सपने

सपने मेरे नहीं आपके सपने, हमारे सपने, समाज में व्याप्त विसंगतियां मन को व्यथित करती हैं. संवेदनाओं की पृष्ठभूमि से जन्मी रचनाएँ मेरीनहीं आपकी आवाज हैं. इन आँखों में एक ख्वाब पलता है, सुकून हो हर दिल में इक दिया आश का जलता है. - शशि.
शशि का अर्थ है -- चन्द्रमा, तो चाँद सी शीतलता प्रदान करने का नाम है जिंदगी .
शब्दों की मिठास व रचना की सुवास ताउम्र अंतर्मन महकातें हैं. मेरे साथ सपनों की हसीन वादियों में आपका स्वागत है.

follow on facebook

FOLLOWERS

Thursday, January 19, 2012

दिल के कुछ अरमान ......!

                  


                                        दिल   के   कुछ अरमान 
                                        दिल में ही  रह जाते है ...!

                                      कुछ अजन्मे , अनछुए  ख्वाब 
                                          विचरते  है  कई  बार 
                                           नम  हुए   नयन ,
                                         दिल  में  उठी  एक  चुभन
                                         ख्वाहिशे   हुई  क्लांत
                                         खामोश   हुई  जुबान 
                                         आरजूएं   हुई  है  खफा 
                                          मिली  ये  कैसी  सजा 
                                       गम  पीकर  भी  मुस्कुराते है 
                                      जिंदगी के साथ कदम मिलते है ...!


                                   दिल के कुछ अरमान  दिल में ही ........!

                                        गुजरते वक्त के साथ 
                                        धूमिल नहीं होते ख्वाब 
                                       आरजूएं  कभी नहीं मरती 
                                       इन अजन्मे ख्वाबो की बस्ती 
                                     दिल के किसी कोने में  है बस्ती , 
                                        वक्त के थपेड़े  भी , नहीं
                                       बना पाते उनकी ख्वाबगाह 
                                      अनछुए  से , सीप  के  मोती ,
                                         और गुलशन के फूलों ,
                                        की तरह सदैव महकते है 

                                                     दिल के कुछ अरमान .....!


                                   अजन्मी चाहतें ,  कुछ ख्वाब 
                                      दिल में दफ़न होकर भी ,
                                    सदैव  दिल  में जन्म लेते  है
                                  हकीकत का रूप मिले या न मिले 
                                        दिल में सदैव बसते है .
                                        दिल के कुछ अरमान 
                                        दिल में ही रह जाते है ...........! 
                                                       : -- शशि  पुरवार



23 comments:

  1. Shashiji,bahut gehre panktiya likhe hai apne.full of emotions and feelings the reader can feel.A very nice read..

    ReplyDelete
  2. bahut bhaavpoorn rachna hai.bahut achchi lagi.

    ReplyDelete
  3. behad sundar...mere blog par aapka swagat hai..

    ReplyDelete
  4. dil ke kuchh armaan dil mein hee rah jaate
    unkee vajah se hansnaa naa bhool jaanaa
    har armaan pooraa nahee hotaa
    khudaa kee marzee samajh kar
    hanste huye aage badhte jaanaa

    ReplyDelete
  5. दिल में सदैव बसते हैं दिल के कई अरमान...
    बेहद प्यारी,कोमल अभिव्यक्ति।

    ReplyDelete
  6. सुंदर रचना।
    गहरी अभिव्‍यक्ति।

    ReplyDelete
  7. शशि जी बहुत सुंदर कविता |

    ReplyDelete
  8. Seriously, kuch armaan bas rah jaate hai...Very beautifully penned...

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर सृजन , बधाई.

    कृपया मेरे ब्लॉग पर भी पधारकर अपना स्नेहाशीष प्रदान करें.

    ReplyDelete
  10. इस कविता के भाव, लय और अर्थ काफ़ी पसंद आए। बिल्कुल नए अंदाज़ में आपने एक भावपूरित रचना लिखी है।

    ReplyDelete
  11. arman, ummiden aaawasyaktayen... ye shat pratishat pure ho jayen, to fir inke naam hi badal jate...:)
    gana bhi hai na... dil ke armaaa aanshuon me bah gaye!!
    ek behtareen rachna... khubsurat srijat:)

    ReplyDelete
  12. shshi ji ......sunder ..dil ki chune vali ..abhivykti .....

    ReplyDelete
  13. Shashi ji behad khoobsoorat rachana hai gahre chintan ke sath gahare bhav sath hi sundar shabd sanyojan .........bs yun kahiye bilkul lajabab .......badhaai sweekaren

    ReplyDelete
  14. गुज़रते वक़्त के साथ ख्वाब धूमिल नहीं होते ..
    आरजुएं नहीं मरती .... सच लिखा है ...दिल में उठे हुवे अरमान सदा जागते रहते हैं ... भाव पूर्ण रचना है ..

    ReplyDelete
  15. आपकी रचना लाजवाब है...शब्द और भाव बेजोड़...वाह...

    नीरज

    ReplyDelete
  16. शशी जी , आपकी कविता अच्छी लगी । .समय मिले तो मेरे नए पोस्ट पर आने का कष्ट कीजिएगा । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  17. शशि जी,...बहुत सुंदर अभिव्यक्ति बेहतरीन पोस्ट....रचना अच्छी लगी
    new post...वाह रे मंहगाई...

    ReplyDelete
  18. भावमयी और प्रवाहमयी.. बहुत सुंदर कविता ।

    ReplyDelete
  19. rohit ,rajeshkumari ji . rajendraj ji ,asha ji , sanjay ji , indu ji ,prem ji ,atul ji , tushar ji , saru , s.n.shukla ji , dheerendra ji , amrita ji ,sanjay ji ,nukesh ji , niraj ji , naveen ji aap sabhi ka hraday se abhar ....aapne sabdo se apna sneh jahir kiya .

    ReplyDelete
  20. bhaut hi sundar rachna hai aur dil ko chu gayi rachna par mai baya nahi kar pa raha hun kyu ki "DIL ke kuch bhav dil me hi rah jate hai "

    ReplyDelete
  21. बहुत शुन्दर प्रस्तुति , अंतिम पंक्तिय सत्य कह रही है . प्रेम कुछ ऐसा ही होता है , दर्द को साथ लिये हुए.
    मेरी नयी कविता पढ़िए जरुर.

    विजय

    ReplyDelete

नमस्कार मित्रों, आपके शब्द हमारे लिए अनमोल है यहाँ तक आ ही गएँ हैं तो अपनी अनमोल प्रतिक्रिया व्यक्त करके हमें अनुग्रहित करें. स्नेहिल धन्यवाद ---शशि पुरवार



linkwith

sapne-shashi.blogspot.com