Saturday, July 27, 2013

सुख की धारा


 सुख की धारा
रेत के पन्नो पर
पवन लिखे .


 दुःख की धारा
अंकित पन्नो पर
डूबी जल में - 
-

मन पाखी सा
चंचल ये मौसम
सावन आया

रात चांदनी
उतरी मधुबन
पिय के संग .
4
 दिल का दिया
यादों से जगमग
ख्वाब चुनाई .
5
तन्हाईयों में
सर्द यह मौसम
शूल सा चुभा


------शशि पुरवार
१९ जुलाई १३

Friday, July 26, 2013

मन के तार ...........


1
बन जाऊं में
शीतल पवन ,तो
तपन मिटे  
2
बन जाऊं में
बहती जल धारा
प्यास बुझाऊं
3
दूर हो जाए
जहाँन  से अँधेरा
दीप जलाऊं
4
तेरे लिए तो
जान भी हाजिर है
मै वारि जाऊं
5
खुदा लेता है
पल पल परीक्षा
क्यूँ मै डरूं
6
अडिग रहूँ
पहाड़ो सी  अचल
हूँ संरक्षक .
7
मन के तार
सरगम से बजे 
खिला मौसम

---- शशि पुरवार

Monday, July 22, 2013

एक मुक्तक --


धरा खिलती है अंबर खिलता है
पौधे रोपिये जीवन मिलता है
उजियारा फैलता है कण कण में
धूप निकली जब सूरज जलता है .

- शशि पुरवार

Sunday, July 21, 2013

उड़ गयी फिर नींदे ....!

1 
था दुःख को तो जलना
अब सुख की खातिर 
है राहो पर चलना ।
2
रिमझिम बदरा आए
पुलकित है धरती
हिय मचल मचल जाए । . 
3
है  मन जग का मैला 
बेटी को मारे 
पातक दर-दर फैला ।
4
इन कलियों का खिलना 
सतरंगी सपने 
मन पाखी- सा मिलना ।
5
थी जीने की आशा 
 थाम कलम मैंने
की है दूर निराशा ।
6
अब काहे का खोना
बीते ना रैना 
घर खुशियों का कोना 
7
भोर सुहानी  आई
आशा का सूरज
मन के अँगना लाई।
8
पाखी बन उड़ जाऊँ 
संग तुम्हारे मैं
गुलशन को महकाऊँ  

-------- शशि पुरवार









Friday, July 19, 2013

प्रकृति और मानव


जल जीवन
प्रकृति औ मानव
अटूट रिश्ता

जगजननी
धरती की पुकार
 वृक्षारोपण
 ३ 
मानुष काटे
धरा का हर अंग
मिटते  गाँव .


पहाड़ो तक
पंहुचा प्रदूषण
प्रलयंकारी

केदारनाथ
बेबस जगन्नाथ
मानवी भूल
६ 
 काले धुँए से
चाँद पर चरण 
काला गरल .


जलजले से
विक्षिप्त है पहाड़
मौन रुदन

कम्पित धरा
विषैली पोलिथिन
मनुज  फेकें

सिंधु गरजे
विध्वंश के निशान
अस्तित्व मिटा .
१०
अप्रतिम है
प्रकृति का सौन्दर्य
चिटके गुल .

-------- शशि पुरवार




Thursday, July 18, 2013

बहता पानी ...!



बहता पानी
विचारो की रवानी
हसीं ये जिंदगानी
सांझ  बेला में
परिवार का साथ
संस्कारों की जीत .




बरसा पानी
सुख का आगमन
घर संसार तले
तप्त ममता
बजती शहनाई
बेटी हुई पराई .


हाथों  में खेनी
तिरते है विचार
बेजोड़  शिल्पकारी

गड़े आकार
आँखों में भर पानी
शिला पे चित्रकारी .



जग  कहता

है पत्थर के पिता
समेटे परिवार  
कुटुंब खास 
दिल में भरा पानी

पिता की है कहानी .
 --------- शशि पुरवार
 १३ ,७ .१ ३

Tuesday, July 16, 2013

प्रकृति ने दिया है अपना जबाब ,



प्रकृति की
नैसर्गिक चित्रकारी पर
मानव ने खींच दी है
विनाशकारी लकीरें,
सूखने लगे है जलप्रताप, नदियाँ
फिर
एक जलजला  सा
समुद्र  की गहराईयों में
और  प्रलय का नाग
लीलने  लगा
मानव निर्मित कृतियों को.
धीरे  धीरे
चित्त्कार उठी धरती
फटने  लगे बादल
बदल गए मौसम
बिगड़ गया  संतुलन, 
ये जीवन, फिर
हम किसे दोष दे ?
प्रकृति  को ?
या मानव को ?
जिसने 
अपनी
महत्वकांशाओ तले
प्राकृतिक सम्पदा का
विनाश किया।
अंततः  
रौद्र रूप  धारण करके
प्रकृति ने दिया है
अपना जबाब ,
मानव की
कालगुजारी का,
लोलुपता  का,
विध्वंसता का,
जिसका
नशा मानव से
उतरता ही नहीं .
और 
प्रकृति उस नशे को
ग्रहण  करती नहीं .

 --शशि पुरवार
१२ -७ - १ ३
१२ .५ ५ am









Sunday, July 14, 2013

दर्द कहाँ अल्फाजों में है




अश्क आँखों में औ
तबस्सुम होठो पे है

सूखे गुल  की दास्ताँ
अब बंद किताबो में है

बीते वक़्त का वो लम्हा
कैद मन की यादों में है

दिल  में दबी है चिंगारी
जलती शमा रातो में है

चुभन है यह विरह की
दर्द कहाँ अल्फाजों में है

नश्वर होती  है  रूह
प्रेम समर्पण भाव में है

अविरल चलती ये साँसे
रहती जिन्दा तन में है

खेल है यह तकदीर का
डोर खुदा के हाथो में है 


शशि  पुरवार

Friday, July 12, 2013

अभी कुछ और करिश्मे गजल के देखते है






चलो नज़ारे यहाँ आजकल के देखते है
अजीब लोग है कितने ये चल के देखते है

गली गली में यहाँ पाप कितना है फैला
खुदा के नाम से ईमान छल के देखते है

ये लोग कितने  गिरे आबरू से जो खेले
झुकी हुई ये निगाहों को मल के देखते है

ये जात पात के मंजर तो कब जहाँ से मिटे  
बनावटी ये जहाँ से निकल के देखते है

कलम कहे कि जिधर प्यार का जहाँ हो ,चलो

अभी कुछ और करिश्मे गजल के देखते है .
---- शशि पुरवार

Wednesday, July 10, 2013

दिल के तार




१ मन प्रांगन
यादों के बादल से
झरते मोती .

 २ 

 धीमा गरल
पीर की है चुभन
खोखला तन 

पीर जो जन्मी
बबूल  सी चुभती
स्वयं की साँसे

दिल का दर्द
रेगिस्तान बन के
तन में बसा .

दिल के तार
जीवन का श्रृंगार
तुम्हारा प्यार .



५ 
भीनी खुशबू
सजी गुलदस्ते में
खिले हाइकू .

६ 
समेटे प्यार
फूलों सा उपहार
हिंदी हाइकू …

Wednesday, July 3, 2013

मुस्काती चंपा ....







खिली चांदनी
झूमें लताओं पर
मुस्काती चंपा .                          

तरु पे खेले
मनमोहिनी चंपा
धौल कँवल .

मन प्रांगन
यादों की चित्रकारी                                              

महकी चंपा .



दुग्ध है पान
हलद का श्रृंगार
चंपा ने किया

चंपा मोहिनी
झलकता सौन्दर्य
शशि सा खिले .
-


-- शशि पुरवार

तोड़ती पत्थर

  तोड़ती पत्थर  वह तोड़ती पत्थर; देखा मैंने उसे इलाहाबाद के पथ पर- वह तोड़ती पत्थर। कोई न छायादार पेड़ वह जिसके तले बैठी हुई स्वीकार; श्याम त...

https://sapne-shashi.blogspot.com/

linkwith

http://sapne-shashi.blogspot.com