सपने

सपने मेरे नहीं आपके सपने, हमारे सपने, समाज में व्याप्त विसंगतियां मन को व्यथित करती हैं. संवेदनाओं की पृष्ठभूमि से जन्मी रचनाएँ मेरीनहीं आपकी आवाज हैं. इन आँखों में एक ख्वाब पलता है, सुकून हो हर दिल में इक दिया आश का जलता है. - शशि.
शशि का अर्थ है -- चन्द्रमा, तो चाँद सी शीतलता प्रदान करने का नाम है जिंदगी .
शब्दों की मिठास व रचना की सुवास ताउम्र अंतर्मन महकातें हैं. मेरे साथ सपनों की हसीन वादियों में आपका स्वागत है.

follow on facebook

FOLLOWERS

Saturday, September 10, 2011

मंजिल..........!



                                       मंजिल   नयी  सजानी  है  ,
                                             रास्ते  नए   बनाने   है  .

                                    आकाश   के   टिमटिमाते  तारो  में  
                                             एक   पहचान  हमारी   बनानी  है.

                                    चन्द्रमा   की   उंचाइयो  तक  पहुच  कर
                                             उस पार   हमें   तो   जाना  है  .

                                    सूरज   की  तपन   में  तप   कर 
                                            कुंदन   हमें   बन   जाना  है  .

                                    हर   पथरीले   रास्तो   से    गुजरकर   ,
                                          एक  राह   हमें   बनानी   है .

                                   चन्द्रमा   सी   शीतलता   लेकर ,
                                               राहो   को  ,
                                   इन   शीतल   किरणो  से  सजाना  है  ....!

                                  अमावस   न  आये   किसी   के  जीवन    में ,         
                                               ऐसी  ज्योत  जलानी   है.

                                   दीपो   की  मालाये   बनाकर   ,
                                         खुद   ही  राहो  में  बिछानी  है  .  

                                      मंजिल   कितनी   भी   हो दूर  ,
                                              पास   उसके   जाना   है ..
                                              मंजिल    तो  हमें  पानी   है,        
                                      मंजिल   नयी  सजानी  है ..........!

        जिंदगी  में  इतने  उतार-चढ़ाव  आते  है  कि   कई  बार हिम्मत  टूट   जाती   है  .  पर  उठ   कर   निरंतर   चलते   रहने   का   नाम   है   जिंदगी   .  जिदगी   के   हर   मोड़  पर  नजर   आती   है   मंजिल  , तो   वहां   तक  पहुचने  के  लिए  हर   कटीले   रास्तो  को  मुस्कुरा कर   पार   करने    का   नाम  है  जिंदगी  ...... !
         चन्द्रमा   की  तरह   शीतलता   बिखरने  और   शीतल   किरणो   से  सजाने   का  नाम   है   जिंदगी  . 
     शशि   का  अर्थ   है   चाँद ,  तो  चाँद   की  तरह   शीतलता  प्रदान   करने   का   नाम   है   जिंदगी  . डायरी के पन्नों से बचपन की कलम

                           :-    शशि  पुरवार

15 comments:

  1. बस आपका आशीर्वाद मिलता रहे

    ReplyDelete
  2. Oh, one of the best poems I have read on manzil...

    ReplyDelete
  3. उम्दा .. लाजवाब

    ReplyDelete
  4. thank you sagar ji ,
    thank you amrita ji .

    ReplyDelete
  5. बहुत खूबसूरत कविता बन पड़ी हें शशि जी

    ReplyDelete
  6. Shashi jee आपको अग्रिम हिंदी दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं. हमारी "मातृ भाषा" का दिन है तो आज से हम संकल्प करें की हम हमेशा इसकी मान रखेंगें...
    आप भी मेरे ब्लाग पर आये और मुझे अपने ब्लागर साथी बनने का मौका दे मुझे ज्वाइन करके या फालो करके आप निचे लिंक में क्लिक करके मेरे ब्लाग्स में पहुच जायेंगे जरुर आये और मेरे रचना पर अपने स्नेह जरुर दर्शाए..
    MADHUR VAANI कृपया यहाँ चटका लगाये
    MITRA-MADHUR कृपया यहाँ चटका लगाये
    BINDAAS_BAATEN कृपया यहाँ चटका लगाये

    ReplyDelete
  7. wow!!!!!!! just awesome poem.....
    जोश से भरी,ताज़गी दे रही है आपकी रचना...

    ReplyDelete
  8. बहुत खूबसूरत कविता बधाई और शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  9. सुन्दर उत्साहवर्धन करती अनुपम प्रस्तुति.
    आपकी सकारात्मक सोच अच्छी लगती है.

    मेरे ब्लोग् पर आइयेगा.
    नई पोस्ट पर आपका इंतजार है.

    ReplyDelete
  10. ओज़स्वी रचना है बहुत ... शुभकामनाएं ...

    ReplyDelete

नमस्कार मित्रों, आपके शब्द हमारे लिए अनमोल है यहाँ तक आ ही गएँ हैं तो अपनी अनमोल प्रतिक्रिया व्यक्त करके हमें अनुग्रहित करें. स्नेहिल धन्यवाद ---शशि पुरवार



linkwith

sapne-shashi.blogspot.com