सपने

सपने मेरे नहीं आपके सपने, हमारे सपने, समाज में व्याप्त विसंगतियां मन को व्यथित करती हैं. संवेदनाओं की पृष्ठभूमि से जन्मी रचनाएँ मेरीनहीं आपकी आवाज हैं. इन आँखों में एक ख्वाब पलता है, सुकून हो हर दिल में इक दिया आश का जलता है. - शशि.
शशि का अर्थ है -- चन्द्रमा, तो चाँद सी शीतलता प्रदान करने का नाम है जिंदगी .
शब्दों की मिठास व रचना की सुवास ताउम्र अंतर्मन महकातें हैं. मेरे साथ सपनों की हसीन वादियों में आपका स्वागत है.

follow on facebook

FOLLOWERS

Thursday, October 3, 2013

कण कण में बसी है माँ


कण कण में बसी है माँ।

उडती खुशबु रसोई की
नासिका में समाये
भोजन बना स्नेह भाव से
क्षुधा शांत कर जाय

प्रातः हो या साँझ की बेला
तुमसे ही सजी है माँ
कण कण में बसी है माँ।

संतान के ,सुख की खातिर
अपने स्वप्न मिटाये
अपने मन की पीर ,कभी 
ना घाव कभी दिखलाये 

खुशियाँ ,घर के सभी कोने में
तुमने ही भरी है माँ
कण कण में बसी है माँ .

माँ ने , दुर्गम राहो पर भी
हमें चलना सिखाया
जीवन के हर मोड़ पर भी
ज्ञान  दीप जलाया

संबल बन कर ,हर मुश्किल में
संग  खडी है माँ
कण कण में बसी है माँ।

शांत निश्छल उच्च विचार
मन को खूब भाते
माँ से मिले संस्कार , हम
जीवन में अपनाते

जीवन की हर अनुभूति में
कस्तूरी सी घुली  माँ
कण कण में बसी है माँ।

-- शशि पुरवार
१८ / ९ /१३

माँ से बढ़कर और क्या हो सकता है , इसीलिए यह गीत मेरी माँ को समर्पित करती हूँ ,नमन करती हूँ

11 comments:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज बृहस्पतिवार (03-10-2013) पावन माटी से प्यार ( चर्चा - 1387 ) में "मयंक का कोना" पर भी है!
    महात्मा गांधी और पं. लाल बहादुर शास्त्री को श्रद्धापूर्वक नमन।
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  2. बहुत ही सुन्दर भाव लिए रचना..
    :-)

    ReplyDelete
  3. माँ का रूप मन में पूर्णता से बस जाता है।

    ReplyDelete
  4. सुन्दर प्रस्तुति-
    आभार आदरणीया-

    ReplyDelete
  5. माँ एक ऐसा शब्द है जो स्वत: स्फूर्ति देता है ... प्रेरणा देता है ...
    भावपूर्ण अभिव्यक्ति ...

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर प्रस्तुति.. आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी पोस्ट हिंदी ब्लॉग समूह में सामिल की गयी और आप की इस प्रविष्टि की चर्चा कल - शुक्रवार - 04/10/2013 को
    कण कण में बसी है माँ
    - हिंदी ब्लॉग समूह चर्चा-अंकः29
    पर लिंक की गयी है , ताकि अधिक से अधिक लोग आपकी रचना पढ़ सकें . कृपया पधारें, सादर .... Darshan jangra


    ReplyDelete
  7. Very nicely written.
    I hope you are feeling better.
    vinnie

    ReplyDelete
  8. "कस्तूरी सी घुली माँ
    कण कण में बसी है माँ"

    ReplyDelete
  9. माँ है ,तो जहाँ है...

    सुरेश राय 'सुरS'
    http://mankamirror.blogspot.in/

    ReplyDelete

नमस्कार मित्रों, आपके शब्द हमारे लिए अनमोल है यहाँ तक आ ही गएँ हैं तो अपनी अनमोल प्रतिक्रिया व्यक्त करके हमें अनुग्रहित करें. स्नेहिल धन्यवाद ---शशि पुरवार



linkwith

sapne-shashi.blogspot.com