सपने

सपने मेरे नहीं आपके सपने, हमारे सपने, समाज में व्याप्त विसंगतियां मन को व्यथित करती हैं. संवेदनाओं की पृष्ठभूमि से जन्मी रचनाएँ मेरीनहीं आपकी आवाज हैं. इन आँखों में एक ख्वाब पलता है, सुकून हो हर दिल में इक दिया आश का जलता है. - शशि.
शशि का अर्थ है -- चन्द्रमा, तो चाँद सी शीतलता प्रदान करने का नाम है जिंदगी .
शब्दों की मिठास व रचना की सुवास ताउम्र अंतर्मन महकातें हैं. मेरे साथ सपनों की हसीन वादियों में आपका स्वागत है.

follow on facebook

FOLLOWERS

Friday, July 19, 2013

प्रकृति और मानव


जल जीवन
प्रकृति औ मानव
अटूट रिश्ता

जगजननी
धरती की पुकार
 वृक्षारोपण
 ३ 
मानुष काटे
धरा का हर अंग
मिटते  गाँव .


पहाड़ो तक
पंहुचा प्रदूषण
प्रलयंकारी

केदारनाथ
बेबस जगन्नाथ
मानवी भूल
६ 
 काले धुँए से
चाँद पर चरण 
काला गरल .


जलजले से
विक्षिप्त है पहाड़
मौन रुदन

कम्पित धरा
विषैली पोलिथिन
मनुज  फेकें

सिंधु गरजे
विध्वंश के निशान
अस्तित्व मिटा .
१०
अप्रतिम है
प्रकृति का सौन्दर्य
चिटके गुल .

-------- शशि पुरवार




23 comments:

  1. शुभ प्रभात
    शशि दीदी को मन से
    देती हूँ सम्मान
    रचना
    तीन लाईन की
    करती बड़ा काम
    सादर

    ReplyDelete
  2. आपने लिखा....हमने पढ़ा....
    और लोग भी पढ़ें; ...इसलिए शनिवार 20/07/2013 को
    http://nayi-purani-halchal.blogspot.in
    पर लिंक की जाएगी.... आप भी देख लीजिएगा एक नज़र
    लिंक में आपका स्वागत है ..........धन्यवाद!

    ReplyDelete
  3. प्रकृति के हर सम को हमेशा विषम बनाता है मानव !

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि की चर्चा आज शुक्रवार (19-07-2013) को स्वर्ग पिता को भेज, लिया पति से छुटकारा -चर्चा मंच 1311 पर "मयंक का कोना" में भी है!
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  5. सुन्दर और सार्थक शब्द संकेत..प्रकृति के अनुरूप तो चलना ही होगा।

    ReplyDelete
  6. मानुष काटे
    धरा का हर अंग
    मिटते गाँव .
    वाह बहुत प्रभावी ....सारगर्भित .....बहुत अच्छे लगे ...!!
    शुभकामनायें ।

    ReplyDelete
  7. पहाड़ो तक
    पंहुचा प्रदूषण
    प्रलयंकारी..... सन्देश देती सुंदर रचना !!

    ReplyDelete
  8. बहुत प्रभावशाली हाइकू. शुभकामनाएं.

    रामराम.

    ReplyDelete
  9. प्रकृति मानव से बदला ले ही लेती है .... प्रभावशाली हाइकु

    ReplyDelete
  10. आपकी यह रचना आज शुक्रवार (19-07-2013) को निर्झर टाइम्स पर लिंक की गई है कृपया पधारें.

    ReplyDelete
  11. जीवन से जुड़े बेहतरीन हायकू ....

    ReplyDelete
  12. sabhi mitro ka tahe dil se abhaar ......aap sabhi ka sneh anmil hai .

    ReplyDelete
  13. उचित संदेश देते हुए सुंदर हाइकु....
    बधाई शशि जी!

    ~सादर!!!

    ReplyDelete
  14. Pradushan to sachme pralayankari hai.......sundar haiku!

    ReplyDelete
  15. साधुवाद योग्य लाजवाब अभिव्यक्ति...बहुत बहुत बधाई

    ReplyDelete
  16. सुंदर प्रस्तुति।।।

    ReplyDelete
  17. बहुत उम्दा हाइकू ,सुंदर प्रस्तुति के लिए बधाई,

    RECENT POST : अभी भी आशा है,

    ReplyDelete
  18. सुन्दर हाइकु

    ReplyDelete
  19. तीन लाइनों में गहरा अर्थ समाया ...
    प्रभावी ...

    ReplyDelete

नमस्कार मित्रों, आपके शब्द हमारे लिए अनमोल है यहाँ तक आ ही गएँ हैं तो अपनी अनमोल प्रतिक्रिया व्यक्त करके हमें अनुग्रहित करें. स्नेहिल धन्यवाद ---शशि पुरवार



linkwith

sapne-shashi.blogspot.com