सपने

सपने मेरे नहीं आपके सपने, हमारे सपने, समाज में व्याप्त विसंगतियां मन को व्यथित करती हैं. संवेदनाओं की पृष्ठभूमि से जन्मी रचनाएँ मेरीनहीं आपकी आवाज हैं. इन आँखों में एक ख्वाब पलता है, सुकून हो हर दिल में इक दिया आश का जलता है. - शशि.
शशि का अर्थ है -- चन्द्रमा, तो चाँद सी शीतलता प्रदान करने का नाम है जिंदगी .
शब्दों की मिठास व रचना की सुवास ताउम्र अंतर्मन महकातें हैं. मेरे साथ सपनों की हसीन वादियों में आपका स्वागत है.

follow on facebook

FOLLOWERS

Friday, March 30, 2012

हरसिंगार.....1

  
 
 
                          शिउली सौन्दर्य 
                         लतिका पे खिला 
                          गुच्छो में भरा 
                        पारिजात  लदा बदा

                     दुग्ध -उज्जवल शेफालिका
                     कोमल बासंती नाजुक अंग
                     शशि किरण में है बिखरा 
                    आच्छादित सौन्दर्य अपलक

                भीनी -भीनी मोहक सुगन्धित सुवास
                       रोम -रोम में समाये
                   मदमाती बयार इठलाये
                 निखरता शिवली का यौवन
                   अखियो की प्यास बुझाए

                    होले-होले चुपके से
                   प्राजक्त रात्र में खिले
                    अंजुल भर -भर
                      हरसिंगार ,
                    झर -झर झरते
                धरा का नवल श्रृंगार करे   
                व  प्रकृति का उन्माद बढे   

                लजाती मोहिनी शेफाली
                मुस्काता चंचल बसंत
            प्राकृतिक सौन्दर्य की पराकाष्ठा
                   अप्रतिम अतुल्य
                    ईश्वरीय सृजन .
                       :_------शशि पुरवार

 

Wednesday, March 28, 2012

बिखरते रिश्ते ...!



                                     जीवन  के रुपहले पर्दे  से
                                        बिखरते रिश्ते ...!

                                        पतला होता खून 
                                        बढती धन की भूख 
                                        अपने होते है पराये 
                                      सुकून भी न घर में आए
                                       भाई को भाई न भाए
                                         सिमटते रिश्ते 

                                     क्या ननद क्या भौजाई
                                     प्यारी लागे सिर्फ कमाई
                                       सैयां मन को भावे
                                     कांच से नाजुक धागे 
                                  बूढ़े माँ - बाप भी बोझ लागे
                                     खोखले होते  रिश्ते 
 
                                     अब कहाँ वो आंगन 
                                    जहाँ खड़कते चार बर्तन 
                                     गूंजे अब न किलकारी 
                                    सिर्फ बंटवारे  की चिंगारी 
                                      स्वार्थी होता खून 
                                     टूटते  बिखरते रिश्ते .

                                      नादाँ ये न जाने 
                                      कैसे बीज है बोये 
                                 माँ के कलेजे के टुकड़े कर 
                                     कैसे चैन से सोये 
                                     आने वाला कल 
                                   खुद को दोहराता है 
                                  वक्त तब निकल जाता है 
                                   प्राणी तू अब क्यो रोये 
                                     पीछे छुटते रिश्ते .

                                           बिखरते रिश्ते ...!
                                                          :------शशि पुरवार

          

    

Wednesday, March 21, 2012

यह इंतजार ........!

                             
                                कहीं जान न ले यह इंतजार 
                                       क्या तुम्हे है ,
                                  इस बात का ख्याल ....!
                                     हर आहट देती है 
                                  तुम्हारे कदमो के निशां
                                  थम जाती है यह धड़कन 
                                  सोच कर तुम्हारा नाम 
                                   दीवानगी तो मेरी ...
                                न जाने क्या रंग दिखाएगी 
                                        पर सनम , 
                               इंतजार कराने की तुम्हारी 
                                    यह खता  तो ,
                               हमारी जान ही ले जाएगी ....!
                                           :-----  शशि पुरवार 
                   

Friday, March 16, 2012

नाजुक धागे .................बसा है बागवान .




तांका---------------      
                                १   आये  अकेले  
                                    दुनिया के झमेले 
                                    जाना है पार ,
                                   जिंदगी की किताब 
                                    नयी है हर बार .                     

                                 २  ढलती  उम्र 
                                    शिथिल है पथिक 
                                     अकेलापन ,
                                  जूझता है जीवन 
                                   स्वयं  के कर्मो संग .

                               ३  पैसे  का नशा 
                                  मस्तक पे है  चढ़ा 
                                    सोई चेतना ,
                                  नजर का है धोखा 
                                   वक्त जब बदला .

                               ४   यादो के पल 
                                   झिलमिलाता कल 
                                    महकता है ,
                                    दिलो के अरमान 
                                    बसा है बागवान .

                
                               ५   तेज रफ़्तार 
                                  दूर है  संगी -साथी 
                                     न परिवार ,
                                  जूनून है सवार 
                                 मृगतृष्णा की प्यास . 

                              ६  बालियो  संग 
                                 मचलता यौवन 
                                 ठिठकता सा  ,
                                 प्राकृतिक सौन्दर्य 
                                 लहलहाता वन .
                               
                                           
                                   
हयुक ------------------
                                  १  नाजुक धागे 
                                      मजबूत बंधन 
                                       गठबंधन .

                                   २ तीखी चुभन 
                                     सूखे गुलाब संग 
                                       दीवानापन .

                                   ३  सर्द है यादे 
                                    शूल बनी तन्हाई  
                                        हरे नासूर .

                                ४ प्यासा  है मन 
                                   साहित्य की अगन 
                                     ज्ञानपिपासा .

                                 ५  कलम करे 
                                    रचना का सृजन 
                                     मनभावन .
                          
                                ६    अभिव्यक्ति की 
                                     चरम अनुभूति 
                                       है स्पंदन .
                                                 :-------- शशि पुरवार
                          




                                     

Monday, March 5, 2012

प्रस्फुटन बसंत ........ रंगो की बौछार ...... होली में है खास ......!



         गीत .....    
                                भरी  पिचकारी  ,
                                 छाई   है  खुमारी
                                 भीगा  तन - मन ,
                               मोरे  कान्हा   तोरे  संग .
 
                                 भीगी अंगिया  चोली ,
                                   रंगो  की है होली
                                    प्यार  बेशुमार  ,
                                नशा  चढ़े बार -बार .

                                   नयन   मिले  ,
                                   धड़कन   बढे
                                   नटखट  सैयां
                                   मोहे  अंग लगे .

                             
                                   रंगो  की   बौछार   ,
                               नहीं गिले -शिकवे आज
                                  प्रेम  की  फुहार  ,
                              है  यह  मिलन का त्यौहार.

                               खुशियाँ  आये बार -बार ,
                                   मन की पुकार
                               मोरे  कान्हा   तोरे  संग  ,
                                जुड़े  है  दिल के तार .
                                     
                                           भर पिचकारी .........!
                                                       
----------------------------------------- !!!!!!!!!!!!!!!          !-------------------------------------
        क्षणिकाए..................!
                
                                            १ )  करे श्रींगार
                                                पिया का प्यार
                                                लज्जा गुलाबी
                                               अधर हुए लाल
                                                 रंग -अबीर से
                                                   रंगे  है गाल.

                                            २)  गुझिया  पपड़ी
                                                  भांग की कुल्फी
                                                 होली में  है खास ,
                                                   बाजारो की
                                                   रौनक बढाये
                                               रंग बिरंगी पिचकारी ,
                                                  और  गुलाल .
                                                   पटी  है दुकाने
                                               आये नटखट बाल गोपाल .

                                              ३)  फूलो पत्तो का
                                                   प्रस्फुटन  बसंत
                                                  प्रकृति करती सृजन
                                                     बयार की उन्माद
                                                   फैला चारो दिशाओ
                                                        में उल्लास .

                                               ४)  गुब्बारो  में
                                                    भर के  पानी  ,
                                                  फैके बालगोपाल
                                                   बड़े - बूढ़े भागते
                                                      इधर -उधर
                                                 छिटके रंगो की मार
                                                  बुरा न  मानो होली है
                                              सब तरफ गूंजे यही आवाज .
  -----------------------------!                !----------------------------
   हयुक .............!
                            

                                              १ )  ले पिचकारी
                                                   भरे रंग गुलाबी
                                                   छोरो की टोली

                                              २)   खिले पलाश
                                                  अंबुआ की बहार
                                                     फागुन आया .

                                                ३) रंगो की होली
                                                  मिलन का त्योहार
                                                     गुझिया
खास .

                                                ४) ले पिचकारी
                                                   भरे रंग गुलाबी
                                                     बाल गोपाल .


                                                ५)  उड़े गुलाल
                                                  रंगो का है खुमार
                                                     प्यारी सौगात .
      
                                               ६) कृष्ण राधा की
                                                 प्यार की  है प्रतिक
                                                       अमरबेल .

                                                        :-------शशि  पुरवार

----------------------------------------------!                      !-------------------------------
 
दोस्तो   इस बार सोचा की होली पर सब रंग  बिखेरूं .....इसीलिए  मिली जुली प्रस्तुति .......आप सभी को होली की  हार्दिक शुभकामनाये ...........
होली का त्यौहार,
रंगों की बौझार
गुब्बारो की मार
दोस्तों का प्यार
मिठाइयाँ खास
आप सभी के जीवन में रंगो की बौझार हो ............हर पल महकता सा, अधरों पे मुस्कान का राज हो .....:)))))..............हैप्पी होली ............. आपको एवं आपके परिवार को .
 
--------- शशि पुरवार 
 

linkwith

sapne-shashi.blogspot.com