सपने

सपने मेरे नहीं आपके सपने, हमारे सपने, समाज में व्याप्त विसंगतियां मन को व्यथित करती हैं. संवेदनाओं की पृष्ठभूमि से जन्मी रचनाएँ मेरीनहीं आपकी आवाज हैं. इन आँखों में एक ख्वाब पलता है, सुकून हो हर दिल में इक दिया आश का जलता है. - शशि.
शशि का अर्थ है -- चन्द्रमा, तो चाँद सी शीतलता प्रदान करने का नाम है जिंदगी .
शब्दों की मिठास व रचना की सुवास ताउम्र अंतर्मन महकातें हैं. मेरे साथ सपनों की हसीन वादियों में आपका स्वागत है.

follow on facebook

FOLLOWERS

Tuesday, September 27, 2011

कलम जब हो साथ .....!

                        


                             हम   कवि   तो   नहीं  , पर 
                                   कविता   लिख   लेते   है .
                            हम   फौलाद   तो   नहीं  ,पर 
                                 ज़माने   का  दर्द   भी   सह  लेते है  .

                            हम   सिर्फ   खुशियो   को  ही  नहीं  ,
                                  गम  को  भी  गले  लगा  लेते  है 

                             ये   जिंदगी   है   क्या  , यह   
                                  हम   जिंदगी  से  ही  पूछ   लेते  है .


                                                  तो ,
 
                                     ये   अम्बर  है  जहाँ  तक . 
                                            वहाँ  तक  है   राहे,
                                 जीवन   की  आखिरी   साँस  तक ,
                                            है ,  जीने  की  है  चाहते .

                                      कलम  जब  हो   साथ  तो ,
                                            मिल  जाती  है  मंजिले,
                                       कविता   में   ही   तो  घुली  है .
                                                     हमारी   साँसे ...!
                                     :-   शशि पुरवार
 डायरी के पन्नों से -


    

18 comments:

  1. "कलम जब हो साथ तो मिल जाती है मंजिले,
    कविता में ही तो घुली है .
    हमारी सांसे ...!"
    इसीलिए हम
    निरंतर शब्दों से खेलते हैं
    इतनी सुन्दर कविताएँ
    लिखते हैं
    दूसरों को भी प्रेरणा देते हैं

    ReplyDelete
  2. आपका बहुत शुक्रिया , आपने हमें फिर शब्दों से होसला दिया

    ReplyDelete
  3. First part is beautiful beyond words and when I read the second one, I was amazed. Excellent creation...Very poetic, when I say 'poetic' I intend to convey, it's the best!

    Saru

    ReplyDelete
  4. Well written..

    आपको मेरी तरफ से नवरात्री की ढेरों शुभकामनाएं.. माता सबों को खुश और आबाद रखे..
    जय माता दी..

    ReplyDelete




  5. आपको सपरिवार
    नवरात्रि पर्व की बधाई और शुभकामनाएं-मंगलकामनाएं !

    -राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  6. इंसान का जीवन भी तो कविता ही है ... सुन्दर अभिव्यक्ति ..
    नव रात्री की मंगल कामनाएं ..

    ReplyDelete
  7. insaan aur kalam ka rishta tan aur man jaisa hai jo aapka man kahta hai kalam likhti hai.
    bahut achchi abhivyakti.

    ReplyDelete
  8. अभिव्यक्ति की सुंदर प्रस्तुति....नवरात्रि की शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  9. कल 30/09/2011 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  10. वाह,खूब लिखा है .

    ReplyDelete
  11. हम कवि तो नहीं , पर
    कविता लिख लेते है .
    हम फौलाद तो नहीं ,पर
    ज़माने का दर्द भी सह लेते है
    आपके मन के अंदर रचे -बसे भाव मन को आंदोलित कर गए । बहुत ही अच्छा लगा । मेरे पोस्ट पर आपका स्वागत है । .धन्यवाद . .

    ReplyDelete
  12. हम कवि तो नहीं , पर
    कविता लिख लेते है .
    हम फौलाद तो नहीं ,पर
    ज़माने का दर्द भी सह लेते है .बहुत सुन्दर लाजबाब पंग्तियाँ ...

    ReplyDelete
  13. अच्छी लगी अभिव्यक्ति. शुभकामनाएं.

    ReplyDelete
  14. खुबसूरत अभिव्यक्ति .. .नवरात्रि की शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  15. आप सभी का शुक्रिया , आप सबके शब्दों की अभिव्यक्ति मेरे लिए बहुत ही बहुमूल्य है

    ReplyDelete
  16. wonderful tribute to writers and poets!
    soch jagrit karne wale panktiya!

    ReplyDelete

नमस्कार मित्रों, आपके शब्द हमारे लिए अनमोल है यहाँ तक आ ही गएँ हैं तो अपनी अनमोल प्रतिक्रिया व्यक्त करके हमें अनुग्रहित करें. स्नेहिल धन्यवाद ---शशि पुरवार



linkwith

sapne-shashi.blogspot.com