सपने

सपने मेरे नहीं आपके सपने, हमारे सपने, समाज में व्याप्त विसंगतियां मन को व्यथित करती हैं. संवेदनाओं की पृष्ठभूमि से जन्मी रचनाएँ मेरीनहीं आपकी आवाज हैं. इन आँखों में एक ख्वाब पलता है, सुकून हो हर दिल में इक दिया आश का जलता है. - शशि.
शशि का अर्थ है -- चन्द्रमा, तो चाँद सी शीतलता प्रदान करने का नाम है जिंदगी .
शब्दों की मिठास व रचना की सुवास ताउम्र अंतर्मन महकातें हैं. मेरे साथ सपनों की हसीन वादियों में आपका स्वागत है.

follow on facebook

https://www.facebook.com/shashi.purwar

FOLLOWERS

Tuesday, February 28, 2012

होली के रंग में रंग दो

                                                         

  एक पुरानी रचना ....बहुत सालो पहले लिखी थी ....
                                            होली के रंग में रंग दो मुझे
                                           ओ  मेरे सपनो के कन्हैया ,
                                          याद में बैठी  हूँ आज तुम्हारे
                                           इंतजार में उम्मीद के सहारे .

                                          देख कर औरो की होली
                                          मचल उठा मन खेलने को
                                          लगा दो कोई ऐसा रंग
                                          जो नाम न ले उतरने को

                                         प्यार के उस रंग में रंगने  को
                                          खड़ी  हूँ  मै , आज द्वारे
                                        अब तो आकर  ले चलो मुझे
                                           तुम अपने घर के द्वारे .

                                           देखन को कर रहा मन
                                           ब्रज की सुंदर होली
                                          जहाँ खेले थे कन्हैया
                                           राधा के संग होली .
                                                       :--   शशि पुरवार

linkwith

sapne-shashi.blogspot.com