सपने

सपने मेरे नहीं आपके सपने, हमारे सपने, समाज में व्याप्त विसंगतियां मन को व्यथित करती हैं. संवेदनाओं की पृष्ठभूमि से जन्मी रचनाएँ मेरीनहीं आपकी आवाज हैं. इन आँखों में एक ख्वाब पलता है, सुकून हो हर दिल में इक दिया आश का जलता है. - शशि.
शशि का अर्थ है -- चन्द्रमा, तो चाँद सी शीतलता प्रदान करने का नाम है जिंदगी .
शब्दों की मिठास व रचना की सुवास ताउम्र अंतर्मन महकातें हैं. मेरे साथ सपनों की हसीन वादियों में आपका स्वागत है.

follow on facebook

FOLLOWERS

Thursday, August 1, 2013

यूँ बदल गए मौसम।

 1
क्यूँ तुम खामोश रहे
पहले कौन कहे
दोनों ही तड़प सहें ।

2
आसान नहीं राहें
पग- पग पे  धोखा
थामी तेरी बाहें ।

3
सतरंगी यह जीवन
राही चलता जा
बहुरंगी तेरा मन ।

4
साँचे ही करम करो
छल करना छोड़ो
उजियारे रंग भरो ।

5
बीते कल की बतियाँ
महकाती यादें
है आँखों में रतियाँ ।

6
ये  पीर पुरानी है
यूँ बदले  मौसम 
खुशियाँ नूरानी है  ।


है खुशियों को जीना
हँसता चल राही
दुःख आज नहीं पीना ।


मन में सपने जागे
पैसे की खातिर
क्यूँ हर पल हम भागे?


है दिल में जोश भरा
मंजिल मिलती है
दो पल ठहर जरा ।

१०
झम झम बरसा पानी
मौसम बदल गए
क्यूँ रूठ गई रानी ?

११
क्यों मद में होते  हो
दो पल का जीवन
क्यों नाते खोते हो ।

१२
है क्या सुख की भाषा
हलचल है दिल में
क्यों  टूट रही आशा ।?

१३
दिन आज सुहाना है
कल की खातिर क्यों
फिर आज जलाना है ।

----शशि पुरवार

12 comments:

  1. सतरंगी जीवन और बहुरंगी मन ने रच दिए मौसम के नए तराने!

    ReplyDelete
  2. 3
    सतरंगी यह जीवन
    राही चलता जा
    बहुरंगी तेरा मन ।

    4
    साँचे ही करम करो
    छल करना छोड़ो
    उजियारे रंग भरो ।
    बहुत खुबसूरत अभिव्यक्ति
    latest post,नेताजी कहीन है।
    latest postअनुभूति : वर्षा ऋतु

    ReplyDelete
  3. मौसम की कोमलता मन में भी उतर आये..

    ReplyDelete
  4. बहुत ही सशक्त और प्रभवाशाली.

    रामराम.

    ReplyDelete
  5. वाह . बहुत सुन्दर व् सार्थक प्रस्तुति

    ReplyDelete
  6. भावो का सुन्दर समायोजन......

    ReplyDelete
  7. वाह बहुत खूबसूरत लेखनी

    ReplyDelete
  8. क्यूँ तुम खामोश रहे
    पहले कौन कहे
    दोनों ही तड़प सहें ।
    Kya gazab dhaya hai!

    ReplyDelete
  9. anu ji kasham ji ,kali ji praveen ji ,shushma ji tau ji ,sangeeta ji anupama ji ,kaliprasad ji aap sabka tahe dil se abhaar ,

    ReplyDelete
  10. बहुत सुंदर, बहुत शुभकामनाये

    ReplyDelete
  11. सभी माहिया बहुत भावपूर्ण, बधाई.

    ReplyDelete

नमस्कार मित्रों, आपके शब्द हमारे लिए अनमोल है यहाँ तक आ ही गएँ हैं तो अपनी अनमोल प्रतिक्रिया व्यक्त करके हमें अनुग्रहित करें. स्नेहिल धन्यवाद ---शशि पुरवार



linkwith

sapne-shashi.blogspot.com