सपने

सपने मेरे नहीं आपके सपने, हमारे सपने, समाज में व्याप्त विसंगतियां मन को व्यथित करती हैं. संवेदनाओं की पृष्ठभूमि से जन्मी रचनाएँ मेरीनहीं आपकी आवाज हैं. इन आँखों में एक ख्वाब पलता है, सुकून हो हर दिल में इक दिया आश का जलता है. - शशि.
शशि का अर्थ है -- चन्द्रमा, तो चाँद सी शीतलता प्रदान करने का नाम है जिंदगी .
शब्दों की मिठास व रचना की सुवास ताउम्र अंतर्मन महकातें हैं. मेरे साथ सपनों की हसीन वादियों में आपका स्वागत है.

follow on facebook

FOLLOWERS

Monday, November 10, 2014

कच्चे मकान




सघन वन
व्योम तले अँधेरा
क्षीण किरण।

कच्चे मकान
खुशहाल जीवन
गॉंव, पोखर

सुख की ठॉंव
हरियाली जीवन
म्हारा गॉंव

चूल्हा औ चौका
घर घर से उड़ती
सौंधी खुशबु
  ५
वो पनघट
पनिहारिन बैठी
यमुना तट

खप्पर छत
गोबर से लीपती
अपना मठ
७ 
ठहर गया
आदिवासी जीवन
टूटे किनारे .

बिखरे पत्ते
तूफानों से लड़ते
जर्जर तन

दीप्त  किरण
अमावस की रात
लौ से हारी
१०
अल्लहड़ पन
डुबकियाँ लगाती
कागजी नाव

११
शीतल छाँव
आँगन का बरगद
पापा  का गाँव

१ २
अकेलापन
तपता रेगिस्तान
व्याकुल मन
१३ 
गर्म हवाएँ
जलबिन तड़पें
मन, मछली

16 comments:

  1. बहुत सुन्दर हाइकु...

    ReplyDelete
  2. बहुत ही लाजवाब हाइकू .. अर्थ और शिल्प का गहरा दर्शन ...

    ReplyDelete
  3. बहुत ही लाजवाब हाइकू.....

    ReplyDelete
  4. सुन्दर प्रस्तुति...
    आभार।

    ReplyDelete
  5. आंचलिकता की खुशबू लिए सभी हाइकु बहुत सुन्दर हैं...हार्दिक बधाई...

    ReplyDelete
  6. kaplana ki uran me chala gya mera man is kavita se......adbhut.

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर हाइकू, बहुत परिष्कृत भाषा और मनभावन चित्रण ।

    ReplyDelete
  8. खूबसूरत हाइकु

    ReplyDelete
  9. शशि जी आपके हाइकु मुझे अपने गाँव की याद दिला गए बेहद खूबसूरत

    ReplyDelete

नमस्कार मित्रों, आपके शब्द हमारे लिए अनमोल है यहाँ तक आ ही गएँ हैं तो अपनी अनमोल प्रतिक्रिया व्यक्त करके हमें अनुग्रहित करें. स्नेहिल धन्यवाद ---शशि पुरवार



linkwith

sapne-shashi.blogspot.com