सपने

सपने मेरे नहीं आपके सपने, हमारे सपने, समाज में व्याप्त विसंगतियां मन को व्यथित करती हैं. संवेदनाओं की पृष्ठभूमि से जन्मी रचनाएँ मेरीनहीं आपकी आवाज हैं. इन आँखों में एक ख्वाब पलता है, सुकून हो हर दिल में इक दिया आश का जलता है. - शशि.
शशि का अर्थ है -- चन्द्रमा, तो चाँद सी शीतलता प्रदान करने का नाम है जिंदगी .
शब्दों की मिठास व रचना की सुवास ताउम्र अंतर्मन महकातें हैं. मेरे साथ सपनों की हसीन वादियों में आपका स्वागत है.

follow on facebook

FOLLOWERS

Wednesday, November 9, 2011

छुपती - छुपाती ......परछाईयां,

                                            परछाईयों  से  है,
                                            नाता   पुराना 
                                            साथ  चलती,
                                            परछाईयाँ 
                                            दिखाती  हैं  , 
                                         क़दमों  के  निशां .

                                           चांदनी  रात  में 
                                           छुपती - छुपाती  
                                             परछाईयाँ,
                                           उजागर  करती  है 
                                         अतीत  के  पन्नों  को .

                                          चंचल  हिरनी  सी  
                                           चपल , लजाती ,
                                         अपने  अस्तित्व  का ,
                                          अहसास  कराती .
                                         सुख - दुःख  का  मेरा 
                                             सच्चा  साथी ,
                                         मेरी  हर  तस्वीर  का
                                            आइना  है , ये 
                                              परछाईयाँ .

                                       बचपन  में   " चंचल "
                                       जवानी  में  " अल्हड "
                                       बुढ़ापे  में   " तठस्थ "
                                         हर  पल  रूप ,
                                      बदलती  " परछाईयाँ".
 
                                      कभी  नजदीक  है  आती 
                                        कभी  दूर  हो  जाती ,
                                          ढूँढो , इनको ,तो 
                                          खुद   का   ही ,
                                        प्रतिबिम्ब  दिखाती .


                                       पलभर   में  गुम
                                       पलभर   में  पास ,
                                     ख़ामोशी   से  कहती 
                                      सदा  एक  ही  बात ,
                                      हम  तो  जीवन  भर 
                                        साथ  निभाती .

                                      हमकदम , हमनशीं 
                                        हमसफ़र , मेरे 
                                        अन्तःस   का 
                                          आइना 
                                       " परछाईयाँ "
                                                  :-   शशि पुरवार

डायरी के पन्नों से - 


          

34 comments:

  1. परछाईयों का सुन्दर वर्णन!

    ReplyDelete
  2. वाह ...बहुत ही बढि़या लिखा है .. ।

    ReplyDelete
  3. परछाइयां यादों के खजाने की तरह बडती घटती रहती हैं पर खत्म नहीं होती ... खाय्तं तो जीवन के साथ ही होती हैं ...

    ReplyDelete
  4. शशि जी,आपने बड़ी खूबशुरती से परछाइयों का बखान किया,सुंदर पोस्ट
    मेरे मुख्य ब्लॉग काव्यांजली में नई पोस्ट "वजूद" पर स्वागत है...

    ReplyDelete
  5. इन परछाइयों से ही ज़िन्दगी झांकती है ... अलग अलग मायने लिए

    ReplyDelete
  6. परछाईयों से है,
    नाता पुराना
    साथ चलती,
    परछाईयां
    दिखाती हैं ,
    क़दमों के निशां

    laakh koshish karo peechhaa nahee chhodtee hein parchhaayeeaan

    ReplyDelete
  7. बहुत खूब...परछाइयाँ ही जीवन भर साथ निभाती हैं, विभिन्न रूपों में..बहुत सुंदर प्रस्तुति.

    ReplyDelete
  8. ek parchaaiyan hi to hain jo kabhi saath nahi chodti.

    ReplyDelete
  9. राहुल जी , सदा जी , दिगम्बर जी , धीरेन्द्र जी , रश्मि जी , राजेंद्र जी , यशवंत जी , कैलाश जी , राजेश कुमारी जी ......आप सभी का ह्रदय से शुक्रिया .आपको लेखनी पसंद आई ,आपकी सब समीक्षा मेरे लिए अनमोल है , धन्यवाद .

    ReplyDelete
  10. परछाइयों का सही वर्गीकरण बहुत अच्छा लगा

    ReplyDelete
  11. परछाईयाँ साथ चलती हैं सदा...
    परछाईयों का विम्ब सुन्दरता से गढ़ती हुई रचना!

    ReplyDelete
  12. Shadows are always with us...Sometimes they play hide and seek...Beautiful poem...

    ReplyDelete
  13. परछाईं तो दुख-सुख का साथी होती है।
    सुंदर भाव।

    ReplyDelete
  14. छोटी छोटी बंदिशों में जीवन की बड़ी-बड़ी बात अभिव्यक्त की गई है.

    ReplyDelete
  15. परछाईयों का सुंदर विम्ब गढ़ती हुई रचना ..
    बहुत सुंदर प्रस्तुति.

    ReplyDelete
  16. सुन्दर रचना , सुन्दर भावाभिव्यक्ति.



    कृपया मेरे ब्लॉग पर भी पधारें, अपनी प्रतिक्रया दें.

    ReplyDelete
  17. जीवन के हर पडाव में परछाईयों के विविध रूप को बेहतर तरीके से‍ प्रस्‍तुत किया आपने।
    सच में हर पल साथ होती हैं परछाईयां......
    आभार.....

    ReplyDelete
  18. नमस्कार शशि जी...बहुत ही सुंदर रचना...लाजवाब।

    ReplyDelete




  19. हमकदम , हमनशीं
    हमसफ़र
    … … …

    आदरणीया शशि पुरवार जी
    सस्नेहाभिवादन !

    छुपती - छुपाती ......परछाइयां पसंद आईं…
    कभी नजदीक है आती
    कभी दूर हो जाती ,
    ढूँढो , इनको ,तो
    खुद का ही ,
    प्रतिबिम्ब दिखाती .


    सचमुच एक साथी ही तो है … … …

    शुभकामनाओं-मंगलकामनाओं सहित…
    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  20. चंचल हिरनी सी
    चपल , लजाती ,
    अपने अस्तित्व का ,
    अहसास कराती .
    सुख - दुःख का मेरा
    सच्चा साथी ,
    मेरी हर तस्वीर का
    आइना है , ये
    परछाईयां .
    शशि जी बहुत ही खूबसूरत कविता है बधाई और शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  21. shshi ji namaskaar, sundar rchanaa.

    ReplyDelete
  22. परछाइयाँ ..जो हमें कभी तनहा नहीं होने देती.. अच्छी लगी रचना..

    ReplyDelete
  23. दिखे ना दिखें..परछाइयाँ हमेशा साथ होती हैं , कभी साथ नहीं छोडतीं.

    सुन्दर रचना.

    ReplyDelete
  24. very expressive n meaningfui.thanks.

    ReplyDelete





  25. आदरणीया शशि जी
    क्या बात है … अभी तक पोस्ट नहीं बदली ?

    आशा है , सपरिवार स्वस्थ-सानंद हैं …

    मंगलकामनाओं सहित…
    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  26. जवानी में " अल्हड "
    बुढ़ापे में " तठस्थ "
    हर पल रूप ,
    बदलती " परछाईयां ".
    bahut sundar kalpana ... badhai

    ReplyDelete
  27. bahut hi sundar aur gehrai se bhari phanktiya..

    ReplyDelete
  28. हूँ अँधेरे में या उजाले में, ये एहसास कराती परछाईयां

    बहुत बहुत ही खुबसूरत लिखा है आपने..

    ReplyDelete

नमस्कार मित्रों, आपके शब्द हमारे लिए अनमोल है यहाँ तक आ ही गएँ हैं तो अपनी अनमोल प्रतिक्रिया व्यक्त करके हमें अनुग्रहित करें. स्नेहिल धन्यवाद ---शशि पुरवार



linkwith

sapne-shashi.blogspot.com