सपने

सपने मेरे नहीं आपके सपने, हमारे सपने, समाज में व्याप्त विसंगतियां मन को व्यथित करती हैं. संवेदनाओं की पृष्ठभूमि से जन्मी रचनाएँ मेरीनहीं आपकी आवाज हैं. इन आँखों में एक ख्वाब पलता है, सुकून हो हर दिल में इक दिया आश का जलता है. - शशि.
शशि का अर्थ है -- चन्द्रमा, तो चाँद सी शीतलता प्रदान करने का नाम है जिंदगी .
शब्दों की मिठास व रचना की सुवास ताउम्र अंतर्मन महकातें हैं. मेरे साथ सपनों की हसीन वादियों में आपका स्वागत है.

follow on facebook

FOLLOWERS

Saturday, February 25, 2012

खिले पलाश........

                                                                    १) रात अकेली
                                                   सन्नाटे की सहेली
                                                       काली घनेरी .
 
                                                    २) चिंता का नाग
                                                       फन जब फैलाये
                                                          नष्ट जीवन .
     
                                                     ३ ) पति -पत्नी में
                                                       वार्तालाप सिमित
                                                        अटूट रिश्ता .

                                                     ४ ) खिले पलाश
                                                        अंबुआ की बहार
                                                          फागुन आया .
                                                   ५ ) रंगो की होली
                                                     मिलन का त्यौहार
                                                       गुझिया खास .
------------------------६)दरख्तो को है                          -----------------------
                           जड़ से उखड़ती 
                            तूफानी हवा .
                          ७)  गडगडाहट 
                           चमकती बिजली 
                           आई बारिश .
                        ८ )  काले घनेरे 
                           बादलो का डेरा 
                            गर्म तपिश .
                       ९ ) थिरकता बिभोर
                          सावन के झूले 
                           मन मयूर .
                                         :------शशि पुरवार
                                      
                                       

16 comments:

  1. वाह...
    बढ़िया हायेकु....
    किन्ही में नियम टूटा लगता है..आप चेक कर लें..
    ५-७-५ होना चाहिए..

    सादर.

    ReplyDelete
    Replies
    1. namaskar vidhya ji

      hayuk me adhe shabdo ko varno me nahi gina jata ....

      phir bhi swagat hai accha laga aapne aapni rai di .abhar

      Delete
  2. शशि जी आपके सभी हाईकू अच्छे लगे.
    कम शब्दों में अति गहन बातें व्यक्त की हैं आपने.
    आभार.

    समय मिलने पर मेरे ब्लॉग पर आईएगा.
    'मेरी बात...' पर अपनी भी कुछ कहिएगा.

    ReplyDelete
  3. I loved the third one and your post reminded me of a TV serial which used to air when we were kids. The title song was 'Jab Jab mere ghar aana tum, phool palash ke le aana tum' Do you remember?

    ReplyDelete
    Replies
    1. shukriya atul ji ,
      shaifali dear
      rakesh ji
      saru .........thank you so much . aapki anmol tipni ke liye :):):):)

      Delete
  4. Replies
    1. हाइकु नम्बर ३ मुझे बहुत सुन्दर लगी ..सादर
      मेरे भी ब्लॉग पर आये शशि जी /
      followed ur blog/

      Delete
  5. गंभीर बात कहते शानदार हाइकू।

    ReplyDelete
  6. PRATYEK HAIKOO ME GAHAN VICHAR ....BAHUT SUNDAR RACHANA ...PAHLI BAR MAINE DEKHA KI AP ES VIDHA ME BHI PARANGAT HAIN .....SADAR ABHAR.

    ReplyDelete
    Replies
    1. shukriya rajendra ji ,
      mahendra ji
      tripathi ji

      hardik abhar ..... utsahvardhan ke liye

      Delete
  7. महकती -चहकती ..गहरे तक जाती हाइकु..

    ReplyDelete
  8. बेहतरीन और सुंदर हाईकू बहुत -बहुत बधाई

    ReplyDelete
  9. Three liners kee betaj badshah ho gayee ho tum..:)
    har ek haiku apne me sateeek , aur pyari..!!

    ReplyDelete

नमस्कार मित्रों, आपके शब्द हमारे लिए अनमोल है यहाँ तक आ ही गएँ हैं तो अपनी अनमोल प्रतिक्रिया व्यक्त करके हमें अनुग्रहित करें. स्नेहिल धन्यवाद ---शशि पुरवार



linkwith

sapne-shashi.blogspot.com