सपने

सपने मेरे नहीं आपके सपने, हमारे सपने, समाज में व्याप्त विसंगतियां मन को व्यथित करती हैं. संवेदनाओं की पृष्ठभूमि से जन्मी रचनाएँ मेरीनहीं आपकी आवाज हैं. इन आँखों में एक ख्वाब पलता है, सुकून हो हर दिल में इक दिया आश का जलता है. - शशि.
शशि का अर्थ है -- चन्द्रमा, तो चाँद सी शीतलता प्रदान करने का नाम है जिंदगी .
शब्दों की मिठास व रचना की सुवास ताउम्र अंतर्मन महकातें हैं. मेरे साथ सपनों की हसीन वादियों में आपका स्वागत है.

follow on facebook

FOLLOWERS

Thursday, June 6, 2013

हर मौसम में खिल जाता है ..... नीम





     हर मौसम में खिल जाता है नीम की ही ये माया है
     राही को छाया देता है नीम का ही वो साया है ।

     बिन पैसे की खान है ये तो तोहफ़ा है इक क़ुदरत का,
     महिमा देखी नीम की जब से आम भी कुछ बौराया है ।

     जब से नीम है घर में आया , जीने की मंशा देता,
     मोल गुणों का ही होता है नीम ने ही बतलाया है ।

     कड़वा स्वाद नीम का लेकिन गुणकारी तेवर इसके,
     हर रेशा औषध है इससे रोग भी अब घबराया है ।

     निंबोली का रस पीने से तन के सारे  रोग मिटें
     मन मोहक छवि ऐसी नीम ने लाभ बहुत पहुँचाया है


      गाँव की वो गलियाँ भी छूटी ,छूटा घर का आँगन भी,
     शहर में फैला देख प्रदूषण नीम भी अब मुरझाया है .
                      ---  शशि पुरवार 

अनुभूति नी विशेषांक में प्रकाशित यह गजल .

12 comments:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि की चर्चा आज बृहस्पतिवार (06-06-2013) को साहित्य में प्रदूषण ( चर्चा - 1267 ) में "मयंक का कोना" पर भी है!
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  2. निंबोली का रस पीने से तन के सारे रोग मिटें
    मन मोहक छवि ऐसी नीम ने लाभ बहुत पहुँचाया है

    गाँव की वो गलियाँ भी छूटी ,छूटा घर का आँगन भी,
    शहर में फैला देख प्रदूषण नीम भी अब मुरझाया है . सुन्दर प्रस्तुति.

    ReplyDelete
  3. शानदार,नीम का गुणगान करती उम्दा प्रस्तुति,,,

    RECENT POST: हमने गजल पढी, (150 वीं पोस्ट )

    ReplyDelete
  4. एक बड़ा था पेड़ नीम का..बहुत सुन्दर रचना।

    ReplyDelete
  5. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति शुक्रवारीय चर्चा मंच पर ।।

    चरखा चर्चा चक्र चल, सूत्र कात उत्कृष्ट ।

    पट झटपट तैयार कर, पलटे नित-प्रति पृष्ट ।

    पलटे नित-प्रति पृष्ट, आज पलटे फिर रविकर ।

    डालें शुभ शुभ दृष्ट, अनुग्रह करिए गुरुवर ।

    अंतराल दो मास, गाँव में रहकर परखा ।

    अतिशय कठिन प्रवास, पेश है चर्चा-चरखा ।

    ReplyDelete
  6. कडवा नीम गुणों की खान
    सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  7. सुन्दर ग़ज़ल , बधाई शशि जी .

    ReplyDelete
  8. शानदार रचना

    ReplyDelete
  9. सुंदर रचना ...नीम गुणों की खान है ...इसे मुरझाने से बचाना होगा ।

    ReplyDelete
  10. नीम की महिमा अपरम्पार है. बहुत सुंदर कविता.

    ReplyDelete
  11. बहुत सुन्दर और सार्थक अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete

नमस्कार मित्रों, आपके शब्द हमारे लिए अनमोल है यहाँ तक आ ही गएँ हैं तो अपनी अनमोल प्रतिक्रिया व्यक्त करके हमें अनुग्रहित करें. स्नेहिल धन्यवाद ---शशि पुरवार



linkwith

sapne-shashi.blogspot.com