सपने

सपने मेरे नहीं आपके व हमारे सपने हे , समाज में व्याप्त विसंगतियां मन को व्यथित करती हैं. संवेदनाओं की पृष्ठभूमि से मेरी जन्मी रचनाएँ आपकी ही आवाज हैं.
इन आँखों में एक ख्वाब पलता
है,
सुकून हो हर दिल में,
इक दिया आश का जलता है.
बदल दो जहाँ को हौसलों के संग
इसी मर्ज से जीवन खुशहाल चलता है - शशि.
शशि का अर्थ है -- चन्द्रमा, तो चाँद सी शीतलता प्रदान करने का नाम है जिंदगी . समाज में सकारात्मकता फैलाने का नाम है जिंदगी , बेटियों से भी रौशन होता है यह जहाँ , सिर्फ बेटे ही नही बेटियों को भी आगे बढ़ाने का नाम है जिंदगी।
शब्दों की मिठास व रचना की सुवास ताउम्र अंतर्मन महकातें हैं. मेरे साथ सपनों की हसीन वादियों में आपका स्वागत है.

follow on facebook

https://www.facebook.com/shashi.purwar

FOLLOWERS

Sunday, June 30, 2013

ठूंठ सा वन



ठूंठ ---

१ 


ठूंठ सा तन

पपड़ाया यौवन


पंछी भी उड़े .

२ 


सिसकती सी

ठहरी है जिंदगी

राहों में आज



शुलो सी चुभन 



दर्द भरा जीवन   
मौन रुदन .
सिमटी जड़ें
हरा भरा था कभी
वो बचपन

को से मै कहूं
पीर पर्वत हुई
ठूंठ सी खड़ी

झरते पत्ते
बेजान होता तन
ठूंठ सा वन

राहो में खड़े
देख रहे बसंत
बीता यौवन

जीने की आस
महकने की प्यास
जिंदगी खास .

हिम पिघले
पहाड़ ठूंठ बन
राहो में खड़े.
१०
ठूंठ बन के
सन्नाटे भी कहते
पास न आओ .
११
चीखें बेजान
तड़पती है साँसे
ठूंठ सी लाशें .
1२
मृत विचार
लोलुपता की प्यास
ठूंठ सा मन .


----शशि पुरवार

 

21 comments:

  1. मर्म स्पर्शी ....बहुत भावपूर्ण हाइकु ....!!

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर हाइकु...!
    कल मयंक का कोना में चर्चा मंच पर इस पोस्ट का लिंक लगा दूँगा...!

    ReplyDelete
  3. त्रासदी को सजा कर रख दिया है मानव ने, सशक्त अभिव्यक्ति।

    ReplyDelete
  4. आहा ! ठूँठ सा ये एहसास :-)

    ReplyDelete
  5. आपने लिखा....हमने पढ़ा
    और लोग भी पढ़ें;
    इसलिए कल 01/07/2013 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    आप भी देख लीजिएगा एक नज़र ....
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  6. बहुत संवेदनशील हाइकु ...

    ReplyDelete
  7. बहुत ही सुन्दर और सार्थक प्रस्तुती आभार ।

    ReplyDelete
  8. मर्मस्पर्शी,तीर से हाइकू ....शशी जी सार्थक प्रस्तुति.....

    ReplyDelete
  9. बहुत खूब

    ReplyDelete
  10. राहो में खड़े
    देख रहे बसंत
    बीता यौवन----सुन्दर और सार्थक प्रस्तुति.
    latest post झुमझुम कर तू बरस जा बादल।।(बाल कविता )

    ReplyDelete
  11. वाह , बहुत खूब, यहाँ भी पधारे

    http://shoryamalik.blogspot.in/

    ReplyDelete
  12. शुभप्रभात

    बना(ठूंठ)आधार
    जीना सीखा दिया है
    बेजोड़ रची

    हार्दिक शुभकामनायें

    ReplyDelete
  13. बहुत सार्थक अभिव्यक्ति .......!!

    ReplyDelete
  14. ठूंठ बन के
    सन्नाटे भी कहते
    पास न आओ ...

    दिल को छूते हैं सभी हाइकू ...
    बहुत ही लाजवाब ...

    ReplyDelete
  15. अंतस को छूते बहुत सुन्दर और सार्थक हाइकु...

    ReplyDelete
  16. जी पहले पढ़ चुका हूं
    बढिया



    जल समाधि दे दो ऐसे मुख्यमंत्री को
    http://tvstationlive.blogspot.in/2013/07/blog-post_1.html?showComment=1372774138029#c7426725659784374865

    ReplyDelete
  17. मृत विचार
    लोलुपता की प्यास
    ठूंठ सा मन .
    बहुत सुंदर.सटीक.बधाई!

    ReplyDelete
  18. झरते पत्ते
    बेजान होता तन
    ठूंठ सा वन

    राहो में खड़े
    देख रहे बसंत
    बीता यौवन
    adbhud .........marmik ...vakt ki tashvir ko rekhankit karti rachana bahut achchhi lagi .

    ReplyDelete

आपकी प्रतिक्रिया हमारे लिए अनमोल है। कृपया दो शब्द फूल का तोहफा देकर हमें अनुग्रहित करें. स्नेहिल धन्यवाद ---शशि पुरवार
आपके ब्लॉग तक आने के लिए कृपया अपने ब्लॉग का लिंक भी साथ में पोस्ट करें
सविनय



linkwith

sapne-shashi.blogspot.com