सपने

सपने मेरे नहीं आपके व हमारे सपने हे , समाज में व्याप्त विसंगतियां मन को व्यथित करती हैं. संवेदनाओं की पृष्ठभूमि से मेरी जन्मी रचनाएँ आपकी ही आवाज हैं.
इन आँखों में एक ख्वाब पलता
है,
सुकून हो हर दिल में,
इक दिया आश का जलता है.
बदल दो जहाँ को हौसलों के संग
इसी मर्ज से जीवन खुशहाल चलता है - शशि.
शशि का अर्थ है -- चन्द्रमा, तो चाँद सी शीतलता प्रदान करने का नाम है जिंदगी . समाज में सकारात्मकता फैलाने का नाम है जिंदगी , बेटियों से भी रौशन होता है यह जहाँ , सिर्फ बेटे ही नही बेटियों को भी आगे बढ़ाने का नाम है जिंदगी।
शब्दों की मिठास व रचना की सुवास ताउम्र अंतर्मन महकातें हैं. मेरे साथ सपनों की हसीन वादियों में आपका स्वागत है.

follow on facebook

https://www.facebook.com/shashi.purwar

FOLLOWERS

Thursday, July 18, 2013

बहता पानी ...!



बहता पानी
विचारो की रवानी
हसीं ये जिंदगानी
सांझ  बेला में
परिवार का साथ
संस्कारों की जीत .




बरसा पानी
सुख का आगमन
घर संसार तले
तप्त ममता
बजती शहनाई
बेटी हुई पराई .


हाथों  में खेनी
तिरते है विचार
बेजोड़  शिल्पकारी

गड़े आकार
आँखों में भर पानी
शिला पे चित्रकारी .



जग  कहता

है पत्थर के पिता
समेटे परिवार  
कुटुंब खास 
दिल में भरा पानी

पिता की है कहानी .
 --------- शशि पुरवार
 १३ ,७ .१ ३

11 comments:

  1. आपने लिखा....हमने पढ़ा....
    और लोग भी पढ़ें; ...इसलिए शनिवार 20/07/2013 को
    http://nayi-purani-halchal.blogspot.in
    पर लिंक की जाएगी.... आप भी देख लीजिएगा एक नज़र
    लिंक में आपका स्वागत है ..........धन्यवाद!

    ReplyDelete
  2. सुन्दर प्रस्तुति ....!!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा आज बृहस्पतिवार (18-07-2013) को में” हमारी शिक्षा प्रणाली कहाँ ले जा रही है हमें ? ( चर्चा - 1310 ) पर भी होगी!
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  3. संवेदनपूर्ण अभिव्यक्ति..

    ReplyDelete
  4. बहुत ही सुन्दर प्रस्तुती ,आभार।

    ReplyDelete
  5. सुंदर प्रस्तुति साधुवाद

    ReplyDelete
  6. सुंदर भाव...

    एक नजर इधर भी...
    यही तोसंसार है...



    ReplyDelete
  7. बहुत ही सुंदर.

    रामराम.

    ReplyDelete
  8. बहुत उम्दा,संवेदनशील सृजन,,,वाह !!!

    RECENT POST : अभी भी आशा है,

    ReplyDelete
  9. बिखरे हुए चिन्तन क्षण अपने शब्दों में समा लिए आपने और कविचा रच गई!

    ReplyDelete

आपकी प्रतिक्रिया हमारे लिए अनमोल है। कृपया दो शब्द फूल का तोहफा देकर हमें अनुग्रहित करें. स्नेहिल धन्यवाद ---शशि पुरवार
आपके ब्लॉग तक आने के लिए कृपया अपने ब्लॉग का लिंक भी साथ में पोस्ट करें
सविनय



linkwith

sapne-shashi.blogspot.com