सपने

सपने मेरे नहीं आपके सपने, हमारे सपने, समाज में व्याप्त विसंगतियां मन को व्यथित करती हैं. संवेदनाओं की पृष्ठभूमि से जन्मी रचनाएँ मेरीनहीं आपकी आवाज हैं. इन आँखों में एक ख्वाब पलता है, सुकून हो हर दिल में इक दिया आश का जलता है. - शशि.
शशि का अर्थ है -- चन्द्रमा, तो चाँद सी शीतलता प्रदान करने का नाम है जिंदगी .
शब्दों की मिठास व रचना की सुवास ताउम्र अंतर्मन महकातें हैं. मेरे साथ सपनों की हसीन वादियों में आपका स्वागत है.

follow on facebook

https://www.facebook.com/shashi.purwar

FOLLOWERS

Friday, January 26, 2018

हिंदी की चिन्दी



हिंदी दिवस की तैयारी पूरे जोश - खरोश के साथ की जा रही थी। आजकल हर वस्तु  छोटी होती जा रही है।  मिनी कपडे।  मिनी वस्तुएँ।  हर  वस्तु छोटी और मानव बड़ा।   मानव कद से या कर्म से कभी बड़ा हुआ है ? यह  शोध का विषय है। जब भाषा की बात आती है तो अपनी भाषा  अपनी है।  छेड़ छाड़ करना हमारा जन्मसिद्ध अधिकार है।  लोगों को  अपनी ही भाषाओँ के साथ छेड़छाड़ करके।  शब्दों को तोड़ मरोड़ कर जो विजेता सा अहसास होता है  वह आठवें अजूबे से कम नहीं है। आज कल लोग हिंदी की चिन्दी बनाकर हवा में लहरा रहें हैं। एक दुःस्वप्न की तरह हिंदी की चिन्दी रात भर हमें तड़पाती हैं।  जैसे वर्ष में एक दिन लोग  झंडा वंदन करके  दूसरे दिन उसे जमीन पर बिलखता छोड़ देते हैं, यह दुखद सत्य है।  उसी तरह हिंदी दिवस आते ही लोगों को उसकी महिमा का अहसास  होता है व लोग उसकी महिमा मंडल करने लगते हैं।

           पड़ोस में रहने वाले जैन साहब स्वयं को किसी पुरोधा से कम नहीं समझते हैं।  हिंदी तो माशा अल्लाह।  जो भी मिला उसे प्रेम से एक चिन्दी चिपका दी।  जो दूर से प्रणाम करें उसे भी चिन्दी के गोले फेंक ही देते हैं।
 
   आज की सुबह शर्मा जी के लिए शामत लेकर आयी।  हुआ यूँ  सुबह सुबह सैर को निकले शर्मा जी का रास्ता जैन साहब ने काट दिया और  बोले - तोंदू कहाँ चले !  लो जी मानवीय सभ्यता का  सुबह सुबह  क़त्ल  हो गया।
यह तो शर्मा जी का ह्रदय ही जानता है  कि कितना  तड़पा।  फिर भी  खोटी  मुस्कान के साथ बोले -- जय हो तोंदू के मित्र।
  जैन -- क्या हुआ शर्मा जी काहे बिलबिला रहे हो, गन्नू।
अब शर्मा जी गणेश से कब गन्नू बन गए , उन्हें  पता  ही नहीं चला।  नाम का कचूमर करना तो आम बात है।  हमारे चारों तरफ इस तरह के चलते फिरते पुर्जे नजर आते हैं। जिसे देखो वह अपनी अपनी चिन्दी की दुकान खोलकर बैठा है।  
               हिंदी के  लिए ऐसा कहना ऊँट के मुँह में जीरे के समान है। आज  नेट पर अहिन्दी भाषी भी हिंदी सीखकर हिंदी के पुरोधा बन गए हैं।  जिसे देखो  हिंदी  की थाली  सजाकर कर परोस रहा है।  यह  अलग बात है  कि कर्ता - काल - अलंकार  थाली से गायब होते जा रहें है।  लोग इसी खुशफहमी में है कि हिंदी विश्व भाषा बनने की ओर  अग्रसर है। हिंदी के पुरोधा हिंदी की बढ़ती जनसँख्या देखकर हैरान हैं।   फिर भी हिंदी के लिए जी जान से जुटे हुए पुरोधाओं  की कमी नहीं हैं।  इसी कार्य हेतु वर्मा जी  को सम्मनित किया गया।
 कहतें हैं  ना ! दूर  के ढोल सुहावने।  जब से  वर्मा जी सम्मानित होकर आएं है हिंदी को छोड़ अंग्रेजी को मुँह से लगाए फिरते हैं।
                 हुआ यूँ कि  समारोह में हिंदी भाषा  में विशिष्ठ कार्य करने हेतु वर्मा जी शामिल हुए।  खालिस हिंदी के पुरोधा ने सोचा वहां भी अपना रंग जमाएंगे।  किन्तु वहां का  परिदृश्य कुछ इस तरह था।

       निर्णायक गण व अन्य कविराज भी आमंत्रित थे।  लंबा चौड़ा कार्यक्रम था।  सरकारी महकमे  कुर्सी की शोभा बढ़ा रहे थे। भव्य आयोजन था।  बहुत सी गोलाकार कुर्सियाँ सम्मानीय विद्वजनों हेतु सजाई गयी थी।  खाने - पीने  का खालिश इंतजाम था।  किन्तु  वर्मा जी मुँह खोलते उसके पहले विलायती मेम इंग्रेजी धड़धड़ाते हुए समारोह का आकर्षण बन चुकी थी। वर्मा जी अपनी शान में कुछ कहने की हिमाकत करते उन्हें एक चिन्दी चिपका दी गयी ---   भैया आराम करो, खुशीयाँ मनाओ।  हिंदी में कार्य करने हेतु  सम्मानित किया जा रहा है। शर्मा जी  शर्म से पानी पानी हो गए। हिंदी के तथाकथित पुरोधा हिंदी की जगह अंग्रेजी में गुटर गुं कर  रहे थे।  हिंदी  की चिंदिया हवा में उड़ रही थी।  अँग्रेजी मेम की गिट पिट शर्मा जी के मुँह में ताला लगा गयी। इसे कहतें हैं भैया रंग लगे न फिटकरी फिर भी रंग चौखा।  दूर के ढोल सुहावने ही लगते हैं।
-- शशि पुरवार

Friday, January 12, 2018

बदल गए हालात


अम्बर जितनी ख्वाहिशें,सागर तल सी प्यास
छोटी सी यह जिंदगी, न होती उपन्यास 1

पतझर में झरने लगे, ज्यों शाखों से पात
ममता जर्जर हो गयी , देह हुई संघात 2

अच्छे दिन की आस में, बदल गए हालात
फुटपाथों पर सो रही, बदहवास की रात 3

मनोरंजन के नाम पर, टीवी के परपंच
भूले - बिसरे हो गए, अपनेपन के मंच 4

जिनके दिल में चोर है, ना समझे वो मीत
रूखे रूखे बोल के , लिखते रहते गीत 5

बंद ह्रदय की खिड़कियाँ, बंद हृदय के द्वार
उनको छप्पन भोग भी, लगतें है बेकार 6

बैचेनी दिल में हुई , मन भी हुआ उदास
काटे से दिन ना कटा, रात गयी वनवास 7 
 
शशि पुरवार 
 
 

Thursday, January 4, 2018

साल नूतन


साल नूतन आ गया है
नव उमंगों को सजाने
आस के उम्मीद के फिर
बन रहें हैं नव ठिकाने

भोर की पहली किरण भी
आस मन में है जगाती
एक कतरा धूप भी, लिखने
लगी नित एक पाती

पोछ कर मन का अँधेरा
ढूँढ खुशियों के खजाने
साल नूतन आ गया है
नव उमंगों को सजाने

रात बीती, बात बीती
फिर कदम आगे बढ़ाना
छोड़कर बातें विगत की
लक्ष्य को तुम साध लाना

राह पथरीली भले ही
मंजिलों को फिर जगाने
साल नूतन आ गया है
नव उमंगों को सजाने

हर पनीली आँख के सब
स्वप्न पूरे हों हमेशा
काल किसको मात देगा
जिंदगी का ठेठ पेशा

वक़्त को ऐसे जगाना
गीत बन जाये ज़माने
साल नूतन आ गया है
नव उमंगों को सजाने।
शशि पुरवार


आप सभी को नूतन वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएँ, वर्ष की शुरुआत है सभी मंगलमय हो यही कामना है - स्नेह बना रहे मित्रों सादर - शशि पुरवार


Related image








linkwith

sapne-shashi.blogspot.com