सपने

सपने मेरे नहीं आपके सपने, हमारे सपने, समाज में व्याप्त विसंगतियां मन को व्यथित करती हैं. संवेदनाओं की पृष्ठभूमि से जन्मी रचनाएँ मेरीनहीं आपकी आवाज हैं. इन आँखों में एक ख्वाब पलता है, सुकून हो हर दिल में इक दिया आश का जलता है. - शशि.
शशि का अर्थ है -- चन्द्रमा, तो चाँद सी शीतलता प्रदान करने का नाम है जिंदगी .
शब्दों की मिठास व रचना की सुवास ताउम्र अंतर्मन महकातें हैं. मेरे साथ सपनों की हसीन वादियों में आपका स्वागत है.

follow on facebook

FOLLOWERS

Tuesday, August 27, 2013

कान्हा नजर न आये ………।

मनमोहन का जाप जपे है
साँस साँस अब मोरी
नटखट कान्हा ने गोकुल में
कितने स्वाँग रचाये
कंकर मारे, मटकी तोड़ी
माखन-दही चुराये
यमुना तीरे पंथ निहारे
हरिक गाँव की छोरी

जग को अर्थ प्रेम का सच्चा
मोहन ने समझाया
राधा-मीरा, गोप-गोपियाँ
सबने श्याम को पाया
उनकी बंसी-धुन को सुनना
चाहे हर इक गोरी

वृन्दावन की कुंज गलिन में
मन मोरा रम जाए
कान्हा-कान्हा हिया पुकारे
कान्हा नजर न आये
मै तो मन ही मन खेलूँ हूँ
भक्ति भाव की होरी।

- शशि पुरवार
-- शशि पुरवार
२१ / ०८ / १३


 


10 comments:

  1. हर बाला के मन की चाह
    सुने बाँसुरी तोरी .

    कान्हा नजर न आये
    वृन्दावन की कुञ्ज गलिन में
    मन मोरा रम जाए
    कान्हा - कान्हा हिय पुकारे

    मै तो मन ही मन खेलूँ हूँ
    भक्ति -भाव की होरी .
    प्रभावशाली प्रस्तुति

    ReplyDelete
  2. आपकी यह रचना कल बुधवार (28-08-2013) को ब्लॉग प्रसारण : 99 पर लिंक की गई है कृपया पधारें.
    सादर
    सरिता भाटिया

    ReplyDelete
  3. भक्ति -भाव की प्रभावशाली प्रस्तुति
    जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाएं.

    RECENT POST : पाँच( दोहे )

    ReplyDelete
  4. बहुत ही खूबसूरत और मासूम , निश्छल रचना । जनमाष्टमी की शुभकामनाएं आपको

    ReplyDelete
  5. कान्हा सबको खूब छकाये, हमको नजर न आये

    ReplyDelete
  6. जनमाष्टमी की शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  7. खुबसूरत अभिवयक्ति......श्री कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनायें......

    ReplyDelete



  8. ♥ जय श्री कृष्ण ♥
    ✿⊱╮✿⊱╮✿⊱╮
    ..(¯`v´¯) •./¸✿
    (¯` ✿..¯))✿/¸.•*✿
    ...(_.^._)√•*´¨¯(¯`v´¯).
    ...✿•*´)//*´¯`*(¯` ✿ .¯)
    .....✿´)//¯`*(¸.•´(_.^._)
    ♥ जय श्री कृष्ण ♥

    श्री कृष्ण जन्माष्टमी की बधाइयां और शुभकामनाएं !


    ✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿

    जग को प्रेम का गूढ़ अर्थ
    मोहन ने समझाया
    राधा , मीरा या गोपियां
    सबने श्याम को पाया

    हर बाला के मन की चाह
    सुने बांसुरी तोरी

    वाऽहऽऽ…! सुंदर गीत है !

    आदरणीया शशि पुरवार जी
    श्रेष्ठ सुंदर सृजन के लिए साधुवाद !
    ✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿
    मंगलकामनाओं सहित...
    राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete

नमस्कार मित्रों, आपके शब्द हमारे लिए अनमोल है यहाँ तक आ ही गएँ हैं तो अपनी अनमोल प्रतिक्रिया व्यक्त करके हमें अनुग्रहित करें. स्नेहिल धन्यवाद ---शशि पुरवार



linkwith

sapne-shashi.blogspot.com