सपने

सपने मेरे नहीं आपके सपने, हमारे सपने, समाज में व्याप्त विसंगतियां मन को व्यथित करती हैं. संवेदनाओं की पृष्ठभूमि से जन्मी रचनाएँ मेरीनहीं आपकी आवाज हैं. इन आँखों में एक ख्वाब पलता है, सुकून हो हर दिल में इक दिया आश का जलता है. - शशि.
शशि का अर्थ है -- चन्द्रमा, तो चाँद सी शीतलता प्रदान करने का नाम है जिंदगी .
शब्दों की मिठास व रचना की सुवास ताउम्र अंतर्मन महकातें हैं. मेरे साथ सपनों की हसीन वादियों में आपका स्वागत है.

follow on facebook

FOLLOWERS

Wednesday, August 13, 2014

माहिया -- देशभक्ति

1
आजादी की बातें
दिल में जोश भरे
बीती काली रातें .
भाई पर वार करे
घर का  ही भेदी
छलिया संहार करे .
है अलग अलग भाषा
मान तिरंगे का
जन जन की अभिलाषा .
पीर हुई गहरी सी
सैनिक घायल है
फिर सरहद ठहरी सी .
क्या नेता है जाने
सरहद की पीरा
सैनिक ही पहचाने .
वैरी की सौगातें
आँखों  में कटती  
हर सैनिक की   रातें .
भूलों बिसरी बातें
नव किरणें  लायी
शुभमंगल सौगाते

साँचे ही करम करो
देश हमारा है
उजियारे रंग भरो।
फैली शीतल किरनें
मौसम भी बदले
फिर छंद लगे झरने.
१०
स्वर सारे गुंजित हो
गूंजे जन -गण -मन
भारत सुख रंजित हो.
११
नव रंग सजाने है
खुशियों के बादल
घर आज बुलाने है
१२ 
चैन अमन से खेले
बागों   की कलियाँ
खुशियों के हो मेले .
१३
जब शयनरत ज़माना
अपनों की  खातिर
सैनिक फर्ज निभाना।


 ---- शशि पुरवार

16 comments:

  1. कृपया आप अपने इस महत्वपूर्ण हिन्दी ब्लॉग को ब्लॉगसेतु ब्लॉग एग्रीगेटर से जोड़कर हमें कृतार्थ करें ... !!! धन्यवाद सहित

    http://www.blogsetu.com/

    ReplyDelete
  2. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति आज गुरुवारीय चर्चा मंच पर ।। आइये जरूर-

    ReplyDelete
  3. घर की सफ़ाई ,
    है पहला काम भाई ,
    तब दीप,फूल, रंग और
    प्रेम की सगाई !



    ReplyDelete
  4. देश प्रेम के रंग में रंगे अत्यंत सुन्दर व् प्रेरक माहिया ! स्वाधीनता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  5. wah...waa... uttam maahiye... vividh rng aur khushbu ke pushpguchchh kee tarah man ko suvasit karte hain.

    ReplyDelete
  6. सुन्दर भावों से सजी रचना बधाई

    ReplyDelete
  7. पीर हुई गहरी सी
    सैनिक घायल है
    फिर सरहद ठहरी सी .
    ....लाज़वाब...सभी प्रस्तुतियां बहुत सुन्दर और सार्थक...

    ReplyDelete
  8. आपकी इस रचना का लिंक दिनांकः 15 . 8 . 2014 दिन शुक्रवार को I.A.S.I.H पोस्ट्स न्यूज़ पर दिया गया है , कृपया पधारें धन्यवाद !

    ReplyDelete
  9. सुंदर क्षणिकाएं।।।

    ReplyDelete
  10. उम्दा और बेहतरीन... आप को स्वतंत्रता दिवस की बहुत-बहुत बधाई...
    नयी पोस्ट@जब भी सोचूँ अच्छा सोचूँ

    ReplyDelete
  11. sashi ji deshbhakti ko le kar likhe gaye sabhi mahiya bhavna pradhan hain. apko badhai.
    pushpa mehra.

    ReplyDelete
  12. सुन्दर
    वन्दे मातरम्

    ReplyDelete
  13. बहुत सुन्दर और भावुक अभिव्यक्ति

    जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाऐं ----
    सादर --

    कृष्ण ने कल मुझसे सपने में बात की -------

    ReplyDelete
  14. jandaar maahiye, antim 2 men lay bhng ho rahi hai, dekhiyega.

    ReplyDelete

नमस्कार मित्रों, आपके शब्द हमारे लिए अनमोल है यहाँ तक आ ही गएँ हैं तो अपनी अनमोल प्रतिक्रिया व्यक्त करके हमें अनुग्रहित करें. स्नेहिल धन्यवाद ---शशि पुरवार



linkwith

sapne-shashi.blogspot.com