सपने

सपने मेरे नहीं आपके सपने, हमारे सपने, समाज में व्याप्त विसंगतियां मन को व्यथित करती हैं. संवेदनाओं की पृष्ठभूमि से जन्मी रचनाएँ मेरीनहीं आपकी आवाज हैं. इन आँखों में एक ख्वाब पलता है, सुकून हो हर दिल में इक दिया आश का जलता है. - शशि.
शशि का अर्थ है -- चन्द्रमा, तो चाँद सी शीतलता प्रदान करने का नाम है जिंदगी .
शब्दों की मिठास व रचना की सुवास ताउम्र अंतर्मन महकातें हैं. मेरे साथ सपनों की हसीन वादियों में आपका स्वागत है.

follow on facebook

https://www.facebook.com/shashi.purwar

FOLLOWERS

Thursday, February 16, 2012

जार - जार होते सिद्धांत....

               



                           हे  प्रभु ,  तेरी  लीला  है  न्यारी ,
                                     जग पे छाई , है यह  कैसी खुमारी ..

                                                गिरते  मूल्य  , 
                                             छोटे  होते  इंसान 
                                              मौकापरस्त है वे ,
                                             सेकते  अपने हाथ ,
                                               रूपैया  महान....!   


                             भारी  होती   जेबें ,
                            खिसियानी  मुसकान .
                          चहुँ   और फैले  दानव ,
                              मासूमियत  परेशां...!
  
                                                      कर  के नाम पर 
                                                       साधू  दे  दान ,
                                                     चतुर  छुपाये  काम   
                                                       तभी  तो  होगा 
                                                       देश  का  कल्याण . 


                                 मासूम  चेहरे 
                              हैवानियत  भरी  नजरे 
                              कुटिलता  है  पहचान .
                            जार - जार  होते  सिद्धांत
                               इंसानियत  हैरान .


                                                    नर   हो  या  नारी
                                                    कटाक्ष  की तलवार
                                                      सोने सी भारी
                                                   स्वार्थ , अहं  , दुश्मनी
                                               तानाशाही , खुनी  मंजर की
                                                    आग  में  है  झुलसे
                                                      दुनिया सारी..... !


                     हे   प्रभु , तेरी लीला है न्यारी ...!
                                                     :--शशि   पुरवार 
                                    

linkwith

sapne-shashi.blogspot.com