सपने

सपने मेरे नहीं आपके सपने, हमारे सपने, समाज में व्याप्त विसंगतियां मन को व्यथित करती हैं. संवेदनाओं की पृष्ठभूमि से जन्मी रचनाएँ मेरीनहीं आपकी आवाज हैं. इन आँखों में एक ख्वाब पलता है, सुकून हो हर दिल में इक दिया आश का जलता है. - शशि.
शशि का अर्थ है -- चन्द्रमा, तो चाँद सी शीतलता प्रदान करने का नाम है जिंदगी .
शब्दों की मिठास व रचना की सुवास ताउम्र अंतर्मन महकातें हैं. मेरे साथ सपनों की हसीन वादियों में आपका स्वागत है.

follow on facebook

FOLLOWERS

Sunday, August 5, 2012

बैरी बदरा



बैरी बदरा
घुमड़ घुमड़
आये भावन
देखो झूम के
बरस गया सावन .

बूंदो को लड़ी
बरखा सी झड़ी
पवन मतवाली
इठला के चली
चूमती पर्णों को
कर्ण में मिसरी सी घुली !
पर्ण के कोरो पे
पड़ित बूंदें  जैसे
बिखरे धवल मणि .

मखमली हरित बिछोना
फूली अमराई
कानन मे
विशालकाय गिरि पे
 व्योम ने
भीनी चुनर उढाई
मदमाता सा बहे 
जलप्रपात
उदधि का गर्जन
परिंदो का कलरव
दरिया का उफनना
पुरंदर के इशारे
जम के बरसे घन.

सावन के पड़े झूले
गावो मे लगे मेले 
हिंडोले लेता मन
करतल पे रची हिना
हरी हरी चूड़ियाँ
पहने गाँव की गोरियां
इठलाती सी ये
अल्हड परियां .......!

       ----------   शशि पुरवार



 




6 comments:

  1. सावन की काली घटा, पवन चले मतवाली
    फुहार गिरे सावन के,गोरिया मन छाए लाली,,,,

    सुन्दर प्रस्तुति,,,,शशी जी,,,,

    RECENT POST ...: रक्षा का बंधन,,,,

    ReplyDelete
  2. बहुत-बहुत सुन्दर
    मनभावन रचना...
    मित्रता दिवस की शुभकामनाये...
    :-)

    ReplyDelete
  3. बहुत ही खूबसूरत कविता शशि जी आभार |

    ReplyDelete
  4. सावन की फुहार जैसी सुंदर रचना ... सावन के झूले तो बस गाँव में ही मिलते ह्ंगे अब तो ...

    ReplyDelete
  5. dheerendra ji
    meena ji tushar ji sangeeta ji aapka tahe dil se shukriya . aapki upasthiti manye hai mere liye .

    ReplyDelete
  6. वाह ... प्रकृति का सुन्दर वर्णन ..... सुन्दर रचना के लिए बधाई हो दी ....... :-)

    ReplyDelete

नमस्कार मित्रों, आपके शब्द हमारे लिए अनमोल है यहाँ तक आ ही गएँ हैं तो अपनी अनमोल प्रतिक्रिया व्यक्त करके हमें अनुग्रहित करें. स्नेहिल धन्यवाद ---शशि पुरवार



linkwith

sapne-shashi.blogspot.com