सपने

सपने मेरे नहीं आपके सपने, हमारे सपने, समाज में व्याप्त विसंगतियां मन को व्यथित करती हैं. संवेदनाओं की पृष्ठभूमि से जन्मी रचनाएँ मेरीनहीं आपकी आवाज हैं. इन आँखों में एक ख्वाब पलता है, सुकून हो हर दिल में इक दिया आश का जलता है. - शशि.
शशि का अर्थ है -- चन्द्रमा, तो चाँद सी शीतलता प्रदान करने का नाम है जिंदगी .
शब्दों की मिठास व रचना की सुवास ताउम्र अंतर्मन महकातें हैं. मेरे साथ सपनों की हसीन वादियों में आपका स्वागत है.

follow on facebook

FOLLOWERS

Wednesday, August 15, 2012

जय भारत .....तुझे सलाम .


  शूर की रसा 
   तरुण कंधो पे है
    राष्ट्र की धारा.

 २  भाषा अनेक 
     बंधुभाव है एक 
    राष्ट्र की शान .

३    वतन में जाँ
   तिरंगे को सलाम
     राष्ट्रीयगान .

 4   जीवनशक्ति
    मातृभूमि हमारी
     भारत माता .

५    गौरवशाली
   हिंद की जगद्योनि
     जन्मे बाँकुड़ा .

6  मेरा  भारत
   स्वर्ग सा मनोरम  
     पावन गंगा .

7 दिल औ जान
  तुझपे न्यौझावर
    मेरे वतन .

8 धर्म संस्कृति
  अमन  की चाहत 
  साँसों में बसी  .

9  जान से ज्यादा 
   तिरंगा हमें  प्यारा
     तुझे सलाम  .

 10  भारत है
  हमको जां से प्यारा
    जय भारत .
  



        -----  शशि पुरवार

सभी  दोस्तों को 15 अगस्त की हार्दिक शुभकामनाय .............वन्दे मातरम .

10 comments:

  1. बेहतरीन हाइकू,,,

    वे क़त्ल होकर कर गये देश को आजाद,
    अब कर्म आपका अपने देश को बचाइए!

    स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाए,,,,
    RECENT POST...: शहीदों की याद में,,

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर हाइकु...जय हिन्द

    ReplyDelete
  3. shashi ji namaskar .....lajbab haykoo ke sath apka rchaaon ka tiranga bhi lajbab akarshan de gaya

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...
    रचना भी प्यारी, तिरंगा भी प्यारा.....
    स्वतन्त्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ!
    अनु

    ReplyDelete
  5. Beautiful writing and beautiful presentation Shashi. Happy Independence Day to you too:)

    ReplyDelete
  6. सुन्दर प्रस्तुति
    स्वतन्त्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  7. खूबसूरत हाइकू ...

    ReplyDelete

नमस्कार मित्रों, आपके शब्द हमारे लिए अनमोल है यहाँ तक आ ही गएँ हैं तो अपनी अनमोल प्रतिक्रिया व्यक्त करके हमें अनुग्रहित करें. स्नेहिल धन्यवाद ---शशि पुरवार



linkwith

sapne-shashi.blogspot.com