सपने

सपने मेरे नहीं आपके सपने, हमारे सपने, समाज में व्याप्त विसंगतियां मन को व्यथित करती हैं. संवेदनाओं की पृष्ठभूमि से जन्मी रचनाएँ मेरीनहीं आपकी आवाज हैं. इन आँखों में एक ख्वाब पलता है, सुकून हो हर दिल में इक दिया आश का जलता है. - शशि.
शशि का अर्थ है -- चन्द्रमा, तो चाँद सी शीतलता प्रदान करने का नाम है जिंदगी .
शब्दों की मिठास व रचना की सुवास ताउम्र अंतर्मन महकातें हैं. मेरे साथ सपनों की हसीन वादियों में आपका स्वागत है.

follow on facebook

FOLLOWERS

Tuesday, June 5, 2012

..गंगा स्वर्ग से आई .....!



हुई विदाई
गंगा स्वर्ग से आई
बहे निर्मल .

गंगा का जल
गुणकारी अमृत
पाप नाशक .

शीतल जल
मन हो जाये तृप्त
है गंगाजल .

रोये है गंगा
मैली हुई चादर
मानवी मार .

सिमटी गंगा
मानव काटे अंग
जल बेहाल .

है पुण्य कर्म
किये पाप मिटाओ
गंगा बचाओ .

गंगा पावन
अभियान चलाओ
स्वच्छ बनाओ .

निर्मल गंगा
खुशहाल जीवन
हरी हो धरा .

:------ शशि पुरवार

9 comments:

  1. सुन्दर .. संदेशपरक रचना

    ReplyDelete
  2. गंगा सिर्फ एक नदी नही है , अपितु ये हमारी युगों लम्बी सभ्यता और संस्कृति की निशानी है। उस सुरसरि का अस्तित्व आज खतरे में है। इस परिपेक्ष्य में आप की ये रचना बहुत समीचीन प्रतीत होती है
    आभार

    ReplyDelete
  3. मन मोहक प्रेरक सुंदर प्रस्तुति ,,,,,बेहतरीन हाइकू

    MY RESENT POST,,,,,काव्यान्जलि ...: स्वागत गीत,,,,,

    ReplyDelete
  4. बहुत बढ़िया हायेकु ......
    सुंदर.सार्थक.....

    सस्नेह.

    आपका स्वागत है...
    :-)

    ReplyDelete
  5. गंगा माँ कों लेकह्र सार्थक हाइकू की संरचना है ...
    आज की जरूरत कों कुछ ही शब्दों में गहराई से लिखा है ...

    ReplyDelete
  6. वाह बहुत बढिया

    ReplyDelete
  7. shashi ji bahut sunder haiku hai .badhai aapko
    rachana

    ReplyDelete

नमस्कार मित्रों, आपके शब्द हमारे लिए अनमोल है यहाँ तक आ ही गएँ हैं तो अपनी अनमोल प्रतिक्रिया व्यक्त करके हमें अनुग्रहित करें. स्नेहिल धन्यवाद ---शशि पुरवार



linkwith

sapne-shashi.blogspot.com