सपने

सपने मेरे नहीं आपके सपने, हमारे सपने, समाज में व्याप्त विसंगतियां मन को व्यथित करती हैं. संवेदनाओं की पृष्ठभूमि से जन्मी रचनाएँ मेरीनहीं आपकी आवाज हैं. इन आँखों में एक ख्वाब पलता है, सुकून हो हर दिल में इक दिया आश का जलता है. - शशि.
शशि का अर्थ है -- चन्द्रमा, तो चाँद सी शीतलता प्रदान करने का नाम है जिंदगी .
शब्दों की मिठास व रचना की सुवास ताउम्र अंतर्मन महकातें हैं. मेरे साथ सपनों की हसीन वादियों में आपका स्वागत है.

follow on facebook

FOLLOWERS

Tuesday, July 16, 2013

प्रकृति ने दिया है अपना जबाब ,



प्रकृति की
नैसर्गिक चित्रकारी पर
मानव ने खींच दी है
विनाशकारी लकीरें,
सूखने लगे है जलप्रताप, नदियाँ
फिर
एक जलजला  सा
समुद्र  की गहराईयों में
और  प्रलय का नाग
लीलने  लगा
मानव निर्मित कृतियों को.
धीरे  धीरे
चित्त्कार उठी धरती
फटने  लगे बादल
बदल गए मौसम
बिगड़ गया  संतुलन, 
ये जीवन, फिर
हम किसे दोष दे ?
प्रकृति  को ?
या मानव को ?
जिसने 
अपनी
महत्वकांशाओ तले
प्राकृतिक सम्पदा का
विनाश किया।
अंततः  
रौद्र रूप  धारण करके
प्रकृति ने दिया है
अपना जबाब ,
मानव की
कालगुजारी का,
लोलुपता  का,
विध्वंसता का,
जिसका
नशा मानव से
उतरता ही नहीं .
और 
प्रकृति उस नशे को
ग्रहण  करती नहीं .

 --शशि पुरवार
१२ -७ - १ ३
१२ .५ ५ am









17 comments:

  1. बेहतरीन रचना.

    रामराम.

    ReplyDelete
  2. बहुत सच कहा आपने शशि जी...बहुत सुन्दर.!!

    ReplyDelete
  3. बहुत ही सुन्दर रचना है @शशि जी हार्दिक बधाई

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...

    ReplyDelete
  5. मानव की
    कालगुजारी का,
    लोलुपता का,
    विध्वंसता का,
    जिसका
    नशा मानव से
    उतरता ही नहीं .
    और
    प्रकृति उस नशे को
    ग्रहण करती नहीं

    यही सच है -बढ़िया प्रस्तुति
    latest post सुख -दुःख

    ReplyDelete
  6. बहुत उम्दा,सुंदर सृजन,,,वाह !!! क्या बात है

    RECENT POST : अभी भी आशा है,

    ReplyDelete
  7. बहुत सुंदर, शुभकामनाये

    यहाँ भी पधारे
    दिल चाहता है
    http://shoryamalik.blogspot.in/2013/07/blog-post_971.html

    ReplyDelete
  8. एकदम सच बात कही शशिजी । मानव प्रकृति के साथ जो अन्याय कर रहा है उसका बदला मिलेगा ही । बधाई । सस्नेह

    ReplyDelete
  9. एकदम सच बात कही शशिजी । मानव प्रकृति के साथ जो अन्याय कर रहा है उसका बदला मिलेगा ही । बधाई । सस्नेह

    ReplyDelete
  10. सटीक रचना ...सच भी है

    ReplyDelete
  11. बेहद सुन्दर प्रस्तुतीकरण ....!!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा आज बुधवार (17-07-2013) को में” उफ़ ये बारिश और पुरसूकून जिंदगी ..........बुधवारीय चर्चा १३७५ !! चर्चा मंच पर भी होगी!
    सादर...!

    ReplyDelete
  12. प्रकृति ने दे दिया अपना जवाब , इशारे में समझाया बहुत था !

    ReplyDelete
  13. आपकी यह रचना कल गुरुवार (18-07-2013) को ब्लॉग प्रसारण पर लिंक की गई है कृपया पधारें.

    ReplyDelete
  14. प्रकृति का नाद स्पष्ट सुनायी पड़ता है।

    ReplyDelete

नमस्कार मित्रों, आपके शब्द हमारे लिए अनमोल है यहाँ तक आ ही गएँ हैं तो अपनी अनमोल प्रतिक्रिया व्यक्त करके हमें अनुग्रहित करें. स्नेहिल धन्यवाद ---शशि पुरवार



linkwith

sapne-shashi.blogspot.com