सपने

सपने मेरे नहीं आपके सपने, हमारे सपने, समाज में व्याप्त विसंगतियां मन को व्यथित करती हैं. संवेदनाओं की पृष्ठभूमि से जन्मी रचनाएँ मेरीनहीं आपकी आवाज हैं. इन आँखों में एक ख्वाब पलता है, सुकून हो हर दिल में इक दिया आश का जलता है. - शशि.
शशि का अर्थ है -- चन्द्रमा, तो चाँद सी शीतलता प्रदान करने का नाम है जिंदगी .
शब्दों की मिठास व रचना की सुवास ताउम्र अंतर्मन महकातें हैं. मेरे साथ सपनों की हसीन वादियों में आपका स्वागत है.

follow on facebook

FOLLOWERS

Monday, November 2, 2015

आसमान से उतरे सितारे -- राजनीती की धरा पर


     

       सिने जगत एक ऐसा आसमान है, जहाँ  अनगिनत सितारे चमकते रहते है और ऐसे सितारे जिनकी चमक  कभी  धूमिल नहीं  होती है . दुनियाँ  की आँखों को चकाचौंध भरी रौशनी से चुंधियाता  हुआ रुपहला पर्दा, यहाँ हम बात कर रहे है उन  सदाबहार अभिनेत्रियों की जिन्होंने न केवल रुपहले पर्दे पर किरदारो को जिया है बल्कि वे किरदार आज भी लोगो के दिलों पर  जीवंत राज करते  है, वक़्त तो अपनी गति से  बढ़ता चला  गया परन्तु जैसे इन सितारो  का वक़्त वहीँ ठहर गया है. आज भी  इन सदाबहार अभिनेत्रियों के  चाहने  वालों की कमी नहीं है. आज भी इनके हुस्न की चर्चा होती है, कुछ अभिनेत्रियों ने रुपहले परदे के  अलावा राजनीति के गलियारें में भी कदम रखे, तो लोगो का हुजूम ऐसा  उमड़ा  कि  जैसे सितारे ने आसमान से जमीं पर कदम रखें हों. लोगों ने इन सितारों  का स्वागत भीगे हुए स्नेहिल मन से  किया।  रुपहले परदे की कई अदाकारा जिन्होंने कला के साथ साथ राजनीति में भी अपना भाग्य आजमाया है , क्या लोगों ने उन्हें एक राजनीतिक के रूप में स्वीकार किया है है या आज भी वह एक  अभिनेत्रियों के  रूप में भी पहचानी जाती है।  एक राजनीतीक के रूप में वह कितनी सफल हुई  इस पर एक नजर डालते है …… बॉलीबुड की कई चर्चित अभिनेत्रिया जैसे हिंदी सिनेमा से नरगीस, रेखा, जया प्रदा ,हेमामालिनी,  जया  बच्चन, गुलपनाग दक्षिण की जयललिता , नगमा, बंगाल से मुनमुन सेन, अर्पिता घोष ,शताब्दी राय, संध्या राय, उड़ीसा से अपराजिता भवन्ति ……… आदि  कई अभिनेत्रियों ने राजनीति  में  अपना भाग्य आजमाया है। आईये एक नजर डालते है  उन अभिनेत्रयों के  फिल्मों से राजनीतिक सफ़र तक और किसने कहाँ तक यह सफ़र जारी रखा है।

  फ़िल्मी सफ़र से राजनितिक सफ़र पर एक नजर ---
सबसे पहले बात करते है दक्षिण की जानीमानी अदाकारा जय जयललिता जी की, जो न सिर्फ रुपहले पर्दे पर सफल रहीं है  बल्कि एक राजनितिक के रूप में भी कामयाबी ने उनका दामन थामे रखा है . लोगों ने इन्हें वही प्यार दिया जो एक अभिनेत्री  को दिया था। 
२४ फरवरी १९४८ को जन्मी जयललिता के सर से उनके पिता का साया महज २ वर्ष की उम्र मे मिट गया था, बेहद गरीबी और अभावों में पली जयललिता ने परिवार  चलाने के लिए  १५  वर्ष की उम्र में सिनेमा का रुख किया और जाने माने निर्देशक श्रीधर की फ़िल्म " वेन्नीरादई " से अपना कॅरिअर शुरू किया फिर तमिल, हिंदी और तेलगु की  लगभग ३०० फिल्मों में काम किया। गोल चेहरा, बड़ी आंखें और आकर्षक अंदाज वाली इस अभिनेत्री ने २० साल तक लोगों के दिलों में पर एक हीरोइन के रूप में राज किया 
 अपने सफलता के इसी अंदाज  को उन्होंने राजनीति में भी बरकरार  रखा है. सपनों की  परिभाषा बदल कर सपनों को नए रंगो से सरोबार कर दिया। 
  राजनीति  में " अम्मा " के नाम से  मशहूर जयललिता को  पार्टी के अंदर और सरकार में रहते हुए मुश्किल  कठोर फैसलों के  कारण तमिलनाडू में " आइरन लेडी " और तमिल की  "मार्ग्रेट थ्रेचर "भी कहा जाता है. सन १९८२ में  पूर्व साथी  अभिनेता और नेता एम्. जी. रामचंद्रन ही  जयललिता को राजनीति में लाए, उसी साल वह ए.आई.ए.डी.एम.के. के टिकट पर राज्यसभा  के लिए मनोनीत की गईं. उसके बाद उन्होंने पीछे मुड़ कर नहीं देखा। हालाकि १९८७ में उन्हें पार्टी के प्रोपोगेंडा  सचिव के पद से हटा दिया गया था। आल इंडिया अन्ना द्रविड़ मुनेत्र कड़गम पार्टी से  तमिलनाडु में मुख्यमंत्री की कुर्सी पर बैठीं जयललिता  ने 1991 से 1996 के बीच, फिर कुछ वक्‍त 2001 में और उसके बाद 2002 से 2006 के बीच मुख्यमंत्री का कार्यभार संभाला  हैं। समर्थकों के लिए वह अम्मा भी हैं और क्रांतिकारी नेता (पुरात्ची थलाइवी) भी।
  
           सन १९९१ में राजीव गांधी की हत्या के बाद  जयललिता ने कांग्रेस के साथ गठबंधन किया, जिसका उन्हें फायदा पहुंचा. लोगों के मन में डीएमके के प्रति जबरदस्त गुस्सा था क्योंकि लोग उसे लिट्टे का समर्थक समझते थे. मुख्यमंत्री बनने के बाद जयललिता ने लिट्टे पर पाबंदी लगाने का अनुरोध किया, जिसे केंद्र सरकार ने मान लिया. हालांकि  वह हिंदूवादी समझी जाती हैं लेकिन उन्होंने शिव सेना और बीजेपी की कार सेवा के खिलाफ बोला.   2001 में वह दोबारा सत्ता में आईं तब उन्होंने लॉटरी टिकट पर पाबंदी लगा दी. हड़ताल पर जाने की वजह से दो लाख कर्मचारियों को एक साथ नौकरी से निकाल दिया, किसानों की मुफ्त बिजली पर रोक लगा दी, राशन की दुकानों में चावल की कीमत बढ़ा दी, 5000 रुपये से ज्यादा कमाने वालों के राशन कार्ड खारिज कर दिए, बस किराया बढ़ा दिया और मंदिरों में जानवरों की बलि पर रोक लगा दी.लेकिन 2004 के लोकसभा चुनाव में बुरी तरह हारने के बाद उन्होंने पशुबलि की अनुमति दे दी थी  और फिर किसानों की मुफ्त बिजली भी बहाल हो गई.  कई कठोर  फैसले लिए  जिसके कारन आलोचना का सामना भी करना पड़ा फिर उन्होने पुराने फैसलों से सीख लेते हुए पार्टी को बिखरने नहीं दिया…… उन्हें अपनी आलोचना बिल्कुल पसंद नहीं है, इसी  वजह से उन्होंने कई अखबारों के ख़िलाफ़ मानहानि के मुक़दमे दायर  कर रखें हैं। खैर बात यह नहीं कि क्या हुआ ? मुख्य बात यह है कि जयलिता ने सिनेमा और  राजनीती दोनों  में सफलता के नए मापदंड स्थापित किये है और  लोगों ने जयललिता के दोनों किरदारों  को बेहद पसंद किया व जयललिता आज भी लोगों के दिलो में राज करतीं है।

ऐसी ही एक अभिनेत्री जया भादुडी  बच्चन -
सन ९ अप्रैल १९४८ को मध्यप्रदेश के जबलपुर में बंगाली परिवार में जन्मी जया   भादुडी ने  महज १५ वर्ष की उम्र में अपने  फ़िल्मी सफ़र की शुरुआत सन  १९६३ में बंगाली फ़िल्म महानगर से की थी , फ़िल्मी दुनिया में जब उन्होंने कदम रखा तब शर्मीला टैगोर और हेममनीलिनी का जादू  लोगो पर चढ़ा हुआ था, ऐसे में सीधी सादी मासूम सी लड़की का सफल और स्थापित होना लोगों को नामुमकिन लगता था, परन्तु यही सादगी लोगो के दिलो में बस गयी।  आम लड़की के रूप में  किरदारों जिया है. लोगों को  उनमे अपने ही  पड़ोस की लड़की नजर आती थी। प्रतिभा और बेजोड़ अभिनय की धनी जया ने अपने बेहतरीन अभिनय द्वारा फ़िल्म जगत को  अनगिनत यादगार फिल्में दीं है और परदे पर हर किरदार को जीवंत  कर दिया, गुड्डी के नाम से मशहूर सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री जया को उनके सर्वश्रेष्ठ अभिनय के लिए अनेकों फिल्मफेयर पुरस्कार, अंतर्राष्ट्रीय फ़िल्म फेयर पुरस्कार, सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री पुरस्कार , लाइफ टाइम अचीवमेंट पुरस्कार, सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेत्री पुरस्कारो से नवाजा जा चुका है. सन ३ जून १९७३ को मशहूर अभिनेता अभिताभ बच्चन से उनकी शादी संपन्न हुई और  वे जय बच्चन बनी। उनका फ़िल्मी सफ़र कभी भी समाप्त हुआ, आज भी वें यदा कदा  बेहतरीब फिल्मों में अपने अभिनय का जादू  बिखेरतीं है।  उन्होंने अपनी एक विशिष्ठ पहचान स्थापित की है।  जया बच्चन को वर्ष २००४ में  राज्यसभा के सदस्य के तौर पर चयनित किया गया था. तब जया बच्चन उत्तर प्रदेश फ़िल्म डेवलपमेंट कॉउसिल के अध्यक्ष के तौर पर अन्य सेवाएं भी दे रहीं थी।  कांग्रेस के भारत के राष्ट्रपति ने उनसे इस्तीफा देने के लिए कहा था जिससे उनका कार्यकाल पूरा नहीं हो सका था। वर्ष १९९२ ने जया बच्चन को भारत सरकार द्वारा  पद्म श्री प्रदान किया गया और उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा  यश भर्ती सम्मान से नवाजा गया। आज भी जया बच्चन अपना विशिष्ठ स्थान बनायें हुएँ है।
 इस कड़ी में नाम जुड़ता है बला की  खूबसूरत अभिनेत्री रेखा का। ....
     रेखा का असली नाम  भानुरेखा गणेशन है।  सन १० ओक्टुबर १९५४ को जन्मी प्रतिभाशाली अभिनेत्री रेखा का जन्म चेन्नई में हुआ था. एक बाल कलाकार के रूप में रेखा ने १५ वर्ष की उम्र से तेलगु फ़िल्म रंगुला रत्नम से फिल्मजगत में कदम रखा था, लेकिन हिंदी सिनेमा में उनकी प्रविष्टि फ़िल्म सावन भादो से हुई,  फिर रेखा ने पलट कर नहीं देखा, अपने ४० साल के फिल्मी करिअर में उन्होंने कई सुपरहिट फिल्में दीं है। १८० से ज्यादा फिल्मों में काम कर चुकी यह  सांवली रंग की  खूबसूरत अदाकारा अपने बेजोड़ अभिनय ,सदाबहार हुस्न और जीवंत किरदारों के कारण आज भी लोगों के दिलों पर  राज करती है, अभिनय तो जैसे इनकी रगों में बसा हुआ है, फ़िल्म जगत को कई यादगार फिल्में देने वाली रेखा का हुस्न और सौंदर्य आज भी कशिश भरा है. यह सौंदर्य लोगो के लिए  रहस्य बना हुआ है , उमराव जान का किरदार व कई गानें तो लगता है जैसे रेखा के लिए ही लिखे गए थे।  इन आँखों की मस्ती के….......  सच ने दीवानें आज भी हैं। रेखा का फ़िल्मी सफ़र कभी समाप्त नहीं हुआ अपितु कम हुआ है।  उनकी उपस्थिति आज भी दर्शको को  बॉक्स ओफ़िस तक खींच लाती है।  रेखा जितनी अपने सौंदर्य को लेकर चर्चित रही है उतनी ही कई बार अपने साथी अभिनेता से अपने अफैयर को लेकर भी चर्चित हुई है. कभी विनोद मेहरा , कभी विश्व्जीत तो कभी अमिताभ बच्चन जिनके साथ इनका नाम सबसे ज्यादा जुड़ा, तो कभी अपने  पति मुकेश गौस्वामी की  आत्महत्या के कारन चर्चा में आयीं, परन्तु रेखा का सौंदर्य और अभिनय सदैव सर्वोपरि  रहा है , हर किरदारों को  परदे पर जीवंत करने वाली रेखा को  उनके अभिनय के लिए फिल्मफेयर पुरस्कार भी प्रदान किया गया है।
 सरकार ने रेखा के शानदार अभिनय और फिल्मजगत में उनके योगदान को सम्मानित करते हुए उन्हें राज्यसभा के तौर  पर मनोनीत किया गया ,१५ मई २०१२ को रेखा ने राज्यसभा सदस्य के रूप में शपथ ली थी। सांसद रेखा रिटेल में एफडीआई के पक्ष में नहीं थी। वह एफडीआई के पक्ष में वोट भी नहीं करना चाहती थी। सरकार ने रेखा को पटाने के लिए उनकी एक मांग पूरी कर दी और आखिरी मौके पर रेखा ने सरकार के पक्ष में वोट भी डाल दिया। एक समाचार पत्र के मुताबिक रेखा दिल्ली में मन मुताबिक आवास सुविधा नहीं मिलने से नाराज थीं। वे राजनीती में सक्रीय है पर रेखा आज भी लोगों के दिलो में एक अभिनेत्री के रूप में राज करती है।
 एक और खूबसूरत अदकारा, हर उम्र के लोगो की ड्रीम गर्ल हेमामालिनी जिन्होंने साइन जगत से अपने कदम राजनीति की धरती पर रखें है - १६ ओक्टुबर १९४८ को अम्मनकुडी में जन्मी हेमामालिनी को दर्शक ड्रीम गर्ल  के नाम से जानते है , हर उम्र के लोगों  की ड्रीम गर्ल  कही जाने वाली हेमामालिनी एक प्रसिद्ध अभिनेत्री के साथ- साथ प्रसिद्ध नृत्यांगना भी है , यह उन गिनी चुनी सदाबहार अभिनेत्रयो में से है जिनमें  सौंदर्य , अभिनय और ग्लैमर का अनूठा संगम है, अपने फ़िल्मी सफ़र की  शुरुआत में उन्होंने बहुत संघर्ष किया है। तमिल निर्देशक श्रीधर ने तो यहाँ  तक कह दिया था कि इनमे स्टार  अपील नहीं है, कई संघर्षो के बाद  उन्हें राजकपूर की फ़िल्म सपनों के सौदागर में बतौर नायिका काम मिला , जिसमे उन्हें ड्रीम गर्ल कह कर प्रचारित किया गया था, फ़िल्म तो नहीं चली पर उनका सौंदर्य लोगों के दिलो में जगह बनाने में कामयाब रहा।  सन १९७० की फ़िल्म जानी मेरा नाम से उन्हें सफलता हासिल हुई , करीब १५० से ज्यादा फिल्मो में काम कर चुकी हेमामालिनी  आज भी ड्रीम गर्ल कहा जाता है .  उनका सौंदर्य और अभिनय आज भी लोगो को परदे पर आकर्षित करता है।  कई फिल्मफेयर पुरस्कार से नवाजी जा चुकी हेमामालिनी ने समाजसेवा कार्य हेतु राजनीति  में प्रवेश लिया और भारतीय जनता पार्टी के सहयोग से  राज्यसभा सदस्य बनी हेमा मालिनी को फिल्मों में उल्लेखनीय योगदान के लिए 1999 में फिल्मफेयर का लाइफटाइम एचीश्री सम्मान से भी सम्मानित की गईं। हेमामालिनी आज भी फ़िल्म और राजनीति  में सक्रियता बनाये हुए है.
अब हम बात करते है बुद्धिजीवी  कही जाने वाली बेहतरीन आदाकारा शबाना आजमी की -- शबाना आजमी जितनी बड़ी सशक्त अभिनेत्री है वह उतनी ही अच्छी व सशक्त समाजकर्ता भी है.  शोषित समाज के लिए तो वह मुखर  आवाज बनी हुईं है । मशहूर शायर कैफी आजमी की बेटी  शबाना आजमी का जन्म १८ सितम्बर १९५० हुआ था, प्रखर बुद्धि की शबाना आजमी कभी फिल्मों में आना नहीं चाहती थी, शुरू से ही प्रोग्रेसिव विचारो, परम्पराओ एव मान्यताओं से जुडी शबाना आजमी का   झुकाव अभिनय  की   तरफ नहीं  था , लेकिन फ़िल्म सुमन में जया बच्चन की एक्टिंग से प्रभावित होकर शबाना आजमी ने फ़िल्म एक्टिंग और टेलीविजन इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया में दाखिला ले लिया।  सन  १९७३ को डिप्लोमा पूरा करके वापिस लौटी तो मरहूम ख्वाजा अहमद अल्बास ने उन्हें अपनी फ़िल्म  फासला के लिए  साइन कर लिया।  शबाना आजमी को पेड़ों के इर्द गिर्द घूमना पसंद नहीं था। उनकी फिल्में आम फिल्मों से अधिक सशक्त विषय पर आधारित होती थी.  बेजोड़ शानदार अभिनय के बतौर उन्होंने अर्थ ,स्पर्श , पार……  आदि अनगिनत फिल्मों में अपने अभिनय का लोहा मनवाया है। फिल्मो में जिस तरह उन्होंने आम आदमी का दर्द प्रस्तुत किया, उसी तरह असल जीवन में भी वे आम आदमी के दर्द से जुड़कर उनकी आवाज बनी।  उन्होंने एक सफल सामाजिक कार्यकर्त्ता के रूप में भी अपनी  पहचान बनायीं है।  जावेद अख्तर के साथ उन्होंने शादी की।  उनके बेजोड़ अभिनय के लिए कई नेशनल अवार्ड  से से सम्मानित किया गया , शबाना आजमी को भारत सरकार द्वारा पद्मश्री पुरस्कार भी दिया गया है. एक सामजिक कार्यकर्त्ता के तौर  पर भी शबाना आजमी एक सफल शक्शियत  बन कर उभरी है। दोनों किरदार फिल्म व राजनिति मे  शबाना आजमी एक सफल नाम है।

इसी कड़ी में आगे नाम जुड़ा अभिनेत्री  जयाप्रदा का ---
जया प्रदा  एक सफल अभिनेत्री और सफल राजनितीज्ञ के रूप में जानी जाती है . ३ अप्रैल १९६२ में जन्मी जयाप्रदा का असली नाम ललिता रानी है ,आंध्र प्रदेश के राममंड्री में जन्मी जयाप्रदा ने बचपन से ही नृत्य और संगीत में दक्षता हासिल कर ली  थी . स्कूल के वार्षिक  समारोह में १४ वर्ष की जयाप्रदा ने नृत्य प्रस्तुति दी थी।,तब वहाँ तमिल के एक निर्देशक भी मौजूद थे। जिन्होंने बाद में जयाप्रदा को अपनी तमिल  फ़िल्म भूमिकोसम  में ३ मिनिट का नृत्य करने के लिए कहा था।  उनके परिवार ने उन्हें प्रोत्साहित किया और इस तरह उन्होंने फिल्मों में अपने कदम रखे।  ३ मिनिट के उनके नृत्य को देखकर उनके पास अनगिनत फिल्मों के प्रस्ताव बाढ़ की तरह आने लगे। उनके नृत्य कौशल के बल पर उन्होंने बहुत जल्दी तमिल में फ़िल्मी सफलता हासिल कर ली , उनकी  फ़िल्म के बालचंदर की अंतुलेनी कथा जबरजस्त हिट  हुई।  उन्होंने तेलगु  के  अलावा तमिल, मलयालम और कन्नड़ फिल्मो में भी अभिनय किया एवं  सभी जगह सफलता के नए मुकाम स्थापित किये . जब   के. विश्वनाथ की  फ़िल्म सिरी सिरी  मुब्बा को हिंदी में सरगम नाम से बनाया गया था,  तब  इस फ़िल्म से सफलता के झंडे  गाड़ दिए थे। अपने ३० वर्षीय फ़िल्मी केरियर में उन्होंने ३००  से ज्यादा फिल्में की है। इस तरह हिंदी फिल्मों में भी उनका पदार्पण हुआ. अनगिनत पुरस्कारो से नवाजा गया है। उन्हें  सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री, सर्वश्रेष्ठ कला अभिनेत्री  के अलावा उन्हें लाइफ टाइम अचीवमेंट  पुरस्कार से भी सम्मानित किया गया है.  कुछ अन्य कई पुरस्कार जैसे  राजीव गांधी पुरस्कार , नर्गिस दत्त पुरस्कार , शकुंतला कला रत्नम पुरस्कार , उत्तम कुमार पुरस्कार , उत्तम लेखन पुरस्कार , ANR उपलब्धि पुरस्कार , किन्नेर सावित्री पुरस्कार , कला सरस्वती पुरस्कार …… समेत अनगिनत पुरस्कारो से उन्हें नवाजा गया है। सन १९८६ में श्रीकांत नहाटा से उन्होंने शादी की जो पहले से शादी शुदा थे। जितनी सफल वे फिल्मो में हुई उतनी ही राजनिति  में भी  सफलतापूर्वक पहचान स्थापित करके  सक्रीय है जयाप्रदा के राजनितिक  जीवन पर नजर डालें तो कई रोचक तथ्य भी मिलते हैं . फ़िल्मी कॅरिअर के चरम पर पहुचने के बाद जयाप्रदा ने अपने साथी अभिनेता   एन टी रामाराव  की पार्टी से १९९४ में तेलगुदेसम पार्टी से अपना राजनीतिक सफ़र शुरू किया।  एन टी रामाराव का स्वास्थ ख़राब होने पर चन्द्र बाबू नायडू को आंध्रप्रदेश का मुख्यमंत्री बनाया गया और उसी दौरान जयाप्रदा  राज्यसभा के लिए नामित हुई थी। सन १९९६ में जयाप्रदा तेलगु की महिला अध्यक्ष बनी।  बाद में उन्होंने तेपेदा छोड़ दिया और समाजवादी पार्टी में शामिल हो गयी। सन २००४ के आम चुनाव में उन्होंने रामपुर से संसदीय चुनाव लड़ा व ८५ हजार वोटो से जीती।  पांच साल तक सांसद रहने के बाद पुनः चुनाव लड़ा और ३०,००० से  ज्यादा वोटो के अंतर पर विजयी रही।  आज भी जयाप्रदा राजनिति  में उतनी ही शिद्दत से कार्यरत है  और सफल है। 
अब बात करतें है उस युवा अभिनेत्री की जिसने कम उम्र में सफलता के कई आयाम स्थापित किये हैं।   यहाँ हम बात कर रहे हैं बॉलीबुड , टोलीवुड और कॉलीवुड की  सफलतम अभिनेत्री नगमा की जिनका वास्तविक नाम है नंदिता मोरारजी या नम्रता सदाना, जिनका  जन्म २५ दिसम्बर १९७४ को हुआ।
 मुसलमान माँ  और हिन्दू पिता की  संतान नगमा  सभी धर्मो का सम्मान करती है. अपनी मिश्रित धार्मिक प्रवर्ति के कारन उन्होंने  कुरान , भगवतगीता , बाइबल सभी का अध्यन किया है। सन  १९९० में १६ साल की  उम्र में उन्होंने अभिनेता सलमान खान के साथ बागी नाम की  सफलतम हिंदी फ़िल्म से फ़िल्म जगत में अपनी जोरदार एंट्री की थी । हिंदी , तेलगु , तमिल ,कन्नड़ , मलयालम , भोजपुरी , बंगाली , भोजपुरी , पंजाबी और मराठी सभी फिल्मो में उल्लेखनीय कार्य किया।  तमिल में  प्रसंशको ने  तो उनका एक मंदिर ही बना दिया और भोजपुरी सिनेमा में तो वह भोजपुरी फिल्मो की माधुरी दीक्षित कही जाती है। सन २००५ में भोजपुरी फ़िल्म दूल्हा मिलाल दिलदार  के लिए उन्हें सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री का पुरस्कार प्राप्त हुआ।   अप्रैल  २००४ में उन्होंने कांग्रेस पार्टी के लिए आँध्रप्रदेश में प्रचार किया था , कांग्रेस पार्टी की समर्थक नगमा को भाजपा ने लुभाने की बहुत कोशिश  की, परन्तु वे कांग्रेस पार्टी की स्टार प्रचारक थी।   धर्मनिरपेक्षता , कमजोर  और गरीब वर्ग के उद्धार के लिए प्रतिबध्द नगमा को सन  २००७ में राज्य सभा  सीट के लिए  नामित किया गया था।   राजीव गांधी   की प्रशंसक होने के कारण उन्होंने कोंग्रेस को ही प्रमुख रखा, नगमा एक राजनीतियज्ञ और अभिनेत्री के तौर पर सफल एवं सक्रीय भूमिका में है।
इसी तरह कई अभिनेत्रिया है जो सिने  परदे से निकलकर राजनीति की दुनिया में आयी है। आगे बात करते है बंगाली और हिंदी की  सफल अभिनेत्री और बंगाल की महान अदाकारा सुचित्रा की बेटी  मुनमुन  सेन की, जो भारतीय सिनेमा की प्रमुख अभिनेत्री रही है। २८ मार्च १९४८ को कोलकत्ता में   जन्मी मुनमुन सेन ने हिंदी के अलावा भी बंगला तमिल और मराठी फिल्मों में भी काम किया है कला के अलावा मुनमुन सेन को सामजिक कार्यो में भी रूचि थी, यही कारण है कि उन्होंने शादी से पहले ही एक बच्चे को गोद ले लिया था। अपने बोल्ड और   सेक्सी अंदाज के लिए मशहूर रही मुनमुन सेन एक सफल अभिनेत्री के  तौर पर कभी स्थापित नहीं हो सकी थी।  सन २०१४ में पश्चिम बंगाल के बांकुड़ा लोकसभा सीट से तृणमूल की उमीदवार के तौर पर उन्होंने अपना टिकिट दाखिल किया है। चूँकि यह महान बंगाली अदाकारा की बेटी हैं  तो इसी वजह से राज्य की जनता से उन्हें बहुत स्नेह मिलता है। उन्होंने यह उम्मीद जतायी है कि यदि उन्हें जनसमर्थन प्राप्त होता है तो इस नए किरदार में वह लोगों के दुःख दर्द को जानने का मौका मिलेगा और वह उनके लिए कुछ अच्छा करना चाहेंगी।

      इस तरह  ५   ओक्टुबर १९६९ को जन्मी बंगला अभिनेत्री, निर्देशक , और डाइरेक्टर  शताब्दी राय ने भी तृणमूल कोंग्रेस से ही राजनीती में अपने कदम बढ़ाएं है  और सफलता पूर्वक राजनीति में सक्रीय है , इसी कड़ी बंगाल के रंगमंच की कलाकार अर्पित घोष भी राजनीति में अपनी सक्रियता बनाये हुए है। बंगाल का एक और नाम अभिनेत्री  संध्या राय ने तृणमूल कांग्रस से अपना  मार्च २०१४ में नामांकन दाखिल किया था.

 हाल ही में बॉलीबुड की जानी मानी मॉडल एवं अभिनेत्री गुलपनाग जिनका जन्म ३ जनवरी १९७९ को हुआ है, उन्होंने भी राजनीति की  तरफ रुख किया है। गुलपनाग पूर्व में मिस इंडिया रह चुकी है। शानदार, सशक्त अभिनय करने  वाली गुलपनाग चित्रपट के मामले में बहुत चूजी रही है ,इन्हे क्रिटिक्स चॉइस सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री का पुरस्कार प्राप्त हुआ है।  गुलपनाग अभिनय के साथ साथ सामजिक कार्यो से जुडी हुई थी। गुलपनाग भ्रष्टाचार ,वंशवाद और अपराधी राजनीति के आंदोलनो में सक्रिय  रही है, इन्होने १४ मार्च २०१४ को आप पार्टी के नामांकन  दाखिल किया था  यह भी सबसे कम उम्र की अभिनेत्री है। जिन्होंने राजनीति में अपने कदम बढ़ाये है।
    यह सफ़र तो यहीं ख़त्म नहीं होता, किन्तु सभी अभिनेत्रियां , एक अभिनेत्री के रूप में सभी के दिलों पर  राज कर रही है किन्तु हम तो यही चाहेंगे कि यह सभी चमकते सितारे राजनीति के गलियारो को सकारात्मक ऊर्जा और नयी रौशनी से रौशन कर दे।  यहाँ भी उसी चमक के साथ लोगो के दिलो पर राज करें और समाज में में अपने महत्वपूर्ण कार्यों में अपना योगदान प्रदान कर सकें। शुभकामनाओ सहित।
-------- शशि पुरवार 


8 comments:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल मंगलवार (03-11-2015) को "काश हम भी सम्मान लौटा पाते" (चर्चा अंक 2149) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  2. सुंदर जानकारी उन तमाम अभिनेत्रियों के बारे में जो अभिनय के क्षेत्र में अपना परचम लहराने के बाद राजनीती में भी सफल रहीं हैं.

    ReplyDelete
  3. विशद जानकारी उन अभिनेत्रियों के बारे में जिन्होंने राजनीति में भी कदम रखा. लेकिन कुछ अभिनेत्रियों को छोड़ कर, अधिकाँश केवल एक शो पीस बन कर रह गयीं और केवल चुनावी सभाओं में भीड़ आकर्षित करने के अतिरिक्त अभी तक कुछ नहीं कर पायी. बहुत रोचक आलेख..

    ReplyDelete
  4. आपकी इस पोस्ट को आज की बुलेटिन लाशों के ढ़ेर पर पड़ा लहुलुहान... - ब्लॉग बुलेटिन में शामिल किया गया है.... आपके सादर संज्ञान की प्रतीक्षा रहेगी..... आभार...

    ReplyDelete
  5. बहुत ही उम्दा पोस्ट |आभार

    ReplyDelete
  6. बहुत ही शानदार लेख की प्रस्‍तुति। आपका आभार।

    ReplyDelete
  7. बहुत ही शानदार लेख की प्रस्‍तुति। आपका आभार।

    ReplyDelete

नमस्कार मित्रों, आपके शब्द हमारे लिए अनमोल है यहाँ तक आ ही गएँ हैं तो अपनी अनमोल प्रतिक्रिया व्यक्त करके हमें अनुग्रहित करें. स्नेहिल धन्यवाद ---शशि पुरवार



linkwith

sapne-shashi.blogspot.com