सपने

सपने मेरे नहीं आपके सपने, हमारे सपने, समाज में व्याप्त विसंगतियां मन को व्यथित करती हैं. संवेदनाओं की पृष्ठभूमि से जन्मी रचनाएँ मेरीनहीं आपकी आवाज हैं. इन आँखों में एक ख्वाब पलता है, सुकून हो हर दिल में इक दिया आश का जलता है. - शशि.
शशि का अर्थ है -- चन्द्रमा, तो चाँद सी शीतलता प्रदान करने का नाम है जिंदगी .
शब्दों की मिठास व रचना की सुवास ताउम्र अंतर्मन महकातें हैं. मेरे साथ सपनों की हसीन वादियों में आपका स्वागत है.

follow on facebook

FOLLOWERS

Tuesday, February 28, 2012

होली के रंग में रंग दो

                                                         

  एक पुरानी रचना ....बहुत सालो पहले लिखी थी ....
                                            होली के रंग में रंग दो मुझे
                                           ओ  मेरे सपनो के कन्हैया ,
                                          याद में बैठी  हूँ आज तुम्हारे
                                           इंतजार में उम्मीद के सहारे .

                                          देख कर औरो की होली
                                          मचल उठा मन खेलने को
                                          लगा दो कोई ऐसा रंग
                                          जो नाम न ले उतरने को

                                         प्यार के उस रंग में रंगने  को
                                          खड़ी  हूँ  मै , आज द्वारे
                                        अब तो आकर  ले चलो मुझे
                                           तुम अपने घर के द्वारे .

                                           देखन को कर रहा मन
                                           ब्रज की सुंदर होली
                                          जहाँ खेले थे कन्हैया
                                           राधा के संग होली .
                                                       :--   शशि पुरवार

Saturday, February 25, 2012

खिले पलाश........

                                                                    १) रात अकेली
                                                   सन्नाटे की सहेली
                                                       काली घनेरी .
 
                                                    २) चिंता का नाग
                                                       फन जब फैलाये
                                                          नष्ट जीवन .
     
                                                     ३ ) पति -पत्नी में
                                                       वार्तालाप सिमित
                                                        अटूट रिश्ता .

                                                     ४ ) खिले पलाश
                                                        अंबुआ की बहार
                                                          फागुन आया .
                                                   ५ ) रंगो की होली
                                                     मिलन का त्यौहार
                                                       गुझिया खास .
------------------------६)दरख्तो को है                          -----------------------
                           जड़ से उखड़ती 
                            तूफानी हवा .
                          ७)  गडगडाहट 
                           चमकती बिजली 
                           आई बारिश .
                        ८ )  काले घनेरे 
                           बादलो का डेरा 
                            गर्म तपिश .
                       ९ ) थिरकता बिभोर
                          सावन के झूले 
                           मन मयूर .
                                         :------शशि पुरवार
                                      
                                       

Thursday, February 16, 2012

जार - जार होते सिद्धांत....

               



                           हे  प्रभु ,  तेरी  लीला  है  न्यारी ,
                                     जग पे छाई , है यह  कैसी खुमारी ..

                                                गिरते  मूल्य  , 
                                             छोटे  होते  इंसान 
                                              मौकापरस्त है वे ,
                                             सेकते  अपने हाथ ,
                                               रूपैया  महान....!   


                             भारी  होती   जेबें ,
                            खिसियानी  मुसकान .
                          चहुँ   और फैले  दानव ,
                              मासूमियत  परेशां...!
  
                                                      कर  के नाम पर 
                                                       साधू  दे  दान ,
                                                     चतुर  छुपाये  काम   
                                                       तभी  तो  होगा 
                                                       देश  का  कल्याण . 


                                 मासूम  चेहरे 
                              हैवानियत  भरी  नजरे 
                              कुटिलता  है  पहचान .
                            जार - जार  होते  सिद्धांत
                               इंसानियत  हैरान .


                                                    नर   हो  या  नारी
                                                    कटाक्ष  की तलवार
                                                      सोने सी भारी
                                                   स्वार्थ , अहं  , दुश्मनी
                                               तानाशाही , खुनी  मंजर की
                                                    आग  में  है  झुलसे
                                                      दुनिया सारी..... !


                     हे   प्रभु , तेरी लीला है न्यारी ...!
                                                     :--शशि   पुरवार 
                                    

Wednesday, February 8, 2012

थकित कदम....!



                चुपचाप  हौले  से , वाट  जोहते  है तेरी ,
                धीरे से अब तो आ जाओ , खुशियाँ 
                        दामन  में मेरी ....!

                   पेशानी की सलवटो को छुपाते 
                  दर्द की ज्वाला को दिल में दबाते ,
                   अधरो  पे   हैं   मुस्कान  लाते 
                       जीवन के रण में बस , 
                    कैक्टस  को ही गिनते  जाते ..!

                रूत बदली  , बसंत ने ली अंगड़ाई 
                   नवकोपलों  पे   है,  खुमारी छाई .
                झरते पत्ते दे रहे पुनरागमन का पैगाम ,
                 फिर कब ख़त्म होगा सब्र का इन्तिहाँ .


               बीतते वक्त  के साथ , मद्धम होती रौशनी 
                 जर्जर तन , थकित कदम , सुप्त सा मन .
                 एक सा लागे सारा मौसम ....बसंत .
                   ऐसे ही खाली जाम के संग ,
                    जीवन से रुकसत होते हम .....!

                  चुपचाप , हौले  से वाट जोहते है तेरी ,
                     अब तो आ जाओ ...खुशियाँ  ....
                       दामन में मेरी .............!
                                               :-- शशि पुरवार 

        कभी -कभी ऊपर वाला भी सितम करता है , 
भरे हुए जाम को सदैव छलकाता है और जिसका प्याला खाली है उसका खाली ही रह जाता है ....! 
थोडा सा जाम यदि खाली प्याले में गिरे तो मन तृप्त  हो जाता है ..........पर जिसके जाम गिरते  रहते है.... उन्हें कहाँ किसी का दर्द नजर आता है .......!
                             :----शशि  पुरवार.



Wednesday, February 1, 2012

छलकता प्यार ...!

                               


                                           तुम ही तुम हो मेरे मन 
                                                 मंदिर में,
                                              खुशबु की तरह ...!

                                                 है  बंद मगर ,
                                                देख रही आँखे .
                                               अपने प्यार का,
                                            सजदा कर रही आँखें .
                                              नजर जिधर उठे ,
                                                 तुम्हीं सामने  हो ,
                                                 बंद ही नहीं ,
                                              मेरी खुली नजरो
                                              में भी तुम ही हो .!
   
                                          मोहब्बत  बन गयी है अब 
                                                 दिल का साज .
                                          दिल की हर धड़कन पे है 
                                              तुम्हारी आवाज .
                                          तुम्हारी आँखो  में देखा है 
                                                छलकता  प्यार .
                                        तुम्हें  हर वक्त महसूस किया है 
                                                 आपने पास ......!
   
                                         तुम ही तुम हो ....!
                                                         :---शशि  पुरवार



linkwith

sapne-shashi.blogspot.com