सपने

सपने मेरे नहीं आपके व हमारे सपने हे , समाज में व्याप्त विसंगतियां मन को व्यथित करती हैं. संवेदनाओं की पृष्ठभूमि से मेरी जन्मी रचनाएँ आपकी ही आवाज हैं.
इन आँखों में एक ख्वाब पलता
है,
सुकून हो हर दिल में,
इक दिया आश का जलता है.
बदल दो जहाँ को हौसलों के संग
इसी मर्ज से जीवन खुशहाल चलता है - शशि.
शशि का अर्थ है -- चन्द्रमा, तो चाँद सी शीतलता प्रदान करने का नाम है जिंदगी . समाज में सकारात्मकता फैलाने का नाम है जिंदगी , बेटियों से भी रौशन होता है यह जहाँ , सिर्फ बेटे ही नही बेटियों को भी आगे बढ़ाने का नाम है जिंदगी।
शब्दों की मिठास व रचना की सुवास ताउम्र अंतर्मन महकातें हैं. मेरे साथ सपनों की हसीन वादियों में आपका स्वागत है.

follow on facebook

https://www.facebook.com/shashi.purwar

FOLLOWERS

Tuesday, February 28, 2012

होली के रंग में रंग दो

                                                         

  एक पुरानी रचना ....बहुत सालो पहले लिखी थी ....
                                            होली के रंग में रंग दो मुझे
                                           ओ  मेरे सपनो के कन्हैया ,
                                          याद में बैठी  हूँ आज तुम्हारे
                                           इंतजार में उम्मीद के सहारे .

                                          देख कर औरो की होली
                                          मचल उठा मन खेलने को
                                          लगा दो कोई ऐसा रंग
                                          जो नाम न ले उतरने को

                                         प्यार के उस रंग में रंगने  को
                                          खड़ी  हूँ  मै , आज द्वारे
                                        अब तो आकर  ले चलो मुझे
                                           तुम अपने घर के द्वारे .

                                           देखन को कर रहा मन
                                           ब्रज की सुंदर होली
                                          जहाँ खेले थे कन्हैया
                                           राधा के संग होली .
                                                       :--   शशि पुरवार

10 comments:

  1. फागुनी बयार सी सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  2. शशि जी अच्छी कविता ,अच्छी यादें कभी पुरानी नहीं होती है |बहुत ही सुंदर कविता के लिए आपको बधाई |

    ReplyDelete
  3. शशि जी,..कविताए कभी पुरानी नही होती,..बहुत अच्छी अभिव्यक्ति,सुंदर रचना के लिए बधाई.....

    काव्यान्जलि ...: चिंगारी...

    ReplyDelete
  4. आशा है आपके सपनो के कान्हा रंग गए होंगे आपको....

    ना कविता पुरानी हुई..ना रंग फीके पड़े...
    :-)

    ReplyDelete
  5. holi ki bahar me ak khoobsoorat shuruwat di hai apne .....bilkul tan man rang ki lalak ke liye akul ho utha ...bahut achhi rachana shashi ji ....sadar badhai.

    ReplyDelete
  6. माहौल होली का और उस पर खुशनुमा रचना।
    नई हो या पुरानी, बेहतर है।

    ReplyDelete
  7. Shashi didi, Very beautiful poem. I liked this line especially-
    इंतज़ार में उम्मीद के सहारे.....

    Happy Holi in advance :)
    Love,
    Shaifali

    ReplyDelete
  8. Beautiful poem on holi. Even I feel like playing it for a change.

    ReplyDelete
  9. सुन्दर प्रस्तुति.

    ReplyDelete

आपकी प्रतिक्रिया हमारे लिए अनमोल है। कृपया दो शब्द फूल का तोहफा देकर हमें अनुग्रहित करें. स्नेहिल धन्यवाद ---शशि पुरवार
आपके ब्लॉग तक आने के लिए कृपया अपने ब्लॉग का लिंक भी साथ में पोस्ट करें
सविनय



linkwith

sapne-shashi.blogspot.com