सपने

सपने मेरे नहीं आपके सपने, हमारे सपने, समाज में व्याप्त विसंगतियां मन को व्यथित करती हैं. संवेदनाओं की पृष्ठभूमि से जन्मी रचनाएँ मेरीनहीं आपकी आवाज हैं. इन आँखों में एक ख्वाब पलता है, सुकून हो हर दिल में इक दिया आश का जलता है. - शशि.
शशि का अर्थ है -- चन्द्रमा, तो चाँद सी शीतलता प्रदान करने का नाम है जिंदगी .
शब्दों की मिठास व रचना की सुवास ताउम्र अंतर्मन महकातें हैं. मेरे साथ सपनों की हसीन वादियों में आपका स्वागत है.

follow on facebook

FOLLOWERS

Sunday, August 4, 2013

चम्पा चटकी

चम्पा चटकी
इधर डाल पर
महक उठी अँगनाई ।

उषाकाल नित
धूप तिहारे
चम्पा को सहलाए ,
पवन फागुनी
लोरी गाकर
फिर ले रही बलाएँ।

निंदिया आई
अखियों में और
सपने भरें लुनाई

श्वेत चाँद -सी
पुष्पित चम्पा
कल्पवृक्ष-सी लागे
शैशव चलता
ठुमक -ठुमक कर
दिन तितली- से भागे

नेह- अरक में
डूबी पैंजन
बजे खूब शहनाई.

-शशि पुरवार



३. महक उठी अंगनाई --- नवगीत की पाठशाला में प्रकाशित मेरा नवगीत 

13 comments:

  1. शुभ प्रभात
    अप्रतिम
    सादर
    यशोदा

    ReplyDelete
  2. अहा, प्रभात का सुन्दर स्वागत..

    ReplyDelete
  3. वाह बहुत खूब

    ReplyDelete
  4. वाह ... चंपा के कोमल भाव मन में खुशबू का एहसास ले आते हैं ... सुन्दर रचना ...

    ReplyDelete

  5. कल 05/08/2013 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर .
    :-)

    ReplyDelete
  7. वाह वाह....
    बहुत सुन्दर नवगीत ...
    उषाकाल नित
    धूप तिहारे
    चम्पा को सहलाए ...

    मनभावन......

    सस्नेह
    अनु

    ReplyDelete
  8. बहुत ही सुन्दर और सार्थक प्रस्तुती,आभार।

    ReplyDelete
  9. उषाकाल नित
    धूप तिहारे
    चम्पा को सहलाए ,
    पवन फागुनी
    लोरी गाकर
    फिर ले रही बलाएँ।
    ...बहुत सुन्दर बिम्ब .

    ReplyDelete
  10. lyrical!...sundar madhur panktiya..

    ReplyDelete
  11. वाह जी क्या बात है

    ReplyDelete

नमस्कार मित्रों, आपके शब्द हमारे लिए अनमोल है यहाँ तक आ ही गएँ हैं तो अपनी अनमोल प्रतिक्रिया व्यक्त करके हमें अनुग्रहित करें. स्नेहिल धन्यवाद ---शशि पुरवार



linkwith

sapne-shashi.blogspot.com