सपने

सपने मेरे नहीं आपके सपने, हमारे सपने, समाज में व्याप्त विसंगतियां मन को व्यथित करती हैं. संवेदनाओं की पृष्ठभूमि से जन्मी रचनाएँ मेरीनहीं आपकी आवाज हैं. इन आँखों में एक ख्वाब पलता है, सुकून हो हर दिल में इक दिया आश का जलता है. - शशि.
शशि का अर्थ है -- चन्द्रमा, तो चाँद सी शीतलता प्रदान करने का नाम है जिंदगी .
शब्दों की मिठास व रचना की सुवास ताउम्र अंतर्मन महकातें हैं. मेरे साथ सपनों की हसीन वादियों में आपका स्वागत है.

follow on facebook

FOLLOWERS

Thursday, December 29, 2011

मिले सभी को .......



                                               भविष्य के संदूक में छुपे हुए अनके
                                                     अनंत तोहफे , जिंदगी के .
                                              दिल  झूमा , उमंगो ने ली फिर
                                                  अंगड़ाई , मीठे सपनो की
                                           महफ़िल नैनों में बारात बन कर आई .

                                        बिता  समय , बीती बतिया . दुःख ,कष्ट ,
                                          तकलीफे ,आतंक ,महामारी ,भ्रष्टाचार ,
                                                   महंगाई का गरमा है बाजार .
                                              छोड़ो यह तो रोज  का है समाचार .

                                            गरीबों का हर दिन , जब भी मिले
                                                काम  का मेहनताना ,होता है
                                               खुशियों का छोटा सा खजाना .
                                           छोटे से नीड़ व  , नयनो में  भरा है,
                                              उम्मीदों और उमंगो का खजाना .
                                                   उम्र नहीं होती काम की ,
                                               वक़्त नहीं मिलता बार -बार
                                           हर पल को जिलो , यही  देगा यादों
                                                     का सुंदर संसार .

                                             नए वर्ष की चमक  चहरे  पे
                                                  ठंडी की भी है बयार ,
                                                    सूर्ये की लालिमा ,
                                                 चिड़ियों की कलवल
                                               बाहें पसारे सब कर रहे
                                                 नव वर्ष का स्वागत .

                                            जीवन हो जाये  संगीतमय
                                                    फूलों सी महक
                                                सितारों सी   चमक ,
                                                खुशियों की बौछार
                                               दिल से दुआ है यही
                                                   मिले सभी को
                                     नववर्ष का  यही  प्यारा सा उपहार .
                                                              :-  शशि पुरवार

28 comments:

  1. नए वर्ष की चमक चहरे पे
    ठंडी की भी है बयार ,
    सूर्ये की लालिमा ,
    चिड़ियों की कलवल
    बाहें पसारे सब कर रहे
    नव वर्ष का स्वागत .

    बहुत सुन्दर लगी आपकी यह कविता.
    बहुत अच्छे से स्वागत किया है आपने नववर्ष का.

    मेरी आपको व आपके समस्त परिवार को आनेवाले
    नववर्ष की बहुत बहुत हार्दिक शुभकामनाएँ.

    मेरे ब्लॉग पर आईयेगा,शशि जी.
    वीर हनुमान का बुलावा है आपको.

    ReplyDelete
  2. नववर्ष की इससे अच्छी शुभकामनाए कभी नहीं मिली ,
    नन्ही दुनिया मे खुशी खोज लेना ! बहुत खुबसूरत पंक्तिया

    ReplyDelete
  3. जीवन हो जाये संगीतमय फूलों सी महक सितारों सी चमक , खुशियों की बौछार
    दिल से दुआ है यही मिले सभी को
    नववर्ष का यही प्यारा सा उपहार ....

    आमीन ... आपके मुंह में घी शक्कर ... लाजवाब रचना है ...
    आपको भी नए साल की मुबारकबाद ...

    ReplyDelete
  4. नए साल से पहले,नया साल आ गया
    अब जश्न मनाने का
    वक़्त आ गया
    मौसम खुशगवार
    हो गया
    नए साल से पहले
    नया साल आ गया
    आज इंतज़ार ख़तम
    हो गया
    उम्मीदों को मुकाम
    सब्र को नतीजा
    मिल गया
    आज उनका पैगाम
    आ गया
    मायूस चेहरे पर
    निखार आ गया
    दिल को सुकून
    मिल गया
    27-12-2011
    1893-61-12

    ReplyDelete
  5. नए वर्ष की चमक चहरे पे
    ठंडी की भी है बयार ,
    सूर्ये की लालिमा ,
    चिड़ियों की कलवल
    बाहें पसारे सब कर रहे
    नव वर्ष का स्वागत .

    vah Purwar ji bahut khoob ... badhai . sath hi navvarsh pr bhi.

    ReplyDelete
  6. आपको भी नए साल की मुबारकबाद
    nice poem

    ReplyDelete
  7. जीवन हो जाये संगीतमय
    फूलों सी महक
    सितारों सी चमक ,
    खुशियों की बौछार
    दिल से दुआ है यही
    मिले सभी को
    नववर्ष का यही प्यारा सा उपहार .

    ....बहुत ख़ूबसूरत आकांक्षा...नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  8. Shashi, those were lovely words. Wishing you a lot of happiness in the New Year

    ReplyDelete
  9. प्रस्तुति अच्छी लगी । मेरे नए पोस्ट पर आप आमंत्रित हैं । नव वर्ष -2012 के लिए हार्दिक शुभकामनाएं । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  10. Beautiful words woven into a lovely poem...Wishing you and your family a very happy new year:)

    ReplyDelete
  11. सुंदर रचना।
    अच्‍छी कामनाएं....

    नववर्ष की शुभकामनाएं.......

    ReplyDelete
  12. आने वाला नववर्ष आपके और आपके परिवार के लिए मंगलमय हो

    ReplyDelete
  13. bahut sunder likha hai aapne nav varsh mangalmy ho
    rachana

    ReplyDelete
  14. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा आज के चर्चा मंच पर भी की गई है। चर्चा में शामिल होकर इसमें शामिल पोस्ट पर नजर डालें और इस मंच को समृद्ध बनाएं.... आपकी एक टिप्पणी मंच में शामिल पोस्ट्स को आकर्षण प्रदान करेगी......
    आपको और आपके परिवार को नव वर्ष की शुभकामनाएं...........

    ReplyDelete
  15. .... प्रशंसनीय रचना - बधाई
    .......नववर्ष आप के लिए मंगलमय हो

    शुभकामनओं के साथ
    संजय भास्कर
    http://sanjaybhaskar.blogspot.com

    ReplyDelete
  16. बेहतरीन अभिव्‍यक्ति ... नववर्ष की अनंत शुभकामनाएं ।

    ReplyDelete
  17. wow!!!!!!!!!!!Beautiful poem shashi ji,aapko bhi nav varsh ki dher saari shubhkaamnaye.

    ReplyDelete
  18. जीवन हो जाये संगीतमय
    फूलों सी महक
    सितारों सी चमक ,
    खुशियों की बौछार
    दिल से दुआ है यही
    मिले सभी को
    नववर्ष का यही प्यारा सा उपहार .
    सुन्दर अभिव्यक्ति है ..
    आपके जीवन में खुशियाँ आयें..
    नए साल पर हमारी ये मंगलकामनायें
    kalamdaan.blogspot.com

    ReplyDelete
  19. वाह शशि जी,
    बड़ी सुन्दर कविता लिखी है. सचमुच पढ़कर आनंद आ गया. आपके इन्दौरी होने पर नाज़ है हमें.
    मुकेश भालसे
    इंदौर (एम.पी.)

    ReplyDelete
  20. वाह प्रेम सरोवर जी,
    हर ब्लॉग पर एक ही कमेन्ट चिपका देते हैं. बड़ी अजीब बात है.
    धन्यवाद.

    ReplyDelete
  21. नव वर्ष की हार्दिक शुभ कामनाएँ।

    ReplyDelete
  22. बेहतरीन अभिवयक्ति.....नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाये.....

    ReplyDelete
  23. भाव पूर्ण अभिव्यक्ति शशि पुरवार जी ..!

    - शुभकामनायें

    [पुनश्च:- कृपया पोस्ट करते हुये शब्दों की वर्तनी को यथा सम्भव जांच लिया करें। अच्छी रचना को पढ़ते हुये वर्तनीगत एवं टाइपोग्राफिक अशुद्धियां वैसे ही खटकती हैं जैसे बासमती में कंकड़]

    ReplyDelete
  24. भविष्य के संदूक में छुपे हुए अनके अनंत तोहफे , जिंदगी के .
    दिल झूमा , उमंगो ने ली फिर अंगड़ाई ,
    मीठे सपनो की महफ़िल नैनों में बारात बन कर आई
    बेहद खूबसूरत पंक्तियाँ... नववर्ष की शुभकामनाये....

    ReplyDelete
  25. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति शशि जी !
    आपको और आपके समस्त परिवार के सदस्यों को मेरी तरफ से नव वर्ष की बहुत बहुत हार्दिक शुभकामनाएं । भगवान से प्रार्थना है कि वह आपको उतम स्वास्थ्य, दीर्घ आयु तथा सुख समृद्धि प्रदान करें.

    ReplyDelete
  26. rakesh kumar ji ,,rohit ji , digambar ji , rajendra ji , sada ji , naveen ji , sm ji ,kailash ji ,rachna ji , rahul ji, prem ji , saru , atul ji ,anju ji ,vaneet ji , sanjay ji ,indu ji , ritu ji ,mukesh ji ,sagar ji ,amit ji .,.sabhi ko navvarsh ki hardik badhai ........aap sabhi ki samiksha ne neri rachna me char chand laga diye ...........bahut hi anmol hai aapke shabd ......SHUKRIYA.

    ReplyDelete
  27. बहुत सुन्दर...
    नववर्ष शुभ हो.

    ReplyDelete

नमस्कार मित्रों, आपके शब्द हमारे लिए अनमोल है यहाँ तक आ ही गएँ हैं तो अपनी अनमोल प्रतिक्रिया व्यक्त करके हमें अनुग्रहित करें. स्नेहिल धन्यवाद ---शशि पुरवार



linkwith

sapne-shashi.blogspot.com