सपने

सपने मेरे नहीं आपके सपने, हमारे सपने, समाज में व्याप्त विसंगतियां मन को व्यथित करती हैं. संवेदनाओं की पृष्ठभूमि से जन्मी रचनाएँ मेरीनहीं आपकी आवाज हैं. इन आँखों में एक ख्वाब पलता है, सुकून हो हर दिल में इक दिया आश का जलता है. - शशि.
शशि का अर्थ है -- चन्द्रमा, तो चाँद सी शीतलता प्रदान करने का नाम है जिंदगी .
शब्दों की मिठास व रचना की सुवास ताउम्र अंतर्मन महकातें हैं. मेरे साथ सपनों की हसीन वादियों में आपका स्वागत है.

follow on facebook

FOLLOWERS

Wednesday, March 28, 2012

बिखरते रिश्ते ...!



                                     जीवन  के रुपहले पर्दे  से
                                        बिखरते रिश्ते ...!

                                        पतला होता खून 
                                        बढती धन की भूख 
                                        अपने होते है पराये 
                                      सुकून भी न घर में आए
                                       भाई को भाई न भाए
                                         सिमटते रिश्ते 

                                     क्या ननद क्या भौजाई
                                     प्यारी लागे सिर्फ कमाई
                                       सैयां मन को भावे
                                     कांच से नाजुक धागे 
                                  बूढ़े माँ - बाप भी बोझ लागे
                                     खोखले होते  रिश्ते 
 
                                     अब कहाँ वो आंगन 
                                    जहाँ खड़कते चार बर्तन 
                                     गूंजे अब न किलकारी 
                                    सिर्फ बंटवारे  की चिंगारी 
                                      स्वार्थी होता खून 
                                     टूटते  बिखरते रिश्ते .

                                      नादाँ ये न जाने 
                                      कैसे बीज है बोये 
                                 माँ के कलेजे के टुकड़े कर 
                                     कैसे चैन से सोये 
                                     आने वाला कल 
                                   खुद को दोहराता है 
                                  वक्त तब निकल जाता है 
                                   प्राणी तू अब क्यो रोये 
                                     पीछे छुटते रिश्ते .

                                           बिखरते रिश्ते ...!
                                                          :------शशि पुरवार

          

    

21 comments:

  1. कड़वी सच्चाई है....
    जाने क्या हो गया है लोगों को....मगर जब तुम ना बदले.हम ना बदले....तो आखिर बदला कौन???

    सस्नेह.

    ReplyDelete
  2. आजे दौर को देखते हुए बहुत सटीक बात कही है आपने।

    सादर

    ReplyDelete
  3. वाह!!!!!बहुत सुंदर रचना,रिश्तों की बेहतरीन भाव अभिव्यक्ति,

    MY RESENT POST...काव्यान्जलि ...: तुम्हारा चेहरा,

    ReplyDelete
  4. क्या कहने
    बहुत सुंदर

    अब कहां वो आंगन,
    जहां खड़कते चार बर्तन,
    गूंजे ना अब किलकारी,
    बस बटवारे की चिंगारी,
    स्वार्थी होता खून
    टूटते बिखरते रिश्ते

    आपके ब्लाग पर पहली दफा आना हुआ, इंदौर आपको पसंद है। मुझे भी

    http://aadhasachonline.blogspot.in/2012/01/blog-post_15.html
    देखिए शायद ठीक लगे

    ReplyDelete
  5. सच...
    खूंटियों पर टंगी भूली बिसरी तस्वीर हो गए हैं रिश्ते!

    ReplyDelete
  6. आने वाला कल
    खुद को दोहराता है
    वक्त तब निकल जाता है
    प्राणी तू अब क्यो रोये
    पीछे छुटते रिश्ते.
    बहुत सुंदर लगा

    ReplyDelete
  7. खोखले रिश्तों की कड़वी सच्चाई को लिखा है ... बदलाव के दौर में रिश्तों के मानी खो रहे हैं ... चिंतन है ये रचना ...

    ReplyDelete
  8. sach me aaj rishton ki koi ahamiyat hi nahi rahi paisa ,lalach eershyaa bas yahi rah gaye hain jeevan me.
    aaj ki sachchaai se roobru karati rachna bahut umda.

    ReplyDelete
  9. सच ही तो है न , आज कल यही तो हो रहा है , बहुत खूबी से आपने अपने भावो को शब्द दिए है

    ReplyDelete
  10. main aur meraa
    jab rishton se
    badh kar ho jaaye
    koi rishtaa kaise
    saabut rahegaa

    yathaarth likhaa hai aapne
    badhaayee

    ReplyDelete
  11. आज के समाज की सोच की बहुत सार्थक और प्रभावी अभिव्यक्ति...आज पैसे के पीछे भागदौड में रिश्ते बहुत पीछे छूट गये...

    ReplyDelete
  12. आज बहुत जगह यही माहौल है ....
    बस अपने आप को बचाए चलें ...
    शुभकामनायें ...

    ReplyDelete
  13. समेटना भी हमें ही है इन बिखरते रिश्तों को,नीव भरनी है गहरी...
    सटीक,सुंदर रचना। सिखाती है सहेजो रिश्तों को।

    ReplyDelete
  14. sundar rachna nishabd kar diya aapne ...

    ReplyDelete
  15. bahut sundar ahsas hai sach me aaj risto ki garima kho gayi hai. papa-mammi

    ReplyDelete
  16. यूँ बिखरते रिश्ते एकल परिवार की देना हैं ......पर आज भी बहुत से संयुक्त परिवार यही पर बसते हैं .....आभार

    ReplyDelete
  17. कटु किन्तु सत्य सुन्दर पोस्ट।

    ReplyDelete
  18. रिश्ते बिखरते हैं तो सब कुछ बिखरता है ..आधे-अधूरे लोग.. अच्छा लिखा है..

    ReplyDelete
  19. सुंदर कविता………………आभार

    ReplyDelete
  20. रिश्तों की व्याख्या करती अच्छी कविता |शशि जी बधाई |

    ReplyDelete
  21. पिछले कुछ दिनों से अधिक व्यस्त रहा इसलिए आपके ब्लॉग पर आने में देरी के लिए क्षमा चाहता हूँ...

    इस सुंदर कविता के लिए बधाई स्वीकारें....शशि जी

    ReplyDelete

नमस्कार मित्रों, आपके शब्द हमारे लिए अनमोल है यहाँ तक आ ही गएँ हैं तो अपनी अनमोल प्रतिक्रिया व्यक्त करके हमें अनुग्रहित करें. स्नेहिल धन्यवाद ---शशि पुरवार



linkwith

sapne-shashi.blogspot.com