सपने

सपने मेरे नहीं आपके सपने, हमारे सपने, समाज में व्याप्त विसंगतियां मन को व्यथित करती हैं. संवेदनाओं की पृष्ठभूमि से जन्मी रचनाएँ मेरीनहीं आपकी आवाज हैं. इन आँखों में एक ख्वाब पलता है, सुकून हो हर दिल में इक दिया आश का जलता है. - शशि.
शशि का अर्थ है -- चन्द्रमा, तो चाँद सी शीतलता प्रदान करने का नाम है जिंदगी .
शब्दों की मिठास व रचना की सुवास ताउम्र अंतर्मन महकातें हैं. मेरे साथ सपनों की हसीन वादियों में आपका स्वागत है.

follow on facebook

https://www.facebook.com/shashi.purwar

FOLLOWERS

Wednesday, February 1, 2012

छलकता प्यार ...!

                               


                                           तुम ही तुम हो मेरे मन 
                                                 मंदिर में,
                                              खुशबु की तरह ...!

                                                 है  बंद मगर ,
                                                देख रही आँखे .
                                               अपने प्यार का,
                                            सजदा कर रही आँखें .
                                              नजर जिधर उठे ,
                                                 तुम्हीं सामने  हो ,
                                                 बंद ही नहीं ,
                                              मेरी खुली नजरो
                                              में भी तुम ही हो .!
   
                                          मोहब्बत  बन गयी है अब 
                                                 दिल का साज .
                                          दिल की हर धड़कन पे है 
                                              तुम्हारी आवाज .
                                          तुम्हारी आँखो  में देखा है 
                                                छलकता  प्यार .
                                        तुम्हें  हर वक्त महसूस किया है 
                                                 आपने पास ......!
   
                                         तुम ही तुम हो ....!
                                                         :---शशि  पुरवार



linkwith

sapne-shashi.blogspot.com