सपने

सपने मेरे नहीं आपके सपने, हमारे सपने, समाज में व्याप्त विसंगतियां मन को व्यथित करती हैं. संवेदनाओं की पृष्ठभूमि से जन्मी रचनाएँ मेरीनहीं आपकी आवाज हैं. इन आँखों में एक ख्वाब पलता है, सुकून हो हर दिल में इक दिया आश का जलता है. - शशि.
शशि का अर्थ है -- चन्द्रमा, तो चाँद सी शीतलता प्रदान करने का नाम है जिंदगी .
शब्दों की मिठास व रचना की सुवास ताउम्र अंतर्मन महकातें हैं. मेरे साथ सपनों की हसीन वादियों में आपका स्वागत है.

follow on facebook

FOLLOWERS

Wednesday, March 22, 2017

शूल वाले दिन

Image result for path

अब नहीं मिलते डगर में
फूल वाले दिन 
आज खूँटी पर टंगे हैं 
शूल वाले दिन 

परिचयों की तितलियों ने 
पंख जब खोले 
साँस को चुभने लगे फिर  
दंश के शोले 
समय की रस धार में 
तूल वाले दिन 

मधुर रिश्तों में बिखरती 
गंध नरफत की 
रसविहीन होने लगी  
बातें इबादत की 
प्रीत का उपहास करते 
भूल वाले दिन। 

आँख से बहता नहीं 
पिघला हुआ लावा 
चरमराती कुर्सियों  का 
खोखला  दावा 
श्वेत वस्त्रों पर उभरते 
धूल वाले दिन। 
 - शशि पुरवार 

Monday, March 20, 2017

उड़ान का आभाष

Image result for dreaming

सपने जीवन का अभिन्न अंग हैं, मैंने भी कई सपने देखे लेकिन जिंदगी में सभी सपने सच होते चले जायेंगे सोचा न था. सपने अच्छे भी देखे तो दुखद स्वप्न भी देखे, सत्य यह भी है कि जिंदगी ने बहुत दर्द से रूबरू कराया। मेरा मानना है कि दर्द को क्यों जाहिर किया जाये वह सिर्फ दुःख ही देता है। इसीलिए अच्छा स्वप्न ही साझा करना चाहूँगी. बचपन का एक स्वप्न अवचेतन मन में आकर जैसे बस गया था। १० -११ वर्ष की उम्र में चंचलता और स्वप्न का सुन्दर तालमेल था, ढेर सारे सपने मन के आँगन में रंगोली बना रहे थे। सादा जीवन उच्च विचार मन को आकर्षित करते थे। आँखों में तीन स्वप्न थे जिसमे से एक की राह चुननी थी। सफल डॉक्टर बनना, सफल बिज़निस टॉयकून बनना या नेवी की अफसर बनना। लेकिन एक बार ऐसा स्वप्न देखा जिसे भूल नहीं सकी. जीवन की कठिन राहों पर स्वयं को लेखिका बनकर लोगों के बीच जीवित देखा कि मैं इस दुनिया से चली जाऊं किन्तु मेरे शब्दों के माध्यम से सबके समीप जीवित रहूंगी। स्वयं को लेखिका धर्म निभाते हुए देखना असमंजस में डाल गया था। खैर इसे स्वप्न समझ कर छोड़ भी दिया। अंतर्मुखी संवेदनशील स्वभाव के कारण अनुभूति को शब्दों में ढालना सदैव पसंद था, लेकिन उसे कभी प्रोफेशन के रूप में नहीं देखा था। जिंदगी की राहें अलग अलग राहों पर चलकर आगे अपनी राह बना रही थीं. पढाई पूरी होते ही नौकरी ज्वाइन की, लेखन जीवन का अभिन्न अंग था डायरी के पन्नो से निकालकर कब वह भी उड़ान भरने लगा इसका आभाष नहीं हुआ। हालाँकि हिंदी से अध्यन भी नहीं किया किन्तु कलम की अभिव्यक्ति का मार्ग कभी न छूट सका, कलम निरंतर बिना किसी चाहत के चलती रही, पारिवारिक बंधन व जिम्मेदारी के तहत नौकरी छोड़ी लेकिन कुछ कर गुजरने की आशा न छूट सकी. जब भी किसी ने तंज कसा कि क्रांति वादी विचार थे कि महिला को कुछ करना चाहिए। अब क्या करोगी,तब लोगों को प्रतिउत्तर नहीं दिया, मौन ही उसका उत्तर था। जिंदगी में इसी बीच ऐसी मार दी जिससे उबरना मुश्किल था, नामुमकिन नहीं। तन की मार से अपाहिज महसूस करती लेकिन मन के उद्गार उड़ान का आभाष कराते थे . कलम की ताकत व कुछ कर गुजरने की इच्छा शक्ति ने कब इसे मेरी जिंदगी बना दिया इसका एहसास बहुत बाद में हुआ। पाठकों ने अपने दिलों में स्थान देकर स्नेह वर्षा द्वारा जैसे मन के घावों को भर दिया। लेखन कब पन्नों से निकलकर दबे हुए स्वप्न को साकार कर गया, स्वयं ज्ञात न हुआ , आज सिर्फ इतना याद है कि ऐसा कोई स्वप्न देखा था, जिसे सोचकर मन ही मन मुस्कराहट आती थी। मैंने सिर्फ सतत कर्म किया, फल की चिन्ता कभी नहीं की, शायद नियति में यही तय था। स्वप्न साकार होते हैं, स्वप्न जरूर देखें। स्वप्न देखने व जीने की कोई उम्र नहीं होती है।
      -- शशि पुरवार 

Saturday, March 11, 2017

स्नेह रंग



गली गली में घूम रही है 
मस्तानों की टोली 
नीले, पीले, रंग हठीले 
आओ खेलें होली 

दरवाजे पर आँख  गड़ी है 
हाथों में गुब्बारे
सबरे खेलें आँख मिचौली 
मस्ती के फ़ब्बारे 

भेद भाव सब भूल गए 
बिखरी हँसी ठिठोली 
नीले, पीले, रंग  हठीले 
आओ खेलें होली।

सखा -सहेली मिलकर बैठे 
गीत फाग के गाएं 
देवर- भाभी, जीजा - साली
स्नेह रंग बरसाएं 

सजन उड़ाए, रंग गुलाबी 
रंगी प्रिय की चोली 
नीले, पीले, रंग  हठीले 
आओ खेलें होली।

भाँति भाँति के पकवानों की 
खुशबु ने भरमाया 
बिना बात की किलकारी ने 
भंग का रंग, बरसाया  

फागुन के रंगों में डूबे 
भीग रहे हमजोली 
नीले, पीले, रंग  हठीले 
आओ खेलें होली
शशि पुरवार 

होली की हार्दिक शुभकामनाएँ 
 



Tuesday, March 7, 2017

फागुनी दोहे - उत्सव वाले चंग



१ 

छैल छबीली फागुनी, मन मयूर मकरंद 
ढोल, मँजीरे, दादरा, बजे ह्रदय में छंद।  
 २ 
मौसम ने पाती लिखी, उड़ा गुलाबी रंग 
पात पात फागुन धरे, उत्सव वाले चंग। 
 ३ 
फगुनाहट से भर गई, मस्ती भरी उमंग
रोला ठुमरी दादरा, लगे थिरकने अंग। 
 ४ 
फागुन आयो री सखी, फूलों उडी सुगंध 
बौराया मनवा हँसे, नेह सिक्त अनुबंध। 
 ५ 
मौसम में केसर घुला, मदमाता अनुराग 
मस्ती के दिन चार है, फागुन गाये फाग। 
६ 
फागुन में ऐसा लगे, जैसे बरसी आग 
अंग अंग शीतल करें, खुशबु वाला बाग़.
७ 
हरी भरी सी वाटिका, मन चातक हर्षाय
कोयल कूके पेड़ पर, आम सरस ललचाय। 
८ 
सुबह सबेरे वाटिका, गंधो भरी सराय 
गर्म गर्म चुस्की भरी, पियें मसाला चाय।
 ९ 
होली की अठखेलियाँ, मस्ती भरी उमंग 
पकवानों में चुपके से, चढ़ा भंग का रंग 
 १०  
सरसों फूली खेत में, हल्दी भरा प्रसंग
पुरवाई से संग उडी, दिल की प्रीत पतंग 
 ११
हल्दी के थापे लगे, मन की उडी पतंग। 
सखी सहेली कर रहीं, कनबतियाँ रसवंत।

  -- शशि पुरवार 

मधुरिमा दैनिक भास्कर में प्रकाशित दोहे - 


Thursday, March 2, 2017

कहीं प्रेम कहीं शब्दो की होली



फेक का अंग्रेजी अर्थ है धोखा व फेस याने चेहरादुनिया में आभाषी दुनिया का चमकता यह चेहरा एक मृगतृष्णा के समान है जो आज सभी को प्यारा मोहित कर चुका हैनित्य समाचार की तरह सुपरफास्ट खबरे यहाँ मिलती रहती है.कहीं हँसी के ठहाकेकहीं आत्ममुग्ध तस्वीरेंकहीं प्रेमकहीं शब्दों की बंदूकेंबड़े पन का एहसासजैसे आज दुनियाँ हमारे पास है,जैसे दुनियाँ बस एक मुट्ठी में समां गयी है


  होली का त्यौहार भी बहुत रंगीन होने लगा है फेसबुक ने हमारी दुनिया में ऐसा कदम रखा है कि भूत भविष्य व वर्तमान साथ चलने लगे हैं, जी हाँ आप इस वर्ष होली खेलेंगे किन्तु  पुरानी यादों के साथ, फेसबुक आपकी  पुरानी यादें आपको पग पग पग पर तस्वीर या वीडियो बनाकर तोहफे में देता है, लो भाई हो गयी होली रंगीन।इसके रंग भी उतने ही खूबसूरत हैं. जहाँ महकती यादें गुदगुदाती हैं वहीँ बेरंगी यादें जिन्हें हम याद करना भी नहीं चाहतें है, वह आभाषी दुनिया हमें भूलने नहीं देती है.


  जी हाँ, जनाब हमें शर्मा जी को देखकर तरस खाने को जी चाहता है।हमारे शर्मा जी फेसबुक पर जवान होकर नयन मटक्का कर रहे थे और होली के दिन यही मटक्का उन पर भारी पड़ गया, आदतन फेसबुक ने अपने जोहर दिखाए और सारी बातचीत रिश्तें अचानक बिन मौसम बरसात की तरह होली के दिन सबके समक्ष हाजिर होकर अपना रंग बरसा रहे थे। उनकी बीबी को काटो  तो खून नहीं वाले हालात थे, बमुश्किल गृहस्थी की नैया संभली, तिस पर फिर होली के दिन फेसबुक फिर यही तोहफा देने पर आमादा है, होली के दिन भांग का अपना महत्व है लेकिन अब सोशल मीडिया की भांग का नशा सबके सर पर चढ़ कर बोलने लगा है।जहाँ एक तरफ रंगीन दुनियां है वहीँ उसके ऐसे रंग जो कभी मिटाये नहीं मिटेंगे। शायद हम मिट जाये, पर यह रंग अमर हो जायेंगे और इन रंगों में डूबे हुए आसमान से खुद को देखेंगे। हम वर्ष में एक दिन होली खेलते हैं, फेसबुक हर दिन, हर पल, नैनों से, शब्दों - बातों की, सुलगती पींगों से होली खेलता है. कहीं दिल सुलगते हैं कहीं घर जलते हैं, लेकिन होली के रंग जीवन में यूँ ही मुस्कुरातें गुदगुदाते बरसते हैं। होली में छेड़खानी न हो, शर्म से पानी- पानी ना हो तो होली कैसी।सोशल मीडिया में तस्वीरें पोस्ट करने के लिए लोग होली न खेलें किन्तु रंग लगाकर अपनी तस्वीरें जरूर पोस्ट करेंगे, सत्य कौन देखता है आज तस्वीरें बोलती है. छाया चित्रों का जमाना है तो छाया वादी होली हो क्यों संभव नहीं। 


                आज सुबह से श्रीमती जी हमें भी अपने शब्द वाणों से रंग लगा रही थी, हमारे नैना सोशल मीडिया से चार होने के लिए बेताब थे. दिल की हसरतें बाहर बरसना चाहती थी किन्तु घर का रंग, बदरंग न हो जाये हमने चुप चाप गुलाबी रंग लगाकर घर का माहौल भी गुलाबी करने का मन बना लिया। आखिर जाएँ भी तो कहाँ जाएँ ? चाय पकोड़े का नशा उतरने को तैयार नहीं था, हमने हाथों में  मोबाइल से नैना चार करके गुपचुप अपनी होली को  अंजाम दे दिया। क्या करें और किसी को छेड़ना मना है। 


                     आज किसी  व्यंग्यकार को रंग लगाना जैसे आ बैल मुझे मार वाली बात करना है , बैल तो फिर भी मार कर जख्मी करेंगे जिसका इलाज कोई वैध कर देगा, घाव भर जायेगा लेकिन व्यंगकार के रंग इतने पक्के होते है कि उनके गुब्बारे की मार के निशान कई वर्षो तक  देख सकतें है. रंग भी ऐसा  कि साबुन की टिकिया ख़त्म हो जाएगी पर रंग न निकलेगा, पक्का रंग उन्ही की झोली में छुपा होता है. कहतें हैं न हींग लगी न फिटकरी फिर भी रंग चोखा चोखा।  मिठाई भी इतनी चोखी रखें कि खाये बिन मजा न आये,  हसगुल्ले हभी ऐसे खिलावें कि न निगलते बने न खाते बने. इनके रंग  तीर के ऐसे लगे होते हैं कि लगते ही  पूरे शरीर को रंग देते हैं।  एक तीर छोड़ा तो रंगने वाला खुद आकर पानी में डुबकी लगा लेता है।  हाय ऐसे रंग सीधे दिल से निकालकर दिल को भेद रहे थे। होली है तो बिना गुझिया के काम  चलेगा, आज सोच रहें है बाजार से गुझिया खरीद लें , और गत वर्ष कुल्फी खायी थी वही जाकर खा लेंगे, उसका नशा कुछ अलग ही होता है 
 होली की रंग भरी मस्ती भरी शुभकामनाएँ - शशि पुरवार 

linkwith

sapne-shashi.blogspot.com