सपने

सपने मेरे नहीं आपके सपने, हमारे सपने, समाज में व्याप्त विसंगतियां मन को व्यथित करती हैं. संवेदनाओं की पृष्ठभूमि से जन्मी रचनाएँ मेरीनहीं आपकी आवाज हैं. इन आँखों में एक ख्वाब पलता है, सुकून हो हर दिल में इक दिया आश का जलता है. - शशि.
शशि का अर्थ है -- चन्द्रमा, तो चाँद सी शीतलता प्रदान करने का नाम है जिंदगी .
शब्दों की मिठास व रचना की सुवास ताउम्र अंतर्मन महकातें हैं. मेरे साथ सपनों की हसीन वादियों में आपका स्वागत है.

follow on facebook

FOLLOWERS

Monday, June 26, 2017

क्रोध बनाम सौंदर्य -

 Related image

आज सरकारी आवास पर बड़े साहब रंग जमाए बैठे थे. वैसे तो साहब दिल के बड़े गरम मिजाज है, लेकिन आज बर्फ़ीला पानी पीकर, सर को ठंडा करने में लगे हुए है।  सौंदर्य बनाम क्रोध की जंग छिड़ी हुई है। आज महिला और पुरुष समान रूप से जागरूक है. यही एक बात है जिसपर मतभेद नहीं होते है।  कोई आरक्षण नहीं है ? कोई द्वन्द नहीं है, हर कोई  अपनी काया को सोने का पानी चढाने में लगा हुआ है। ऐसे में साहब कैसे पीछे रह सकते हैं.  हर कोई सपने में खुद को  ऐश्वर्या राय और अमिताभ बच्चन के रूप में देखता है।   साहब इस दौड़ में प्रथम आने के लिए बेक़रार है। बालों  में  बनावटी यौवन टपक रहा हैं,
किन्तु बेचारे पेट का क्या करे ? ऐसा लगता है जैसे शर्ट फाड़कर बाहर निकलने को तैयार बैठा हो. कुश्ती जोरदार है। चेहरेकी लकीरें घिस घिस कर चमकाने के प्रयास में चमड़ी दर्द से तिलमिला कर अपने रंग दिखा गयी है।
भाई इस उम्र में अगर अक्ल न झलके तो क्या करे।  अक्ल ने भी भेदभाव समाप्त करके घुटने में अपना साम्राज्य स्थापित करना प्रारम्भ कर दिया है। बेचारा घुटना दर्द की अपनी दास्तां का राग गाता रहता है।
         अब क्या करे  साहब का गुस्सा तो बस बिन बुलाया मेहमान है, जब मर्जी नाक से उड़ कर मधुमक्खी की तरह अपना डंक मारकर  लहूलुहान करता है।
शब्द भी इस डंक की भाँति अंत तक टीसते रहते है।  वैसे गुस्से में शब्द कौन से कहाँ गिरे, ज्ञात ही नहीं होता है .  बेचारे शब्दों को, बाद में दिमाग की बत्ती जलाकर ढूँढ़ना पड़ता है। अब शब्दों की जाँच नहीं हो सकती कि ज्ञात हो कौन से पितृ शब्द से जन्मा है।  भाषा क्रोध में अपना रंग रूप बदल लेती है।  क्रोध में कौन सा शब्द तीर निकलेगा,  योद्धा को भी पता नहीं होता।  आज के अखबार में सौंदर्य और क्रोध के तालमेल के बारे में सुन्दर लेख उपाय के संग दुखी हारी लोगों की प्रेरणा बना हुआ था।  ख़बरें
पढ़ते पढ़ते शर्मा जी ने साहब को सारे टिप्स  चाशनी में लपेटकर सुना दिए.

 साहब -- जवां रहने का असली राज है गुस्से को वनवास भेजना, गुस्सा आदमी को खूँखार बना देता है। आदमी को ज्ञात नहीं होता वह वह कब पशु बन गया है।  गुस्से में  उभरी हुई आकृति को यदि  बेचारा  खुद आईने में देख ले, तो डर जाये।  टेढ़ी भौहें, अग्नि उगलती से आँखे, शरीर का कम्पन के साथ  तांडव
नृत्य, ऐसी  भावभंगिमा कि जैसे ४२० का करंट पूरे शरीर में फैला देती हैं.
सौम्य मधुरता मुखमण्डल को पहचानने से भी इंकार  कर देती है। क्रोध के  कम्पन से एक बात समझ आ गयी कोई दूसरा क्रोध करे या न करें हम उसके तेवर में आने से पहले ही काँपने लगते है।  अगले को काहे
मौका दें कि वह हम पर अपना कोई तीर छोड़े।

             क्रोध की महिमा जानकार साहब  क्रोध को ऐसे गायब करने का प्रयास कर रहे हैं जैसे गधे से सिर से सींग. सारे सहकर्मी  पूरे शबाब पर थे। एक दो पिछलग्गू भी लगा लिए और साहब की चम्पी कर डाली।भगवान् जाने  ऐसा मौका मिले न मिले।  अन्य  सहकर्मी -- साहब योग करो, . व्यायाम करो.........

साहब ने बीच में ही कैंची चला दी और थोड़ा शब्दों को गम्भीरता से  चबाते हुए बोले -- क्या व्यायाम करें।बस आड़े टेढ़े मुँह बनाओ, शरीर को रबर की तरह जैसा चाहो वैसा घुमा कर आकार बनो लो।  लो भाई क्या उससे हरियाली आ जाएगी।

          फिर  खिसियाते हुए जबरन हे हे हे करने लगे, अब क्रोध तो नहीं कर सकते तो उसे दबाने के लिए शब्दों को चबा लिया, जबरजस्ती होठों - गालो को तकलीफ देकर हास्य  मुद्रा बनाने का असफल प्रयास किया। बहते पानी को कब  तक बाँधा जा सकता है ऐसा ही कुछ साहब के साथ हो रहा था।  आँखों  में  बिजली ऐसी कड़की कि आसपास का वातावरण और पत्ते पल में साफ़ हो गए।

       क्रोध के  अलग अलग अंदाज  होते है , मौन धर्मी क्रोध जिसमे मुँह  कुप्पे की फूला रहता है।  कभी आँखे अपनी कारगुजारी दिखाने हेतु तैयार  रहती है , कभी कभी मुँह फूलने की जगह पिचक जाता है तो आँखों से दरिया अपने आप बहने लगता है.  कभी कभी क्रोध की आंधी ह्रदय की सुख धरनी को दुःख  धरनी बना देती है।  चहलकदमी की सम्भावनाएं बढ़ जाती है, सुख चैन लूटकर  पाँव गतिशील हो जाते हैं व कमरे या सड़क  की लम्बाई ऐसे नापते है कि मीटर भी क्या नापेगा। शरीर की चर्बी अपने आप गलनशील हो जाती है ,  तो क्रोध एक  रामवाण इलाज है, मोटापे को दूर करने का?  यह भी किसी योग से कम नहीं है । 
  एक ऐसी दवा जो बहुत असरकारक होती है , मितभाषी खूब बोलने लगते है और  अतिभशी मौन हो जाते है या अति विध्वंशकारी हो जाते है। कोई गला फाड़कर चिल्लाता है तो कोई चिल्लाते हुए गंगा जमुना बनाता है।  कोई शब्दों को पीता है तो उसे चबाकर नयी भाषा का जन्म देता है।

 आज साहब को क्रोध का महत्व समझ आया, सोचने लगे ---   वैसे गुस्से से बड़ा  कोई बम नहीं है। गुस्सा करके हम तर्कों से बच सकते है. विचारों को नजर  अंदाज कर सकते है। कुछ न आये तो क्रोध  की आंधी सारे अंग को हिलाकर गतिशील बना देती है।  सौंदर्य योग हेतु यह योग कोई बुरा नहीं है अभी इसका महत्व लोगों को समझ नहीं आया जल्दी शोध होने और नया क्रोध पत्र बनेगा।
सोच रहा हूँ मैं भी क्रोध बाबा के नाम से अपना पंडाल शुरू कर देता हूँ।
 तब अपने दिन भी चल निकालेंगे, फिलहाल १०० करोड़ की माया को माटी में मिलने से बचाने के लिए संजीवनी ढूंढनी होगी , हास्य संजीवनी।  अब क्रोध का बखान आधा ही हुआ है  कहीं आपको तो गुस्सा नहीं आ रहा है ?
-- शशि पुरवार

Monday, June 12, 2017

पैदा होने का सबूत

 कई दिनों से विदेश घूमने की इच्छा प्रबल हो रही थी।  बेटा विदेश में था, तो सोचा हम भी विदेशी गंगा नहा लें।   सुना है विदेश जाने के लिए कई पापड़ बेलने पड़ते हैं। तरह तरह के रंग बिरंगे कार्ड लगाकर टिकिट कटता है। पासपोर्ट - वीजा बनवाने के लिए हमने भी अपनी अर्जी लगा दी।  बेटे ने हाथ में लिस्ट थमा दी- बापू यह सब जमा करना होगा।  पैन कार्ड, आधार कार्ड, आवास कार्ड, जन्म कार्ड, ......न जाने कितने कार्ड ?  जैसे इतने सारे कार्ड किसी विदेशी एटीम की कुंजी हो ?  उसे लगाने के बाद इंसानी जमीन में आप कदम रख सकतें हैं।  
                 हमने स्वयं अपने काम का बीड़ा  उठाया। सब कुछ मिला लेकिन जन्म प्रमाण पत्र  का दूर - दूर तक पता नहीं था।  माँ - बापू ने भी कभी   नहीं बनवाया , पहले यह सब कहाँ चलन में था। आज तक कहीं जन्म कार्ड का काम ही नहीं पड़ा. पहले के जमाने में बच्चे के  जन्म पर मिठाईयाँ  बाँटी जाती थी,  गांव भर को पता चल जाता था, बच्चा हुआ है।  हमने बहुत उत्साह से नगर निगम में अपनी अर्जी लगा दी .विदेश जाने की राह में कोई रोड़ा  नहीं होना चाहिए।   

  प्रणाम चौबे बाबू - यह हमारी अर्जी है "
ठीक है राम लाल  फॉर्म भर दो , दो चार दिन में सर्टिफिकेट ले जाना। 
 दिल बल्ले बल्ले हो गया, नयी सरकार में तेजी से काम हो रहें हैं।  लेकिन चार दिन बाद मनो घड़ा पानी हमारे सर के ऊपर पड़ा। 
 चौबे - भाई राम लाल जन्म प्रमाण पत्र नहीं मिल सकता है, यहाँ पुराने दस्तावेज जल चुके हैं "
            
                  हुआ यूँ कि  एक बार शहर भर में दंगा हुआ, दंगे में नगर निगम में भी आग लग गयी, गत कुछ वर्ष के दस्तावेज उस आग में स्वाहा हो गए, बदकिस्मती से हमरा जन्म भी उसी वर्ष में हुआ था. जिन वर्षों के दस्तावेजों की राख हमें मुँह चिढ़ा रही थी।  अब तो गयी भैंस पानी में... आग दस्तावेजों को लगी और पानी मै पी  रहा हूँ।  विगत दो वर्षों से अपने जीवित होने का साक्ष्य ढूंढ  रहा  हूँ. १२ वी पास होने का पुख्ता सबूत लेकर नगर निगम की चौखट पर  चप्पल घिस रहा हूँ।  लेकिन बात ही नहीं बनी, फाइल एक टेबल से दूसरे टेबल घूम रही है , कभी साहब नहीं तो कभी फाइल नहीं मिलती।   एक सर्टिफिकेट की वजह से विदेशी गंगा नहाने का काम खटाई में पड़ता नजर आ रहा था।  लेकिन  मुस्तैदी से अपने विकेट पर  तैनात था. कुछ भी हो सर्टिफिकेट बनवाना है ,मन में कीड़ा लग गया कि जन्म प्रमाण पत्र के बिना क्या हमारा अस्तित्व एक प्रश्न चिन्ह  लग सकता है।
                 
                    सरकारी दस्तावेजों की बात ही निराली होती है।  जो सामने है उसे सिरे से नकारते हैं, जो नहीं है उसे प्रेम से पुचकारते  हैं. जब से सरकार नए नियम कायदे लेकर आयी है, कायदे भी होशियार हो गए हैं, जीता जागता इंसान नहीं दिख रहा,  बेचारे को  मुर्दा घोषित करने पर तुले हैं। लेकिन हम हार मानने वालों में से नहीं।  फिर पहुँच गए नगर निगम चौखट पर। लेकिन इस बार वकील को साथ लेकर गए.
          आज कुर्सी पर चौबे जी मूँछो को ऐसे ताव दे रहें हैं जैसे ग्लू से चिपकी  मूंछ कहीं पोल न खोल दे। मुँख से टपकती धूर्तता चेहरे का नूर बनकर अपनी आभा बिखेर रही थी। पान चबाने के दिन भी बीते, अब पान खिलाने का नया शऊर चल रहा है। 
    "चौबे जी नमस्कार "
    " नमस्कार  भाई राम लाल कैसे हो ? "
 "जिन्दा हैं और जिन्दा होने का सबूत ढूँढ रहें है "
 "काहे मियां लाल - पीले हो रहे हो "
 " का कहें , दो वर्ष बीतने आ गए हमारा जन्म प्रमाण पत्र नहीं बना  रहें। "
" भाई हमने ऊपर बात की है कुछ जानकारी  दस्तावेज दिखाओ हम बना देंगे , जैसे  कहाँ जन्म हुआ ?  माता - पिता जी की शादी के प्रमाण पत्र, तुम्हारा जन्म किसने करवाया? कहाँ हुआ ? दायी ने जन्म करवाया या  अस्पताल  में ? माता -पिता कौन से घर में रहते थे , सभी जानकारी दो ....वैगेरह।
" अब यह जानकारी कहाँ से लाएं, जन्म प्रमाण पत्र हमें बनवाना है,  दस्तावेज  माता -  पिता के मांगे जा रहे हैं।  घोर अनर्थ है, दिमागी  घोड़े जितना दौड़ें उतना ही  कम है।  माँ बाबू परलोक सिधार गए, किराये के घर में रहते थे, डाक्टर भी कहाँ है दायी भी होगी तो मर गयी होगी, झूठ तो नहीं बोलेंगे। "
" देखिये, यह सरकारी कार्यवाही है, हम मजबूर हैं।"
" चौबे बाबू  काहे मजाक करत हो, हमरी उम्र देखकर कुछ तो सोचो,  अब सभी को परलोक के बुलाएँ का  ? माँ बाबू की शादी का प्रमाण आपके सामने बैठा है और आप क्या उजुल बातें कर रहे हो। अरे साहब, मार्कशीट है हमारी, उसी को देखकर जन्म  प्रमाण पत्र बनवा कर  हमें कागजों में जिन्दा कर दें ... हम जिन्दा होने का अहसास लेना चाहते हैं  वर्ना आत्मा  यूँ ही भटकती रहेगी "   

      "क्या करें राम लाल सरकारी खाना पूर्ति करनी होगी,  कुछ कोशिश करेंगे, अब जरा कुछ पान भी खिला दो "
       "ससुरा, मन हो या न हो हथेली कभी भी खुजलाने लगती है. पिछले दो वर्ष से पान खा खाकर होठ लाल हो गए लेकिन कागज पर दो अक्षर भी लाल नहीं हुए ... "
              खिन्न मन से जेब  में हाथ डाला तो बेचारी ऐसी फटी कि जो कुछ फँसा हुआ था वह भी बाहर छन्न करके गिर गया।   उम्र के इस मोड़ पर खुद को जीवित देखना अब जिद्द बन गयी थी.  बाहर जाने के लिए जाने कितने पापड़ बेलने बाकी थे। इधर वकील साहब भी बस जलेबी खाकर खिसिया देते हैं , आजकल फ़ोन पर ही   टरकाने लगे हमारी नगर निगम में पहचान है  करवा देंगे।  चार दिन बाद मिलना। 
  चार दिन जैसे चार बरस जैसे बीते, दस्तावेजों के अभाव में नगरनिगम  ने  प्रमाण पत्र देने से इंकार कर दिया। साथ जी नॉन एक्सिस्टेंस सेर्टिफिकेट जारी कर दिया कि फलां फलां व्यक्ति फलां सन में पैदा हुआ जिसे ब्यौरा यहाँ मौजूद नहीं है। 

          अब हमें काटो तो खून नहीं। लोगों ने सलाह दी कोर्ट जाओ हिम्मत मत हारो। फिर नियति की मार के चलते  कोर्ट में केस करने के बाद चप्पलें घिसघिस कर बदल गयी. लेकिन हम कागजों पर अजन्मे ही रहे। तारीखें  बदलती रही ,उम्र छलती रही।  हम सीधे साधे बेचारे सरकारी दॉँव पेंच में ऐसे फंसे कि खुद को मुर्दा ही समझने लगे।  खुद को आईने में देखकर डरने लगे कोई  भूत देख लिया हो। अजन्मे होने का ख्याल मन को खाने लगा है। दिल के दरवाजे पर  जंग वाला ताला लग गया.  राह चलते ऐसा प्रतीत होता जैसे कि मै वह भटकती आत्मा हूँ जिसे इंसान प्रश्न वाचक निगाहों से देख रहें है।  न घर का, ना घाट का,  मै बहता पानी  जो न जाने कौन से दरिया में जाकर मिलेगा।  
   सरकारी दफ्तर  में खुद को तलाशता हुआ  अजन्मा  प्राणी, एक रुका हुआ फैसला।  जिस फैसले के इन्तजार में कहीं फ्रेम न बन जाऊं। हाँ भाई, सरकारी दस्तावेजों के आभाव में  मेरे जन्म को सिरे से नकार कर जैसे मुझे प्रेत योनि में भेज दिया हैं.
  कहावत है  " न सौ मन तेल होगा न राधा नाचेगी "  राधा का  पता नहीं पर  तेल की धार जरूर  हवा का रुख देखकर बहने लगी हैं. तेल भी जब बाती के संग हो तब उसका जलना नियति है,  बेटा तो पहले ही विदेश में मग्न था अब उसने भी तेल डालना बंद कर दिया।  "
मदद करना तो दूर कहने लगा -- हिम्मत रख बापू सब अच्छा होगा।  "
            अच्छे वक़्त का तो पता नहीं लेकिन वकील, कोर्ट  और सरकारी दफ्तरों में  मै  जरूर  घुन की तरह पीस रहा हूँ।  कभी कभी ख्याल आता है कि जन्म प्रमाण पत्र नहीं है तब किसी को मेरा मृत्यु  प्रमाण पत्र लेने की आवश्यकता नहीं पड़ेगी।  जब कागजी जन्म नहीं तब कागजी  मृत्यु कैसी?        
                हमारे पडोसी शर्मा जी के भाई को परलोक सिधारे  हुए करीब एक वर्ष बीत गया, उनकी  आत्मा मृत्यु प्रमाण पत्र हेतु भटक रही है क्यूंकि  परिजन सरकारी अफसर की जेब व दस्तावेजों की पूर्ति करने में असमर्थ हो गए थे।         

              उम्र के इस पड़ाव पर मैंने घुटने टेक दिए, अजन्मे होने साथ  खुद की तस्वीर पर मृत्यु प्रणाम पत्र न लगाने की अंतिम ख्वाहिश भी चिपका दी,  दिल भटकती रूह से भी नाता तोड़ने को बेक़रार है। विदेश गंगा तो नहीं हमने देशी गंगा नहाकर ही खुद को धन्य कर लिया। आप कभी हमसे मिलना चाहो तो हमारी रूह खुद को कागजों में तलाशती मिल जाएगी। अजन्मा होने की  पीर जन्मे  होने की पीड़ा से कहीं ज्यादा प्रबल है. कोई यदि हमसे मिलना चाहें तो हम वहीँ  नगरनिगम की चौखट पर या सरकारी दस्तावेजों में खुद का वजूद ढूंढते मिल ही जायेंगे। सरकारी दस्तावेज में  उलझकर मेरी आत्मा चीख चीख कर कह रही है, मै मुर्दा नहीं  .......! 
-- शशि पुरवार  

Monday, June 5, 2017

फेसबुक पर महिलाओं की प्रॉक्सी

 Image result for rekhachitra
  नयन मटक्का इस बार बेहद खास बन गया है, महिलाएं हर क्षेत्र में अपनी गुणवत्ता प्रदर्शित कर रहीं हैं। सर्वप्रथम महिला सम्पादिका को बधाई और पत्रिका के संपादक को भी बधाई, उन्होंने एक महिला को यह कार्य सौंप कर समानता  के अधिकार का सार्थक उपयोग किया है।    सोशल मीडिया पर भी महिलाओं ने पुरुषों के अधिपत्य को तोड़कर अपना परचम लहराया है।            
             फेसबुक पर महिलाओं की प्रॉक्सी? मतलब महिलाओं का फेसबुक पर भी इतना बोलबाला हो गया है कि  तथाकथित मर्द अब फेक आई डी बनाकर प्रॉक्सी देने लगे हैं. उनकी दबी हुई यानि कि दमित इच्छाएं भी महिलाओं की चौखट पर दम तोड़ने लगीं हैं. आखिर   हर बार पुरुषों को महिलाओं की चौखट ही मिलती है।  तथाकथित मर्द फेक अकाउंट द्वारा अपने दूषित विचारों की लीपा पोती करतें है।   ऐसा प्रदुषण  ज्यादा देर कहाँ छुपता है।  
      हमारे पडोसी को दीवारों में कान लगाने की बुरी लत लगी हुई है,  तब तक आँखें न सेंके, कान को गर्म न करें, चुगलियां न करे,  हाजमा ख़राब हो जाता है। दिन रात एक एक बात को प्याज के छिलके उतारकर पूछना और उसका ढिंढोरा पीटना। जनाब की इस लत का शिकार पडोसी के साथ उनके घर वाले भी है।  एक भी दिन भी अगर पटाखा  न जले तो कालोनी में सूनापन महसूस होने लगता है। कुछ मर्द महिलाओं के प्रति कुछ ज्यादा लगाव महसूस करतें है इसीलिए हाव भाव भी उसी तरह रखतें हैं।  तथाकथित पुरुष वर्ग उन्हें पीठ पीछे बायको  ( महिला ) कहकर सम्बोधित करता है। लो जी यहाँ भी महिला की चौखट पर ही बलि चढ़ी।  बिना बात के बेचारी महिला ही सूली चढ़ती है।  आखिर कहीं  तो सर छुपाने की जगह होनी चाहिए। इसीलिए शायद हर जगह पुरुष प्रॉक्सी का सहारा लेते हैं। 
  
     व्यंग्य क्षेत्र  पर  भी मुख्यतः पुरुषों का आधिपत्य था. चाटुकारिता का ठीकरा  महिलाओं के सर पर फोड़कर  पुरुष बखूबी अपनी भूमिका निभा रहे थे। व्यंग्य लेखन में महिलाओं की स्थति पहले नगण्य थी लेकिन इसमें तेजी से इजाफा होने लगा, सोशल मीडिया को हथियार बनाकर कई बुद्धिजीवी महिलाओं ने हाथ में  हथियार थाम लिए. एकाएक कटाक्षों की बारिश होने लगी, कटाक्ष और व्यंग्य एक दूजे से  पृथक कहाँ है. पुरुषों ने सदा से महिलाओं को व्यंग्य वाणों हेतु बदनाम कर रखा था। तो लीजिये यही व्यंग्य वाण अब अपनी लीला दिखा रहें है. 
             सोशल मीडिया ने  कलमकारों की धार तेज करने में महत्वपूर्ण भूमिका अदा की है कहना गलत न होगा।  पहले चौपाल पर चाटुकारिता होती थी अब सोशल मीडिया एक चौपाल बनकर उभरी है।  स्वतंत्र देश के नागरिक सभी अपनी बात कहने हेतु स्वतंत्र है।
     
             हमारे शर्मा जी को अपने व्यंग्यकार होने पर बहुत गुमान था।  दिन रात पत्नी की खिल्ली उड़ाना उनके व्यंगय  लेखन का  प्रमुख अंग था. स्वतंत्र विचारों व विशाल हृदय की स्वामिनी उनके इस अंदाज पर मुस्कान बिखेरती थी, लेकिन शर्मा जी को कोई उनका मजाक बनाये पसंद नहीं था। महिलाओं का मजाक बनाना वह एक छत्र राज समझते थे।  
      
                  हमारे शर्मा जी की पत्नी भी किसी कुशल व्यंग्यकार  से कम नहीं है, देखा जाये तो शर्मा जी को उन्ही ने व्यंग्यकार बनाया है, उनके कुशल वाणों के द्वारा ही  शर्मा जी सफल व्यंग्यकार बने हैं, उनकी सफलता का श्रेय उनकी पत्नी को भी जाता है। हमें लगता है  व्यक्ति की सफलता के बीज उनकी अपनी धरती  पर ही बिखरे होतें हैं।

लेकिन शर्मा जी को पसंद नहीं कोई उनकी पत्नी की तारीफ करे. मर्द के अहम् को ठेस पहुँचती है। 
 एक दिन  हमने जब शर्मा जी से कहा - भाई, भाभी जी  को कहो कुछ लिखा करें।     
कहने लगे भाई - जान की भीख मांगता हूँ, मै अकेला भी उन्हें पढ़ने सुनने के लिए बहुत हूँ।  मेरी जान बख्शो भाई। ऐसी सलाह अपने घर में ही रखा करो।  हमें ऐसा लगा एक  सफल नामचीन व्यंग्यकार पत्नी के आगे बिसात की तरह बिछ गया। कुछ गड़बड़ है। प्रकृति की शक्ति का  अंदाज शर्मा जी को भी होगा।  
 एक दिन  की बात है - एक समारोह देखते हुए अति बुद्धिजीवी शर्मा जी की जीभ फिसल गयी, अहम् बोलने लगा  - 
" महिलाएं क्या व्यंग्य लेखन करेंगी ? वह घर में ही अच्छी लगती हैं."
कोई दूसरा कुछ बोले उसके पहले  बगल में बैठी उनकी पत्नी को पर सब नागबार गुजरा. बिफर पड़ी -   
  "आपने महिलाओं को क्या समझा है "
आवाज मिमिया गयी - " कुछ नहीं भाग्यवान ,महिलाएं कितनी अच्छी  होती हैं। .."
"अभी तुमने जो कहा वह क्या था ? और महिलाएं कितनी अच्छी से क्या तात्पर्य है, कितनी महिलाओं को जानते हो ",
 आँखे तरेर कर पूछा तो शर्मा जी एकदम गऊ बन गए। समझ गए खुद के झाल में फँस गए।  
" पुरातन समय से महिलाओं  को देवी का दर्जा दिया है। वे पूज्यनीय है, तुम न होती तो हम कहाँ होते ? तुमसे ही परिहास करके,  तुम पर चुटकुले बना कर, तानों को मूर्त रूप देकर ही व्यंग्य लिखता हूँ "
"अच्छा तो हम कोई वस्तु है, जिस पर चुटकुले लिखो "  स्वयं पर ताना समझकर थोड़ा सा  अपराध बोध  का स्टेशन  मन में आया किन्तु भावभंगिमा खा जाने वाली ट्रैन चला दी, पहले की नारी होती तो चुप सुन लेती लेकिन आज महिलाएं सजग हो गयी हैं। भाव - भंगिमा देखकर घबराकर शर्मा जी  बोले - 
 "यह सब लेखन की बातें है, शिल्प, कथ्य, बिम्ब ..अनेक बिंदु पर काम करना होता है...... दिन रात उनके बारे में सोचो फिर ...."आगे की बात मुँह में घुलकर रह गयी। 
"अच्छा अब समझी, कहाँ मशग़ूल रहते हो। बोल कालिया कितनी बिंदु तेरे पास में है ?  किसके  साथ लीला कर रहे हो?  तभी घर में  कदम नहीं टिकते  हैं, बताओ कहाँ मिलते हो इन सभी बिंदुओं से। .उफ़ कितनी आवारगी है ....."
"अरे भगवान् क्या बोल रही हो, समझो तो सही "
" सब  समझती हूँ, बन्दर के दाँत खाने के अलग होते हैं दिखाने के अलग ....यह झुनझुना कहीं और बजाना। .....  पत्नी की सेवा करो तभी मेवा मिलेगा। पत्नी जी मुस्कुरा कर आगे बढ़ गयी।  
आज उपवास रखने का समय आ गया था। शर्मा जी कलम लेकर कागज फाड़ते नजर आये। मीडिया पर खिसियानी बिल्ली की तरह पोस्टों को नोचने लगे। 
     शर्मा जी ने खिसकने में ही अपनी भलाई नजर आयी, लेकिन अगले  दिन से सोशल मीडिया पर नए व्यंग्यकार का अवतरण हो गया था, शर्मा जी की खास प्रतिद्वंदी बनकर उभरी उनकी पत्नी अब हर तरफ छायी हुई थी. शर्मा जी समझ चुके थे, पानी में रहकर मगर से  बैर नहीं करना चाहिए। चलिए शर्मा जी के साथ फिर मिलेंगे।  तब तक आप भी अपने घर में सोई हुई प्रतिभा को रास्ता दिखाएँ। जय हो 
शशि पुरवार 

Sunday, May 21, 2017

गंध फूलों की




फिर चलो इस जिंदगी को 
गुनगुनाएँ  हम 
बैठ कर बातें करें औ
मुस्कुराएँ हम 

लान कुर्सी पर मधुर 
संगीत को सुन लें  
चाय की चुस्की भरे हर 
स्वाद को गुन लें   

प्रीत के निर्झर पलों को 
गुदगुदाएं हम 
फिर चलो इस जिंदगी को 
गुनगुनाएँ  हम
 
अनकही बातें कहें जो  
शेष हैं मन में 
गंध फूलों की समेटे 
आज दामन में.

नेह की, नम दूब से 
शबनम चुराएँ हम
फिर चलो इस जिंदगी को 
गुनगुनाएँ  हम

इस समय की धार में 
कुछ ख्वाब हैं छूटे 
उम्र भी छलने लगी, पर 
साज ना टूटे 

साँझ के शीतल पलों को 
जगमगाएँ  हम 
फिर चलो इस जिंदगी को 
गुनगुनाएँ  हम

जिंदगी की धूप में 
बेकल हुई  कलियाँ 
साथ तुम चलते रहे, यूँ  
कट गयीं गलियाँ 

एक मुट्ठी चाँदनी  में  
फिर नहाएँ  हम 
फिर चलो इस जिंदगी को 
गुनगुनाएँ  हम
- शशि पुरवार 

Thursday, May 4, 2017

झूठ का पुलिंदा



        कभी कभी लगता है कलयुग का नामकरण  करना ही उचित होगा, जैसे सतयुग वैसे ही झूठ युग. सतयुग में  भी सभी सत्य  नहीं बोलते थे। लेकिन वर्तमान में तो लोग झूठ का पुलिंदा बगल में दबाये फिरते हैं. जैसे ही कोई मिला उसे चिपका दो. आजकल हमें रोज ही ऐसे पुलिंदों को जमा करने का मौका मिल रहा है. क्या करें ज़माने के साथ चलना ही पड़ेगा। हमें तो दादी माँ की कही बात याद है   "झूठ बोले कौवा काटे "  तो डर के मारे कभी झूठ नहीं बोला और काले कौवे से भी चार हाथ दूर रहे, वैसे भी कौवा काला ही होता है. झूठ को जरूर सफ़ेद झूठ कहते सुना है , आजतक उसे समझ नहीं सके कि झूठ  के भी रंगभेद हैं। अब  झूठ इतना  बढ़ गया है आखिर  कौवा भी  कितनों को काटेगा।  अब समझ में आया  बेचारे  कौवे नजर क्यों  नहीं आतें हैं। वह आदमी को क्या काटेंगे आदमी ही उनकी डाल को काटकर सेंध लगाकर बैठा है.     
 
  आजकल झूठ सुनसुनकर कान पक गए.  कल ही बात है हमने  नल सुधारने वाले को  फ़ोन घुमा घुमा कर निमंत्रण दियाजबाब मिला, आज शाम को आता हूँ , लेकिन वह शाम तो नहीं आयी घर में पानी जरूर ख़त्म हो गया.  काम के लिए बाई को बुलाया, अभी आयी कहकर दो दिन निकाल दिए, समझ नहीं आता शाम और अभी का वक़्त इतना लंबा हो गया है  या घडी के कांटें  वक़्त के अनुसार बदल गएँ है। अब तो ऐसा लगता है बाजार वाद भी झूठ पर ही  टिका हुआ है, हर जगह झूठे चमकीलें विज्ञापन, खरीदने पर ग्यारण्टी की बात करो तो सफ़ेद झूठ कहतें है।  एक नंबर का माल है, आजकल माल भी द्विअर्थी हो गया है। अपना दिमाग लगाओ तो झट पलटवार,  क्या मियां -यहाँ जिंदगी का भरोसा नहीं है आप सामान की क्या बात करतें है.  अब  सत्य क्या है समझ  नहीं आता है। 
                झूठ पानी में नमक की तरह घुलकर ही खून में मिल गया है, अब खून से कैसा बैर करना।  वह भी रंग में रंग गया, पहले  झूठ पकडे जाने पर  लोगों के चहरे फक्क सफ़ेद हो जाते थे.आजकल  पहले ही खूब सारे मेकअप से सफ़ेद रहतें है.  अब चमड़ी झूठ से मोटी हो गयी. चोर नजरें  घूमती थी. आज नजर भी नजर को घुमा देती है।  वाह !  चलचित्रों से बाहर असल जीवन में अब अभिनय बहुत होने लगा है.  झूठ पकडे जाने की मशीन पर  चोरों  ने  अपनी जीत दर्ज कर ली है.  जैसे मच्छरों ने  गुड नाईट  पर और कॉकरोचों  - चीटियों ने लक्ष्मण रेखा पर विजय हासिल की है। आखिर  मेरा भी कौओं का डर भी समाप्त हो गया है।   

                     झूठ का क्या कहना कौवे की जगह झूठ उड़ने लगा है . झट से उड़कर कहीं भी पहुँच जाता है। एक पल में तिगुना बढ़ जाता है।   हाल ही एक चर्चा हो रही थी साइकिल के साथ दुनियाँ भी दौड़ेगी  लेकिन बाद में पता चला साईकिल के कलपुर्जे ही अलग हो गए. हर जगह झूठ  मुस्तेदी से तैनात है। जनता भी जानती है.  सफ़ेद कपड़ों में सफ़ेद झूठ बोला जाता है, सफ़ेद झूठे  वादे किये जातें है, फिर भी हम उसी झूठ में सत्य युग को तलाशते हैं।  पार्टियों के अध्यक्ष  आरोप - प्रत्यारोप करतें है, और बड़े आत्मविश्वास से कहतें है सभी आरोप झूठें  है. अब कौन सच्चा कौन झूठा। सत्य तो बाहर आता नहीं है व  झूठ जलेबी की तरह खाकर पचा लेते हैं। बाथरूम में रेनकोट पहन कर नहाना नया मुहावरा बन गया है.  ऐसा भी कभी होता है इसे कहतें है सफ़ेद झूठ।  
                        मुझे तो वही दादी माँ के जमाने की बात याद है. कोई झूठ अच्छे कार्य के लिए बोला जाये तो वह झूठ नहीं होता है, आजकल हमें भी झूठ बोलंने में बहुत आनंद आने लगा है, इसका भी अपना मजा है. हमारे एक संपादक मित्र है। हम दोनों अच्छी तरह जानते हैं कि हम एक दूजे से पहले झूठ बोलते हैं,
 वह कहतें है-  रचना भेजो  अंतिम तारीख है, 
हम भी बहुत प्यार से सफ़ेद झूठ बोलते हैं-  रचना भेज दी। बेचारी रचना घूम फिर कर दो - तीन दिन में पहुँचती हैं. 
                  यही झूठ  काम करने पर मजबूर करता है.  फिर हमने भी मान लिया अच्छे कार्य  बोला गया झूठ झूठ नहीं है. हम सच्चे ही हैं।  अब तो ऐसा लगता है झूठ का भी अपना मजा है।  झूठ बोलते जाओ, जब पकड़ने का भय लगे तो  मुस्कुरा कर झूठ बोलो। शर्मा जी की पत्नी भी जानती है कि उनके पति ज्यादातर झूठ ही बोलते हैं.  फिर भी बेचारी पति के झूठ को सच मानकर जीती है, गृह युद्ध नहीं चाहिए।  जलेबी - इमरती सब पचा लेती है.  इस बार उन्होंने आईने के सामने खुद को देखा तो सफेदी बगल से झाँक रही थी, तब हमारे टीवी पर चमकते झूठे विज्ञापन ने उन्हें जवान होने का रास्ता दिखा दिया, पतिदेव ने तो आजतक हुस्न की  तारीफ नहीं की। राह देखते देखते उम्र बीत गयी।  केश काले करने के चक्कर में और सफ़ेद हो गए, क्रीम भी बेचारी कितना असर दिखाती, सफेदी तो अपना असर दिखाएगी। आइना भी झूठ बोल गया।  झूठ बोलने का भी अपना मजा है, आईना हमें खूबसूरत कहता है तो हम खुश है. मुझे लगता है कलमकार की सत्य बोलता है।  हमसे तो झूठ न बोला जाये, जहाँ कुछ गलत देखा तो झट से लिख दिया, विसंगतियों के खिलाफ लिखना आदत है।  यदि इतने ही समझदार होते तो झूठ क्यों बोलते।  इसका आनंद तो गोता लगाकर ही महसूस कर सकतें है।  झूठ बाबा की जय हो।
         - शशि पुरवार  

Saturday, April 29, 2017

सोशल साइट्स की गर्मी

       
गर्मी परवान चढ़ रही है, मई भी मजबूर लग रही है.जिसे देखो वह अपने किरदार में खोया हुआ पसीना बहा रहा है. कोई  धूप में पसीने से नहा रहा हैं।  कोई  पंखे की गर्म हवा में स्वयं को सुखाने का प्रयास कर रहा है। सूरज आग उगल रहा है , गर्मी में ठंडक देने वाले उपकरण को बनाने वाले, उस आग में बिना जले अपने हाथ सेंक रहे हैं. लोग बेफिक्र होकर  तन - मन को ठंडा करने का प्रयास कर रहें हैं।  सोशल साइट्स भी बहुत कुछ ठंडी पड़ने लगी है।

           हमारे शर्मा जी अपनी दिमागी कसरत करके इतने थक गए कि सुबह से लस्सी पीकर बदहजमी करने में लगे हुए हैं।  जी हाँ सोशल साइट के दीवानों में शर्मा जी नाम शुमार है.  इसका नशा जितनी तेजी से चढ़ा अब उतना ही फिसलने लगा है. हर चीज की अति भी बुरी है. फिर भी  सुधरते नहीं। सुबह से फेसबुकिया गलियों में घूम- घूम कर थक गए सिर्फ मायूसी  हाथ लगी. इधर उधर की तांक - झाँक में कुछ पुराने गुजरे हुए  पलों की तस्वीरें थीं या ऐसे चुटकुले जिन्हे पढ़कर हंसी ने रेंगना भी पसंद नहीं किया।  आखिर दिमागी घोड़े कितने दौड़ेंगे।  बेचारे वह भी  थकने लगे, दिमाग भी काम करके पसीना बहाता है. उदासीनता घर बनाने लगी. सोशल साइट की दीवानगी बढ़ाने  के लिए  और थकान मिटाने के लिए फ्रिज की ठंडी खाद्य सामग्री जीभ की लालसा को पूर्ण करने में लगी हुई थी। जीभ की क्षुधा का तो पता नहीं लेकिन तन का आकार जरूर खुशनुमा होता जा रहा था।
            आज कुछ पोस्ट नहीं किया, इस  दुःख के कारण शर्मा जी बैचेन आत्मा की तरह भटक रहे थे। अपडेट  रखना भी मज़बूरी है। कुछ न मिला तो आज पुराने खजाने में कुछ पुरानी तस्वीर निकाल कर चिपका दी। मानना होगा बला की सुंदरता खुद को खुश रख रही थी कि पंखे की हवा पर बिजली ने अपनी लगाम कस दी।  काटो तो खून नहीं वैसे भी आजकल प्रेम की हवा बंद है।  
पत्नी की नजरों से कुछ नहीं छुपा - " क्यों जी सुबह से क्या रायता फैला रखा है।  गर्मी है तो ठंडाई पीकर आराम करो, काहे खून जला रहे हो".   

            कुछ नहीं --  के साथ चोर नजरें  बगलें झाँकने लगी, अब क्या पत्नी  की बेहाल शक्ल ही देखेंगे ?
            फिर चुपके अपनी एक और तस्वीर चिपका दी, आँखे किसी को ढूंढने लगी। कोई तो होगा जो उस छोटी सी खिड़की पर मिलेगा।  लेकिन सिवाय हार के कुछ नहीं मिला। आभाषी रिश्ते भी अब शरीर के पसीने की तरह बहने लगे। शर्मा जी की उकताहट इतनी बढ़ गयी कि उल फिजूल लिखना शुरू कर दिया।  सत्य है दिमाग फिरते समय नहीं लगता।  आजकल सोशल साइट पर भी नोटबंदी जैसी बुरी मार पड़ी है , लोगों का उबाल मजबूर हो गया है।  बेचारा खून  भी उबलता नहीं।  कंपनी चलाने वालों को शर्मा जी जैसे कोशिश करने वालों की बहुत जरुरत है, नहीं तो कंपनी कैसे चलेगी।  इसी उदासीनता दीवानगी का नतीजा था। कोई अपनी हद तोड़ भी सकता है , इसी कमजोरी के चलते एक लड़के ने अपना लाइव सुसाइड करता हुआ विडिओ उपलोड कर दिया,  इसे पागलपन नहीं तो क्या कहेंगे। 
           इस मनहूसियत को मिटाने के लिए कंपनी वाले नए नए लालच देने के लिए तैयार बैठे हैं. आजकल हर कोई एक  दूसरे को हलाल करने में लगा हुआ है।  सबसे मजेदार बात यह है कि इससे दोनों पक्ष खुश है।  दोनों को लगता है वह एक दूजे को बेबकुफ़ बना रहे हैं। लेकिन बेबकुफ़ कौन ?  यह एक पहेली बन गया है। जिसे आजतक कोई नहीं सुलझा सका. कुर्सी के लोग बदलते रहे लेकिन कुर्सी की महिमा अभी तक नहीं समझे कि कौन किसे बना रहा है। 
 हाल ही में अखबारों में करोड़पति की नयी सूचि आयी जिसमे अम्बानी को भी पीछे छोड़कर कुछ लोग आगे निकल गए.  
   एक बात समझ नहीं आयी सस्ता सामान बेचकर कोई करोड़पति कैसे बना ? कोई एप बनाकर पेड़े खा रहा है. मज़बूरी, इंसान से जो न करवाये कम है , हमारे शर्मा जी बार बार इसका शिकार हो गए  फिर भी शिकार बनने ली प्रवृति समाप्त ही  नहीं होती है. हम मजबूर है मई में मजबूर दिवस मनाये या अपनी मज़बूरी को छुपाये, दिमागी घोड़े मार खाकर भी नहीं दौड़ रहे हैं, सिर से इतना पसीना निकला कि केश नहा लिए।  लेखन कैसे करें, कलम को भी पसीने छूट रहे हैं.  रंग लैस होली खेली, बिना गुदगुदी के चुटकुले पढ़े, तस्वीरों में भाव भंगिमा से कसीदाकारी की, तिस पर मई सोंटे मार रही है. दिल दिमाग सुन्न हो गया, हमारे संपादक फेसबूकि दुनियां घूमने भेज देते  हैं. वक़्त एक सा नहीं होता आजकल सोशल साइट पर दुनियादारी लुभाने लगी है, लोग इससे विराम ले रहे हैं तो हम भी विश्राम कर लेते हैं।  भाई यह उदासीनता हमें भी मार रही है। लिखना हमारी मज़बूरी है  पढ़ना आपकी मज़बूरी। दोनों ही मजबूर।  हमें माफ़ करें शर्मा जी की चहलकदमी हमें बैचेन कर रही हैं।  आप  एक गिलास ठंडा पानी पी ले। आज हम मजबूर हैं आपने हमें झेला उसके लिए आभार।    
शशि पुरवार 

    

             

Friday, April 21, 2017

पॉँव जलते हैं हमारे "




शाख के पत्ते हरे कुछ
हो गए पीले किनारे
नित पिघलती धूप में,ये
पॉँव जलते हैं हमारे ।

मिट रहे इन जंगलों में
ठूँठ जैसी बस्तियाँ हैं
ईंट पत्थर और गारा
भेदती खामोशियाँ है

होंठ पपड़ाये  धरा के
और पंछी बेसहारे
नित पिघलती धूप में,ये
पॉँव जलते हैं हमारे ।


चमचमाती डामरों की
बिछ गयी चादर शहर में
लपलपाती सी हवा भी
मारती  सोंटे  पहर में

पेड़ बौने से घरों में,
धूप के ढूंढें सहारे
नित पिघलती धूप में,ये
पॉँव जलते हैं हमारे ।

गॉँव उजड़े, शहर रचते
महक सौंधी खो गयी है
पंछियों के गीत मधुरम
धार जैसे सो गयी है.

रेत से खिरने लगे है
आज तिनके भी हमारे
नित पिघलती धूप में,ये
 पॉँव जलते है हमारे

    ------ शशि पुरवार

पर्यावरण संरक्षण हेतु चयनित हुआ नवगीत।  पर्यावरण संगठन का आभार। 

Monday, April 17, 2017

फेसबुकी मूर्खता -



दर वर्ष दर  हम मूर्ख दिवस मनाते हैं, वैसे सोचने वाली बात है, आदमी खुद को  ही मूर्ख  बनाकर खुद ही आनंद लेना चाहता है, यह भी परमानंद है। हमारे संपादक साहब  मीडिया इतना पसंद है कि वह हमें इससे भागने का कोई मौका नहीं देना चाहतें हैं। आजकल सोशल मीडिया  हमारी दिन दुनियाँ बन गया है. 
    आदमी मूर्खता  न करे तो क्या करे।  मूर्ख बनना और बनाना हमारा जन्मसिद्ध अधिकार है।  सोशल मीडिया पर इतने  रंग बिखरे पड़ें  है कि मूर्ख सम्मलेन आसानी से हो सकता है, पूरी दुनियाँ आपस जुडी हुई है। लोगों को मूर्ख बनाना जितना सरल है  उतना ही खुद को मूर्ख बनने देना अति सरल है। उम्मीद पर दुनिया कायम है, हम सोचतें है सामने वाला कितना सीधा है हम उसे मूर्ख बना रहे हैं , लेकिन जनाब हमें क्या पता हम उसी का निशाना बने हुए हैं।   कहते हैं न रंग लगे न फिटकरी रंग चौखा चौखा। ....  वैसे मजेदार है, ना जान, ना पहचान फिर भी मैँ तेरा मेहमान।  खुद भी मूर्ख बनो औरों को भी मूर्ख बनाओ। झाँक तांक करने की कला कारी दुनियाँ को दिखाओ। यह कला यहाँ बहुत काम आती है, चाहो या ना चाहो जिंदगी का हर पन्ना आपके सामने मुस्कुराता हुआ खुल जाता है। मजेदार चटपटे किस्से नित दिन चाट बनाकर परोसे जातें है। 
  यहाँ हर चीज बिकाऊ है, इंसान यहाँ खुद का विज्ञापन करके खुद को बेचने में लगा हुआ है।  जितना मोहक विज्ञापन आप रटने बड़े सरताज। असल जिंदगी के कोई देखने ही नहीं आएगा कौन राजा कौन रंक. कुछ शब्द - विचार लिखो और खुद ही मसीहा  बनो,  एक तस्वीर  लगाओ  व  किसी की स्वप्न सुंदरी या स्वप्न राजकुमार बनो.  मुखड़े में कुछ  ऐब हो तो ऐप से दूर करो, कलयुग है सब संभव है।              मित्रों  मूर्खो का खुला साम्राज्य आपका स्वागत करता है। आनंद ही आनंद व्याप्त है,  आजकल  सोशल मीडिया बड़ी खूबसूरती से लोगों का रोजगार फैलाने में बिचोलिया बना हुआ है जो चाहे वह बेचों, दुकान आपकी, सामान आपका, मुनाफा नफा उसका। भाई यहाँ सब बिकता है।  
    मस्त तीखा - मीखा  रायता फैला हुआ है.  खाने का मन नहीं हो तब भी खुशबु आपको बुला ही लेती है.  कौन किसको कितना मूर्ख बनाता है.  प्रतियोगिता बिना परिणाम के चलती रहती है. छुपकर मुस्कान का आनंद कोई अकेले बैठकर लेता है,  एक मजेदार वाक्या हुआ , किसी महिला ने पुरुष मित्र के आत्मीयता से बातचीत क्या कर ली कि वह तो उसे अपनी पूंजी समझने लगा, यानी बात कुछ व उसका अर्थ कुछ और पहुँचा है. दोनों को लगता है दोनों एक - दूजे को चला रहें है वास्तव में दोनों ही मूर्ख बन रहें हैं। 

                    एक किस्सा याद आया, हमारे  शर्मा जी  के यहाँ का  चपरासी बहुत बन ठन कर रहता था, मजाल है कमीज को एक भी  सिलवट भी  आये. सोशल मीडिया में सरकारी ऑफिसर से अपनी प्रोफाइल बना रखी है।  शानदार  रौबदार तस्वीर, इतनी शान कि अच्छे अच्छे शरमा जाएँ।  शर्मा जी दूसरे शहर से अभी अभी तबादला लेकर आये थे। दोनों सोशल मित्र थे, बातचीत भी अच्छी होती थी.  निमंत्रण दिया, मित्र सपिरवार आएं, लेकिन जब खुद के ऑफिस में  एक दूसरे को देखा,  तब जाकर सातों खून माफ़ किये, लो जी कर लो तौबा और खाओ पानी - बताशे( फुलकी ), भाई मिर्ची न हो तो खाने का स्वाद कैसा।उसमे जरा लहसुन मिर्ची और मिलाओ तभी पानी - बताशे खाने में असली आनंद आएगा। जी हाँ यही जीवन का परम सत्यानंद है। पहले ज़माने में लोग सोचा करते थे, कैसे व किसे मूर्ख बनाये, वास्तव में  आज सोचने की जरुरत ही नहीं है।  अब कौन तो कौन कितना मूर्ख बनता है यह मूर्ख बनने वाला ही समझता है।  जब तक जलेबी न खाओ और न खिलाओ जीवन में आनंद रस नहीं फैलने वाला है। वैसे सोचने वाली बात हैं सोशल मीडिया के दुष्परिणाम बहुत हैं लेकिन जीवन को आमरस की महकाने में यही कारगर सिद्ध हुआ है, कहीं किसी घर में किसी महिला -  पुरुष की लाख अनबन हो वह यहाँ एक दूजे के बने हुए है।  घर में रोज झगड़ते होंगे लेकिन सोशल हम तेरे बिन कहीं रह नही  पाते। .... गाते हुए नजर आतें हैं।   कोई कितनी भी साधारण शक्ल - सूरत का क्यों न हो यहाँ मिस / मिसेस / मिस्टर वर्ल्ड का ख़िताब जरूर पाता है।  तो बेहतर है हम नित दिन खुद को भी मूर्ख बनाये और ख़ुशी से खून बढ़ाएं।   खुद पर हँसे,  खुद पर मुस्कुराएँ, तनाव को दूर भगायें, जिंदगी को सोशल बनायें आओ  हम मिलकर मूर्ख दिवस  बनाएं।  

Image may contain: 1 person

Monday, March 27, 2017

कातर नजरें

भीड़ भरे शहरों में जीना  
मुश्किल लगता है 
धूल धुआँ भी खुली हवा में 
शामिल लगता है 

कोलाहल की इस बस्ती में 
झूठी सब  कसमें 
अस्त व्यस्त जीवन जीने की 
निभा रहे रसमें
सपनों की अंधी नगरी में   
धूमिल लगता है 

सुबह दोपहर, साँझ, ढले तक 
कलरव गीत नहीं 
कहने को सब संगी साथी 
पर मनमीत नहीं
एकाकीपन ही जीवन में   
हासिल  लगता है

हर चौखट से बाहर आती  
राम कहानी है 
कातर नज़रों से बहता, क्या  
गंदा पानी है 
मदिरा में डूबे रहना ही
महफ़िल लगता है 
 शशि पुरवार  

Wednesday, March 22, 2017

शूल वाले दिन

Image result for path

अब नहीं मिलते डगर में
फूल वाले दिन 
आज खूँटी पर टंगे हैं 
शूल वाले दिन 

परिचयों की तितलियों ने 
पंख जब खोले 
साँस को चुभने लगे फिर  
दंश के शोले 
समय की रस धार में 
तूल वाले दिन 

मधुर रिश्तों में बिखरती 
गंध नरफत की 
रसविहीन होने लगी  
बातें इबादत की 
प्रीत का उपहास करते 
भूल वाले दिन। 

आँख से बहता नहीं 
पिघला हुआ लावा 
चरमराती कुर्सियों  का 
खोखला  दावा 
श्वेत वस्त्रों पर उभरते 
धूल वाले दिन। 
 - शशि पुरवार 

Monday, March 20, 2017

उड़ान का आभाष

Image result for dreaming

सपने जीवन का अभिन्न अंग हैं, मैंने भी कई सपने देखे लेकिन जिंदगी में सभी सपने सच होते चले जायेंगे सोचा न था. सपने अच्छे भी देखे तो दुखद स्वप्न भी देखे, सत्य यह भी है कि जिंदगी ने बहुत दर्द से रूबरू कराया। मेरा मानना है कि दर्द को क्यों जाहिर किया जाये वह सिर्फ दुःख ही देता है। इसीलिए अच्छा स्वप्न ही साझा करना चाहूँगी. बचपन का एक स्वप्न अवचेतन मन में आकर जैसे बस गया था। १० -११ वर्ष की उम्र में चंचलता और स्वप्न का सुन्दर तालमेल था, ढेर सारे सपने मन के आँगन में रंगोली बना रहे थे। सादा जीवन उच्च विचार मन को आकर्षित करते थे। आँखों में तीन स्वप्न थे जिसमे से एक की राह चुननी थी। सफल डॉक्टर बनना, सफल बिज़निस टॉयकून बनना या नेवी की अफसर बनना। लेकिन एक बार ऐसा स्वप्न देखा जिसे भूल नहीं सकी. जीवन की कठिन राहों पर स्वयं को लेखिका बनकर लोगों के बीच जीवित देखा कि मैं इस दुनिया से चली जाऊं किन्तु मेरे शब्दों के माध्यम से सबके समीप जीवित रहूंगी। स्वयं को लेखिका धर्म निभाते हुए देखना असमंजस में डाल गया था। खैर इसे स्वप्न समझ कर छोड़ भी दिया। अंतर्मुखी संवेदनशील स्वभाव के कारण अनुभूति को शब्दों में ढालना सदैव पसंद था, लेकिन उसे कभी प्रोफेशन के रूप में नहीं देखा था। जिंदगी की राहें अलग अलग राहों पर चलकर आगे अपनी राह बना रही थीं. पढाई पूरी होते ही नौकरी ज्वाइन की, लेखन जीवन का अभिन्न अंग था डायरी के पन्नो से निकालकर कब वह भी उड़ान भरने लगा इसका आभाष नहीं हुआ। हालाँकि हिंदी से अध्यन भी नहीं किया किन्तु कलम की अभिव्यक्ति का मार्ग कभी न छूट सका, कलम निरंतर बिना किसी चाहत के चलती रही, पारिवारिक बंधन व जिम्मेदारी के तहत नौकरी छोड़ी लेकिन कुछ कर गुजरने की आशा न छूट सकी. जब भी किसी ने तंज कसा कि क्रांति वादी विचार थे कि महिला को कुछ करना चाहिए। अब क्या करोगी,तब लोगों को प्रतिउत्तर नहीं दिया, मौन ही उसका उत्तर था। जिंदगी में इसी बीच ऐसी मार दी जिससे उबरना मुश्किल था, नामुमकिन नहीं। तन की मार से अपाहिज महसूस करती लेकिन मन के उद्गार उड़ान का आभाष कराते थे . कलम की ताकत व कुछ कर गुजरने की इच्छा शक्ति ने कब इसे मेरी जिंदगी बना दिया इसका एहसास बहुत बाद में हुआ। पाठकों ने अपने दिलों में स्थान देकर स्नेह वर्षा द्वारा जैसे मन के घावों को भर दिया। लेखन कब पन्नों से निकलकर दबे हुए स्वप्न को साकार कर गया, स्वयं ज्ञात न हुआ , आज सिर्फ इतना याद है कि ऐसा कोई स्वप्न देखा था, जिसे सोचकर मन ही मन मुस्कराहट आती थी। मैंने सिर्फ सतत कर्म किया, फल की चिन्ता कभी नहीं की, शायद नियति में यही तय था। स्वप्न साकार होते हैं, स्वप्न जरूर देखें। स्वप्न देखने व जीने की कोई उम्र नहीं होती है।
      -- शशि पुरवार 

Saturday, March 11, 2017

स्नेह रंग



गली गली में घूम रही है 
मस्तानों की टोली 
नीले, पीले, रंग हठीले 
आओ खेलें होली 

दरवाजे पर आँख  गड़ी है 
हाथों में गुब्बारे
सबरे खेलें आँख मिचौली 
मस्ती के फ़ब्बारे 

भेद भाव सब भूल गए 
बिखरी हँसी ठिठोली 
नीले, पीले, रंग  हठीले 
आओ खेलें होली।

सखा -सहेली मिलकर बैठे 
गीत फाग के गाएं 
देवर- भाभी, जीजा - साली
स्नेह रंग बरसाएं 

सजन उड़ाए, रंग गुलाबी 
रंगी प्रिय की चोली 
नीले, पीले, रंग  हठीले 
आओ खेलें होली।

भाँति भाँति के पकवानों की 
खुशबु ने भरमाया 
बिना बात की किलकारी ने 
भंग का रंग, बरसाया  

फागुन के रंगों में डूबे 
भीग रहे हमजोली 
नीले, पीले, रंग  हठीले 
आओ खेलें होली
शशि पुरवार 

होली की हार्दिक शुभकामनाएँ 
 



Tuesday, March 7, 2017

फागुनी दोहे - उत्सव वाले चंग



१ 

छैल छबीली फागुनी, मन मयूर मकरंद 
ढोल, मँजीरे, दादरा, बजे ह्रदय में छंद।  
 २ 
मौसम ने पाती लिखी, उड़ा गुलाबी रंग 
पात पात फागुन धरे, उत्सव वाले चंग। 
 ३ 
फगुनाहट से भर गई, मस्ती भरी उमंग
रोला ठुमरी दादरा, लगे थिरकने अंग। 
 ४ 
फागुन आयो री सखी, फूलों उडी सुगंध 
बौराया मनवा हँसे, नेह सिक्त अनुबंध। 
 ५ 
मौसम में केसर घुला, मदमाता अनुराग 
मस्ती के दिन चार है, फागुन गाये फाग। 
६ 
फागुन में ऐसा लगे, जैसे बरसी आग 
अंग अंग शीतल करें, खुशबु वाला बाग़.
७ 
हरी भरी सी वाटिका, मन चातक हर्षाय
कोयल कूके पेड़ पर, आम सरस ललचाय। 
८ 
सुबह सबेरे वाटिका, गंधो भरी सराय 
गर्म गर्म चुस्की भरी, पियें मसाला चाय।
 ९ 
होली की अठखेलियाँ, मस्ती भरी उमंग 
पकवानों में चुपके से, चढ़ा भंग का रंग 
 १०  
सरसों फूली खेत में, हल्दी भरा प्रसंग
पुरवाई से संग उडी, दिल की प्रीत पतंग 
 ११
हल्दी के थापे लगे, मन की उडी पतंग। 
सखी सहेली कर रहीं, कनबतियाँ रसवंत।

  -- शशि पुरवार 

मधुरिमा दैनिक भास्कर में प्रकाशित दोहे - 


Thursday, March 2, 2017

कहीं प्रेम कहीं शब्दो की होली



फेक का अंग्रेजी अर्थ है धोखा व फेस याने चेहरादुनिया में आभाषी दुनिया का चमकता यह चेहरा एक मृगतृष्णा के समान है जो आज सभी को प्यारा मोहित कर चुका हैनित्य समाचार की तरह सुपरफास्ट खबरे यहाँ मिलती रहती है.कहीं हँसी के ठहाकेकहीं आत्ममुग्ध तस्वीरेंकहीं प्रेमकहीं शब्दों की बंदूकेंबड़े पन का एहसासजैसे आज दुनियाँ हमारे पास है,जैसे दुनियाँ बस एक मुट्ठी में समां गयी है


  होली का त्यौहार भी बहुत रंगीन होने लगा है फेसबुक ने हमारी दुनिया में ऐसा कदम रखा है कि भूत भविष्य व वर्तमान साथ चलने लगे हैं, जी हाँ आप इस वर्ष होली खेलेंगे किन्तु  पुरानी यादों के साथ, फेसबुक आपकी  पुरानी यादें आपको पग पग पग पर तस्वीर या वीडियो बनाकर तोहफे में देता है, लो भाई हो गयी होली रंगीन।इसके रंग भी उतने ही खूबसूरत हैं. जहाँ महकती यादें गुदगुदाती हैं वहीँ बेरंगी यादें जिन्हें हम याद करना भी नहीं चाहतें है, वह आभाषी दुनिया हमें भूलने नहीं देती है.


  जी हाँ, जनाब हमें शर्मा जी को देखकर तरस खाने को जी चाहता है।हमारे शर्मा जी फेसबुक पर जवान होकर नयन मटक्का कर रहे थे और होली के दिन यही मटक्का उन पर भारी पड़ गया, आदतन फेसबुक ने अपने जोहर दिखाए और सारी बातचीत रिश्तें अचानक बिन मौसम बरसात की तरह होली के दिन सबके समक्ष हाजिर होकर अपना रंग बरसा रहे थे। उनकी बीबी को काटो  तो खून नहीं वाले हालात थे, बमुश्किल गृहस्थी की नैया संभली, तिस पर फिर होली के दिन फेसबुक फिर यही तोहफा देने पर आमादा है, होली के दिन भांग का अपना महत्व है लेकिन अब सोशल मीडिया की भांग का नशा सबके सर पर चढ़ कर बोलने लगा है।जहाँ एक तरफ रंगीन दुनियां है वहीँ उसके ऐसे रंग जो कभी मिटाये नहीं मिटेंगे। शायद हम मिट जाये, पर यह रंग अमर हो जायेंगे और इन रंगों में डूबे हुए आसमान से खुद को देखेंगे। हम वर्ष में एक दिन होली खेलते हैं, फेसबुक हर दिन, हर पल, नैनों से, शब्दों - बातों की, सुलगती पींगों से होली खेलता है. कहीं दिल सुलगते हैं कहीं घर जलते हैं, लेकिन होली के रंग जीवन में यूँ ही मुस्कुरातें गुदगुदाते बरसते हैं। होली में छेड़खानी न हो, शर्म से पानी- पानी ना हो तो होली कैसी।सोशल मीडिया में तस्वीरें पोस्ट करने के लिए लोग होली न खेलें किन्तु रंग लगाकर अपनी तस्वीरें जरूर पोस्ट करेंगे, सत्य कौन देखता है आज तस्वीरें बोलती है. छाया चित्रों का जमाना है तो छाया वादी होली हो क्यों संभव नहीं। 


                आज सुबह से श्रीमती जी हमें भी अपने शब्द वाणों से रंग लगा रही थी, हमारे नैना सोशल मीडिया से चार होने के लिए बेताब थे. दिल की हसरतें बाहर बरसना चाहती थी किन्तु घर का रंग, बदरंग न हो जाये हमने चुप चाप गुलाबी रंग लगाकर घर का माहौल भी गुलाबी करने का मन बना लिया। आखिर जाएँ भी तो कहाँ जाएँ ? चाय पकोड़े का नशा उतरने को तैयार नहीं था, हमने हाथों में  मोबाइल से नैना चार करके गुपचुप अपनी होली को  अंजाम दे दिया। क्या करें और किसी को छेड़ना मना है। 


                     आज किसी  व्यंग्यकार को रंग लगाना जैसे आ बैल मुझे मार वाली बात करना है , बैल तो फिर भी मार कर जख्मी करेंगे जिसका इलाज कोई वैध कर देगा, घाव भर जायेगा लेकिन व्यंगकार के रंग इतने पक्के होते है कि उनके गुब्बारे की मार के निशान कई वर्षो तक  देख सकतें है. रंग भी ऐसा  कि साबुन की टिकिया ख़त्म हो जाएगी पर रंग न निकलेगा, पक्का रंग उन्ही की झोली में छुपा होता है. कहतें हैं न हींग लगी न फिटकरी फिर भी रंग चोखा चोखा।  मिठाई भी इतनी चोखी रखें कि खाये बिन मजा न आये,  हसगुल्ले हभी ऐसे खिलावें कि न निगलते बने न खाते बने. इनके रंग  तीर के ऐसे लगे होते हैं कि लगते ही  पूरे शरीर को रंग देते हैं।  एक तीर छोड़ा तो रंगने वाला खुद आकर पानी में डुबकी लगा लेता है।  हाय ऐसे रंग सीधे दिल से निकालकर दिल को भेद रहे थे। होली है तो बिना गुझिया के काम  चलेगा, आज सोच रहें है बाजार से गुझिया खरीद लें , और गत वर्ष कुल्फी खायी थी वही जाकर खा लेंगे, उसका नशा कुछ अलग ही होता है 
 होली की रंग भरी मस्ती भरी शुभकामनाएँ - शशि पुरवार 

linkwith

sapne-shashi.blogspot.com