सपने

सपने मेरे नहीं आपके सपने, हमारे सपने, समाज में व्याप्त विसंगतियां मन को व्यथित करती हैं. संवेदनाओं की पृष्ठभूमि से जन्मी रचनाएँ मेरीनहीं आपकी आवाज हैं. इन आँखों में एक ख्वाब पलता है, सुकून हो हर दिल में इक दिया आश का जलता है. - शशि.
शशि का अर्थ है -- चन्द्रमा, तो चाँद सी शीतलता प्रदान करने का नाम है जिंदगी .
शब्दों की मिठास व रचना की सुवास ताउम्र अंतर्मन महकातें हैं. मेरे साथ सपनों की हसीन वादियों में आपका स्वागत है.

follow on facebook

FOLLOWERS

Thursday, February 16, 2012

जार - जार होते सिद्धांत....

               



                           हे  प्रभु ,  तेरी  लीला  है  न्यारी ,
                                     जग पे छाई , है यह  कैसी खुमारी ..

                                                गिरते  मूल्य  , 
                                             छोटे  होते  इंसान 
                                              मौकापरस्त है वे ,
                                             सेकते  अपने हाथ ,
                                               रूपैया  महान....!   


                             भारी  होती   जेबें ,
                            खिसियानी  मुसकान .
                          चहुँ   और फैले  दानव ,
                              मासूमियत  परेशां...!
  
                                                      कर  के नाम पर 
                                                       साधू  दे  दान ,
                                                     चतुर  छुपाये  काम   
                                                       तभी  तो  होगा 
                                                       देश  का  कल्याण . 


                                 मासूम  चेहरे 
                              हैवानियत  भरी  नजरे 
                              कुटिलता  है  पहचान .
                            जार - जार  होते  सिद्धांत
                               इंसानियत  हैरान .


                                                    नर   हो  या  नारी
                                                    कटाक्ष  की तलवार
                                                      सोने सी भारी
                                                   स्वार्थ , अहं  , दुश्मनी
                                               तानाशाही , खुनी  मंजर की
                                                    आग  में  है  झुलसे
                                                      दुनिया सारी..... !


                     हे   प्रभु , तेरी लीला है न्यारी ...!
                                                     :--शशि   पुरवार 
                                    

30 comments:

  1. बहुत सुन्दर रचना , बधाई.

    मेरे ब्लॉग"meri kavitayen" की नयी पोस्ट पर भी पधारें.

    ReplyDelete
  2. jaisee bi ho duniya... par pata nahi kyon hame to lagti badi pyari...:)
    he prabhu teri leela badi nyari...:))

    ReplyDelete
  3. कड़वा है..मगर सच है...

    सार्थक लेखन के लिए बधाई शशि जी..
    सादर.

    ReplyDelete
  4. शशि जी बहुत अच्छी कविता बधाई |

    ReplyDelete
  5. SHASHI JI BAHUT HI SUNDAR RACHANA ....GAHRI PARAKH ...SADAR BADHAI.

    ReplyDelete
  6. बेहतरीन सुंदर रचना, बहुत अच्छी प्रस्तुति,के लिए बहुत२ बधाई,..शशि जी,...

    MY NEW POST ...कामयाबी...

    ReplyDelete
  7. vaah kadve sach ko bakhoobi kah dala.

    ReplyDelete
  8. मौजूदा दौर की कडवी सच्‍चाई।

    ReplyDelete
  9. very impressionable and impact-creating kavita,shashiji!
    sirf 2 sabd har pankti me fir bhi itni prabhavshali.

    ReplyDelete
  10. Seriously, world has become soul less. We are driven by monetary aspects and morals have lost value.

    Thought provoking poem Shashi.

    I hope we become as innocents as we were in our childhood days...

    ReplyDelete
  11. sunder bhav-sunder kavita,yatharth k dharatal per......

    ReplyDelete
  12. कल 18/02/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  13. सटीक चित्रण ...अच्छी प्रस्तुति

    ReplyDelete
  14. मासूम चेहरे
    हैवानियत bhari नजरें
    कुटिलता है पहचान
    ज़ार-ज़ार होते सिद्धांत

    bhut सच्चाई छिपी है इन पंकियों में दीदी

    ReplyDelete
  15. सुंदर कटाक्ष और सार्थक प्रस्तुति. सच्चाई से बयाँ किया कड़वा सच.

    ReplyDelete
  16. बहुत ही भाव प्रवण कविता । मन को आंदोलित कर गयी । मेरे पोस्ट पर आपका इंतजार है । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  17. वाह!!!!!शशि जी बहुत अच्छी प्रस्तुति, सुंदर रचना

    MY NEW POST ...सम्बोधन...

    ReplyDelete
  18. रिश्तों से ज्यादा महत्वपूर्ण रुपया हो गया है।
    आदमी की सोच में आई विकृतियों को उजागर करती अच्छी रचना।

    ReplyDelete
  19. अर्थपूर्ण , जो कुछ हो रहा है उससे तो मानवता सच में हैरान ही है......

    ReplyDelete
  20. 1.Reality of life wonderfully expressed by you.

    2.Flow of poem is amazing.

    3.Nice play of words.

    4."मासूम चेहरे
    हैवानियत bhari नजरें
    कुटिलता है पहचान
    ज़ार-ज़ार होते सिद्धांत"- liked these line very much.

    Overall You Rock! Keep writing:)

    ReplyDelete
  21. बहुत ही सुन्दर रचना शशि जी बधाई !

    ReplyDelete
  22. ये प्रभू की लीला नहीं ... समाज के गिस्ते मूल्य हैं जिनको हम साध अहिपा रहे ... सार्थक रचना है ...

    ReplyDelete
  23. aap sabhi ka hraday se shukriya ....aapne hamari rachna me samiksha ke char chand lagaye ..........abhar .

    ReplyDelete
  24. बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  25. बहुत मेहनत से लिखतीं हैं आप.
    दिल की कशिश को निचोड़ दिया है आपने
    अपनी इस सुन्दर अभिव्यक्ति में.

    चाँद तो आपके नाम में ही है.
    फिर आपकी अभिव्यक्ति पर चार की
    जगह हजार चाँद भी लगें तो कम ही हैं.

    वैसे 'राकेश'मेरा और मेरी पत्नी का नाम भी 'शशि' है.
    है न चन्द्रमाओं का अदभुत संयोग ,शशि पुरवार जी.

    ReplyDelete
  26. बस ..' त्राहिमान शरणागतम ' ..सुन्दर लिखा है..

    ReplyDelete
  27. Like that picture of the hand drawing.

    ReplyDelete
  28. मासूम चेहरे हैवानीयत भारी उठ नारी जागरूक हो नहीं किसी पर भारी

    ReplyDelete

नमस्कार मित्रों, आपके शब्द हमारे लिए अनमोल है यहाँ तक आ ही गएँ हैं तो अपनी अनमोल प्रतिक्रिया व्यक्त करके हमें अनुग्रहित करें. स्नेहिल धन्यवाद ---शशि पुरवार



linkwith

sapne-shashi.blogspot.com