
    बेहतर प्रस्‍तुतिकरण।

    ReplyDelete
  5. A beautiful post in the beginning of the year....Happy New Year:)

    ReplyDelete
  6. nice!!felt like I was reading a shayri instead of a poem!!

    ReplyDelete
  7. अच्छी कविता |शशि जी नव वर्ष की शुभकामनाएं |

    ReplyDelete
  8. सुन्दर रचना...
    सादर.

    ReplyDelete
  9. बहुत प्यारी..मधुर सी रचना.
    शुभकामनाये...सदा के लिए.

    ReplyDelete
  10. वाह ...बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  11. कभी प्यार जताते हो ,
    कभी प्यार छुपाते हो ,
    क्या तुम मेरे प्यार को ,
    आजमाने कि कोशिश करते हो ...

    प्रेम में सब कुछ जायज होता है ... चुलबुली सी मासूम रचना है ...

    ReplyDelete
  12. बहुत खूब लिखा है |
    आशा

    ReplyDelete
  13. कभी तुम कुछ कहते हो ....

    सुंदर रचना,बहुत ही सुंदर...

    ReplyDelete
  14. सुन्दर रचना...

    ReplyDelete
  15. प्यार पर बहुत सुंदर कविता।
    नव वर्ष की शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  16. शशि का अर्थ है चाँद , तो चाँद की तरह शीतलता प्रदान करने का नाम है जिंदगी ...
    bahut sundar arthpurn aur sakratmak parichay padhkar man ko bahut achha laga ..
    haardik shubhkamna!!

    ReplyDelete
  17. कभी तुम कुछ कहते हो,,,,,,,
    बस इससे आगे और कुछ कहने और लिखने का मन नहीं हुआ उसकी सारी बातें याद आ गयी आपकी इस रचना से जो कभी हमने जी है
    सुन्दर प्रस्तुति पुरवार जी

    ReplyDelete

नमस्कार मित्रों, आपके शब्द हमारे लिए अनमोल है यहाँ तक आ ही गएँ हैं तो अपनी अनमोल प्रतिक्रिया व्यक्त करके हमें अनुग्रहित करें. स्नेहिल धन्यवाद ---शशि पुरवार



linkwith

sapne-shashi.blogspot.com