Monday, September 29, 2014

याद बहुत बाबूजी आए



यह गीत मेरे पिता तुल्य  नानाजी को समर्पित  है , हम चाहें कितने भी बड़े क्यों ना हो जाएँ किन्तु कुछ स्मृतियाँ अमिट  होतीं है। उनके स्मरण में --

स्मृतियोँ के घन जब घिरकर,
मन के नभमण्डल पर छाए।
याद बहुत बाबूजी आए

बाबूजी से ही सीखा था
दो और दो होते हैं चार
जीवन की अनगढ़ राहों को
अच्छे काम करें गुलजार
नन्हें हाथ थामकर जिसने
गुर, जीने के सभी सिखाए
याद बहुत बाबूजी आए

होगा पथ में उजियारा भी
उनकी शिक्षा को अपनाया
सूने मन के गलियारे में
एक ज्ञान का दीप जलाया
कभी सहेली कभी सखा बन
हर नखरे चुपचाप उठाए
याद बहुत बाबूजी आए

चिंता चाहे लाख बड़ी हो
हँसी सदा मुख पर रहती थी
तुतलाती बतियाँ चुपके से
फिर काँधे पर ही सोती थी
बरगद की शीतल छाया में
जिसने सपने सुखद सजाए
याद बहुत बाबूजी आए

- शशि पुरवार

8/9/2014  

Monday, September 22, 2014

नन्हा कनहल




खिला बाग़ में ,
नन्हा  कनहल
प्यारा लगने लगा महीना
रोज बदलते है मौसम ,फिर
धूप -छाँव का परदा झीना।

आपाधापी में डूबे थे
रीते कितने, दिवस सुहाने
नीरसता की झंझा,जैसे
मुदिता के हो बंद मुहाने

फँसे मोह-माया में ऐसे
भूल गए थे,खुद ही जीना

खिले फूल की इस रंगत में
नई किरण आशा की फूटी
शैशव की तुतलाती बतियाँ
पीड़ा पीरी की है जीवन बूटी

विषम पलों में प्रीत बढ़ाता
पीतवर्ण, मखमली नगीना .
--- शशि पुरवार

Monday, September 15, 2014

हिंदी दिवस




हिंद की रोली
भारत की आवाज
हिंदी है बोली .

भाषा है  न्यारी
सर्व गुणो की  खान
हिंदी है प्यारी
३ 
गौरवशाली 
भाषाओ का सम्मान
है खुशहाली

है अभिमान
हिंदुस्तान की शान
हिंदी की  आन।

कवि को भाये
कविता का सोपान
हिन्दी बढ़ाये   

वेदों की गाथा
देवों  का वरदान
संस्कृति ,माथा।
सरल पान 
संस्कृति का सम्मान
हिंदी का  गान

सर्व भाषाएँ
हिंदी में समाहित
जन आशाएं
चन्दन रोली
आँगन की तुलसी
हिंदी रंगोली

१०

मन की भोली
सरल औ सुबोध
शब्दो की टोली
११

सुरीला गान
असीमित साहित्य 
हिंदी सज्ञान

१२
बहती धारा
वन्देमातरम है
हिन्द का नारा
१३
अतुलनीय 
राजभाषा सम्मान
है वन्दनीय।
१४
जोश उमंग
जन जन में बसी
राष्ट्र तरंग
१५
ये अभिलाषा
राष्ट्र की पहचान
विश्व की आशा .
१६
यही चाहत
सर्वमान्य हो हिंदी
विश्व की भाषा .

हम  तो रोज ही हिंदी दिवस मनाते है हिंदी  दिवस की आप सभी को हार्दिक शुभकामनाएँ -- -शशि पुरवार

Monday, September 8, 2014

जाम छलकाने के बाद






धूप सी मन में खिली है ,मंजिले पाने के बाद
इन हवाओं में नमी है फूल खिल जाने के बाद १

जिंदगी लेती रही हर रोज हमसे इम्तिहान
प्रीति ही ताकत बनी है गम के मयखाने के बाद २

छोड़िये अब दास्ताँ , ये प्यार की ताकीद है  
नज्म हमने भी कही फिर प्रेम गहराने के बाद ३

तुम वहीं थे ,मै वहीं थी और शिकवा क्या करें
मौन बातों की झड़ी थी , दिल को बहलाने के बाद ४  

प्यार का आलम यही था ,रश्क लोगों ने किया
मोम सी जलती रही मै इश्क  फरमाने के बाद ५

खुशनुमा  अहसास है यह बंद पृष्ठों में मिला
गंध सी उड़ती रही है फूल मुरझाने के बाद ६

वक़्त बदला ,लोग बदले ,अक्स बदला  प्रेम का
मीत बनकर लूटता है , जाम छलकाने के बाद ७

प्रेम अब जेहाद बनकर, आ गया है सामने
वो मसलता है कली को ,हर सितम ढाने के बाद ८

-- शशि पुरवार

Monday, September 1, 2014

हवा शहर की



हवा शहर की बदल गयी
पंछी मन ही मन घबराये

यूँ जाल बिछाये बैठें है
सब आखेटक मंतर मारे
आसमान के काले बादल
जैसे ,जमा हुए  है सारे.

छाई ऐसी  घनघोर   घटा
संकट,  दबे पाँव आ  जाये

कुकुरमुत्ते सा ,उगा  हुआ है
गली गली ,चौराहे  खतरा
लुका छुपी का ,खेल खेलते
वध जीवी ने ,पर  है कतरा

बेजान  तन पर नाचते है
विजय घोष करते, यह  साये .

हरे भरे वन ,देवालय पर
सुंदर सुंदर रैन बसेरा
यहाँ गूंजता मीठा कलरव
ना घर तेरा ना घर मेरा

पंछी  उड़ता नीलगगन में
किरणें नयी सुबह ले आये.
  ४ जुलाई , २०१४

तोड़ती पत्थर

  तोड़ती पत्थर  वह तोड़ती पत्थर; देखा मैंने उसे इलाहाबाद के पथ पर- वह तोड़ती पत्थर। कोई न छायादार पेड़ वह जिसके तले बैठी हुई स्वीकार; श्याम त...

https://sapne-shashi.blogspot.com/

linkwith

http://sapne-shashi.blogspot.com