सपने

सपने मेरे नहीं आपके सपने, हमारे सपने, समाज में व्याप्त विसंगतियां मन को व्यथित करती हैं. संवेदनाओं की पृष्ठभूमि से जन्मी रचनाएँ मेरीनहीं आपकी आवाज हैं. इन आँखों में एक ख्वाब पलता है, सुकून हो हर दिल में इक दिया आश का जलता है. - शशि.
शशि का अर्थ है -- चन्द्रमा, तो चाँद सी शीतलता प्रदान करने का नाम है जिंदगी .
शब्दों की मिठास व रचना की सुवास ताउम्र अंतर्मन महकातें हैं. मेरे साथ सपनों की हसीन वादियों में आपका स्वागत है.

follow on facebook

FOLLOWERS

Wednesday, February 1, 2012

छलकता प्यार ...!

                               


                                           तुम ही तुम हो मेरे मन 
                                                 मंदिर में,
                                              खुशबु की तरह ...!

                                                 है  बंद मगर ,
                                                देख रही आँखे .
                                               अपने प्यार का,
                                            सजदा कर रही आँखें .
                                              नजर जिधर उठे ,
                                                 तुम्हीं सामने  हो ,
                                                 बंद ही नहीं ,
                                              मेरी खुली नजरो
                                              में भी तुम ही हो .!
   
                                          मोहब्बत  बन गयी है अब 
                                                 दिल का साज .
                                          दिल की हर धड़कन पे है 
                                              तुम्हारी आवाज .
                                          तुम्हारी आँखो  में देखा है 
                                                छलकता  प्यार .
                                        तुम्हें  हर वक्त महसूस किया है 
                                                 आपने पास ......!
   
                                         तुम ही तुम हो ....!
                                                         :---शशि  पुरवार



30 comments:

  1. shbd shbd se jhalkta prem hi prem...

    ReplyDelete
  2. muhabbat ban gayi hai ab dil ka saaj..dil kee har dhadkan par hai tumhari awaj..behad shandaar ..manbhavan panktiyan...mere blog par aane ke liye hardik dhanywad..aapke blog follow kar raha hoon..aaur aapko bhee apne blog se judne ke liye sadar amantrit kar raha hoon..

    ReplyDelete
    Replies
    1. bahut -bahut shukriya ashutosh ji ,
      hamare blog me shamil huye , swagat hai aapka .

      Delete
  3. Replies
    1. bahut - bahut shukriya , rajendra ji
      aapka ashirwad bana rahe

      Delete
  4. समर्पित प्रेम की एक सशक्त अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  5. सचमुच प्यार छलक रहा है आपकी रचना से..
    सुन्दर!!!

    सस्नेह.

    ReplyDelete
  6. बंद ही नहीं
    मेरी खुली
    नज़रों में भी तुम ही हो

    लाजवाब रचना बधाई स्वीकारें

    नीरज

    ReplyDelete
  7. तू ही तू,तू ही तू...गीत याद आ गया। सुंदर प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  8. सिर्फ तुम का ....ही इंतज़ार नज़र आया ...बहुत खूब

    ReplyDelete
  9. सुंदर भाव, एक बेहतरीन रचना

    ReplyDelete
  10. प्‍यार का खूबसूरत अहसास।
    गहरे भाव लिए सुंदर रचना।

    ReplyDelete
  11. jitna acha title utne he ache panktiya aur bhav prastuti.shershak ko sarthak karti hui lines!!bahut sundar shashi ji.

    ReplyDelete
  12. वाह! बहुत खूबसूरत जज्बात उकेरे हैं आपने.

    ReplyDelete
  13. बढ़िया..//// इसे भी देखे :- http://hindi4tech.blogspot.com

    ReplyDelete
  14. मीठी ,प्यारी सी रचना बहुत ही अच्छी लगी...

    ReplyDelete
  15. pyar to chhalak jata hi hai SHASHI ji .....bahut hi khoob soorat andaj me prem ki anubhuti ka rekhankan nishchay hi adbhud hai....bahut bahut badhai ke sath abbhar bhi.

    ReplyDelete
  16. बेहतरीन प्रेम के भावो की लाजबाब प्रस्तुती,

    my new post...40,वीं वैवाहिक वर्षगाँठ-पर...

    ReplyDelete
  17. Very romantic poem. I find these lines exceptionally beautiful...Tumhari aakhoon mein dekha hai...chalakta pyar...

    Beautiful writing...

    ReplyDelete
  18. quite romantic and expression is lovely:)

    ReplyDelete
  19. बड़ी प्यारी कविता है....सच...!!

    ReplyDelete
  20. शाश्वत प्रेम की सुंदर अभिव्यक्ति।

    ReplyDelete
  21. छलकते हुवे प्रेम को जैसे शब्द दे दिए हैं आपने ...
    बहुत ही उन्मुक्त भाव से लिखी रचना ...

    ReplyDelete
  22. बसंत से माहौल बहुत रोमांटिक हो चूका है.

    इस सुंदर प्रस्तुति के लिये अभिनन्दन.

    ReplyDelete
  23. बहुत ही प्यार में पगी ,रची कविता |आपको बहुत -बहुत बधाई शशि जी |

    ReplyDelete
  24. प्यार की स्नेही अभिव्यक्ति ...
    शुभकामनायें आपको !

    ReplyDelete
  25. Dipped in love:) such an amazing poem!!

    ReplyDelete
  26. bahut sundar sashi , prem hi prem bhara hua hai

    ReplyDelete

नमस्कार मित्रों, आपके शब्द हमारे लिए अनमोल है यहाँ तक आ ही गएँ हैं तो अपनी अनमोल प्रतिक्रिया व्यक्त करके हमें अनुग्रहित करें. स्नेहिल धन्यवाद ---शशि पुरवार



linkwith

sapne-shashi.blogspot.com