सपने

सपने मेरे नहीं आपके सपने, हमारे सपने, समाज में व्याप्त विसंगतियां मन को व्यथित करती हैं. संवेदनाओं की पृष्ठभूमि से जन्मी रचनाएँ मेरीनहीं आपकी आवाज हैं. इन आँखों में एक ख्वाब पलता है, सुकून हो हर दिल में इक दिया आश का जलता है. - शशि.
शशि का अर्थ है -- चन्द्रमा, तो चाँद सी शीतलता प्रदान करने का नाम है जिंदगी .
शब्दों की मिठास व रचना की सुवास ताउम्र अंतर्मन महकातें हैं. मेरे साथ सपनों की हसीन वादियों में आपका स्वागत है.

follow on facebook

FOLLOWERS

Tuesday, January 24, 2012

भागता मन......


                            १     कंपकंपाता
                                              सिहरता बदन
                                                ठंडी चुभन

                                          २      ठंडी बयार
                                              जलता दिनकर
                                                  है बेअसर.
                                          ३    गिरता  पत्ता
                                              छोड़ रहा बंधन
                                                 नव जीवन .

                                           ४    अहंकार है
                                            मृगतृष्णा की सीढ़ी
                                             मन का धोखा.

                                        ५       कच्ची उम्र
                                             नव कोपल प्राण
                                                दिशाहीनता.

                                       ६     खुशियाँ बाटें
                                           सकारात्मक धारा
                                              अहमियत .

                                           ७    मुक्त हवा में
                                            पत्ता चला मिलने
                                             धरा ही  है माँ .

                                         ८     समेटता सा
                                             धरा का हर अंग
                                               बर्फ का कण .

                                         ९     भागता मन
                                           चंचल हिरनों सा
                                              रफ़्तार संग.

                                         १०   बहाल प्रजा
                                           खुशहाल है नेता
                                               खूब घोटाले.
                                                  :-- शशि पुरवार

Thursday, January 19, 2012

दिल के कुछ अरमान ......!

                  


                                        दिल   के   कुछ अरमान 
                                        दिल में ही  रह जाते है ...!

                                      कुछ अजन्मे , अनछुए  ख्वाब 
                                          विचरते  है  कई  बार 
                                           नम  हुए   नयन ,
                                         दिल  में  उठी  एक  चुभन
                                         ख्वाहिशे   हुई  क्लांत
                                         खामोश   हुई  जुबान 
                                         आरजूएं   हुई  है  खफा 
                                          मिली  ये  कैसी  सजा 
                                       गम  पीकर  भी  मुस्कुराते है 
                                      जिंदगी के साथ कदम मिलते है ...!


                                   दिल के कुछ अरमान  दिल में ही ........!

                                        गुजरते वक्त के साथ 
                                        धूमिल नहीं होते ख्वाब 
                                       आरजूएं  कभी नहीं मरती 
                                       इन अजन्मे ख्वाबो की बस्ती 
                                     दिल के किसी कोने में  है बस्ती , 
                                        वक्त के थपेड़े  भी , नहीं
                                       बना पाते उनकी ख्वाबगाह 
                                      अनछुए  से , सीप  के  मोती ,
                                         और गुलशन के फूलों ,
                                        की तरह सदैव महकते है 

                                                     दिल के कुछ अरमान .....!


                                   अजन्मी चाहतें ,  कुछ ख्वाब 
                                      दिल में दफ़न होकर भी ,
                                    सदैव  दिल  में जन्म लेते  है
                                  हकीकत का रूप मिले या न मिले 
                                        दिल में सदैव बसते है .
                                        दिल के कुछ अरमान 
                                        दिल में ही रह जाते है ...........! 
                                                       : -- शशि  पुरवार



Friday, January 13, 2012

श्वेत चादर .........!



                     १ )   शीत लहर
                         अदरक की चाय
                            गरम चुस्की   .

                                   २ )    जमती झीले
                                          चमकती चांदनी
                                             श्वेत चादर .

                      ३)   हिमपात  है
                          तपती धरा पर,
                           शितोपचार .

                                        ४)   बर्फ ही बर्फ
                                           बिखरी चारो तर्फ
                                             अकेली जान .

                 ५) बर्फ सा पानी
                  कांपती जिंदगानी
                    है गंगा स्नान .

                                    ६ )  जमता खून
                                      हुई कठिन सांसे
                                        फर्ज - इन्तिहाँ .

              ७) शीत प्रकोप
             सैन्य बल सलाम
                देश में जान .

                                 ८) खिलखिलाता
                                हुआ आया  है भानू
                                    गर्म छुअन .
         
                                          : -- शशि पुरवार

Monday, January 9, 2012

चहुँ और फैले ..!


                  
                           १ . आया नूतन  नववर्ष , करे नया संकल्प
                              जीवन में आये बहार , मुस्काती बारम्बार .

                          २. जगी मन में  आशा , कुछ नवीन ख्याल.
                              एक पहचान , सही दिशा ,ऊचाइयों का  जन्म .  

                          ३.  चहुँ और फैले , शिक्षा का प्रकाश
                              अशिक्षित जीवन में आये, सुनहरा प्रकाश .

                          ४ . अंत हो कुरीतियों का , यही है बस चाहत
                              इस नववर्ष में नयी दिशा ,उचाईयों को छुए मानव .

                           ५ .धरती से अम्बर तक  , गूंजे सच का नाम
                               नववर्ष में प्रेक्षित हो   ,जग में सारे सच्चे काम.

                                                       :-- शशि पुरवार

Friday, January 6, 2012

नया विश्वास

                                              नया वर्ष
                                                नयी डगर
                                              नया संकल्प
                                                 नया शिखर
                                              नए काम
                                                 नया नाम
                                              नयी आशा
                                                  नए विचार
                                             नया कर्तव्य
                                                नयी पहचान
                                              नया विश्वास
                                                  नया वर्ष  बनाये खास ....!
                                                                 :- शशि पुरवार

Tuesday, January 3, 2012

कभी तुम कुछ कहते हो .........!

                                  कभी  तुम कुछ  कहते हो ,
                                     कभी तुम चुप रहते हो ,
                                       पर हमेशा मुझसे ही कुछ  ,
                                         कहलवाने  की कोशिश करते हो ...!

                                  कभी नजरे मिलते हो ,
                                     कभी नजरे चुराते हो ,
                                      ऐसा लगता है कि ,दूर
                                      जाने कि कोशिश करते हो ...!

                                  कभी पास आते हो ,
                                    कभी दूर चले जाते हो ,
                                       क्या दिल ,लगाने कि
                                          कोशिश करते हो ....!
                    
                                   कभी प्यार जताते हो ,
                                      कभी प्यार छुपाते हो ,
                                        क्या तुम मेरे प्यार को ,
                                      आजमाने कि कोशिश करते हो ........!
      
                                   कभी तुम कुछ कहते हो .........!
                                                   :--  शशि पुरवार


linkwith

sapne-shashi.blogspot.com