सपने

सपने मेरे नहीं आपके सपने, हमारे सपने, समाज में व्याप्त विसंगतियां मन को व्यथित करती हैं. संवेदनाओं की पृष्ठभूमि से जन्मी रचनाएँ मेरीनहीं आपकी आवाज हैं. इन आँखों में एक ख्वाब पलता है, सुकून हो हर दिल में इक दिया आश का जलता है. - शशि.
शशि का अर्थ है -- चन्द्रमा, तो चाँद सी शीतलता प्रदान करने का नाम है जिंदगी .
शब्दों की मिठास व रचना की सुवास ताउम्र अंतर्मन महकातें हैं. मेरे साथ सपनों की हसीन वादियों में आपका स्वागत है.

follow on facebook

https://www.facebook.com/shashi.purwar

FOLLOWERS

Thursday, December 29, 2011

मिले सभी को .......



                                               भविष्य के संदूक में छुपे हुए अनके
                                                     अनंत तोहफे , जिंदगी के .
                                              दिल  झूमा , उमंगो ने ली फिर
                                                  अंगड़ाई , मीठे सपनो की
                                           महफ़िल नैनों में बारात बन कर आई .

                                        बिता  समय , बीती बतिया . दुःख ,कष्ट ,
                                          तकलीफे ,आतंक ,महामारी ,भ्रष्टाचार ,
                                                   महंगाई का गरमा है बाजार .
                                              छोड़ो यह तो रोज  का है समाचार .

                                            गरीबों का हर दिन , जब भी मिले
                                                काम  का मेहनताना ,होता है
                                               खुशियों का छोटा सा खजाना .
                                           छोटे से नीड़ व  , नयनो में  भरा है,
                                              उम्मीदों और उमंगो का खजाना .
                                                   उम्र नहीं होती काम की ,
                                               वक़्त नहीं मिलता बार -बार
                                           हर पल को जिलो , यही  देगा यादों
                                                     का सुंदर संसार .

                                             नए वर्ष की चमक  चहरे  पे
                                                  ठंडी की भी है बयार ,
                                                    सूर्ये की लालिमा ,
                                                 चिड़ियों की कलवल
                                               बाहें पसारे सब कर रहे
                                                 नव वर्ष का स्वागत .

                                            जीवन हो जाये  संगीतमय
                                                    फूलों सी महक
                                                सितारों सी   चमक ,
                                                खुशियों की बौछार
                                               दिल से दुआ है यही
                                                   मिले सभी को
                                     नववर्ष का  यही  प्यारा सा उपहार .
                                                              :-  शशि पुरवार

linkwith

sapne-shashi.blogspot.com