सपने

सपने मेरे नहीं आपके सपने, हमारे सपने, समाज में व्याप्त विसंगतियां मन को व्यथित करती हैं. संवेदनाओं की पृष्ठभूमि से जन्मी रचनाएँ मेरीनहीं आपकी आवाज हैं. इन आँखों में एक ख्वाब पलता है, सुकून हो हर दिल में इक दिया आश का जलता है. - शशि.
शशि का अर्थ है -- चन्द्रमा, तो चाँद सी शीतलता प्रदान करने का नाम है जिंदगी .
शब्दों की मिठास व रचना की सुवास ताउम्र अंतर्मन महकातें हैं. मेरे साथ सपनों की हसीन वादियों में आपका स्वागत है.

follow on facebook

FOLLOWERS

Friday, September 30, 2011

अनमोल - अनुपम भेटं " बेटियां "



                                              खुदा  की  दी  हुई 
                                           एक  अनमोल - अनुपम ,
                                             भेटं  " बेटियां "

                                           सोने  जैसी  कांचन  और  ,
                                         हीरे  जैसी  मजबूत  होती  है,
                                                   बेटियां 



                                            चिड़ियों  सी  चहकती ,
                                            हिरनों  सी  मचलती  ,

                                            अपने  प्यारे  हाथो से
                                              दुलार  कर   और 
                                            मीठी  बातो  से ,  सारे
                                              दुःख - दर्द  हर  लेती  है ,
                                                  " बेटियां "



                                          दिल  के  करीब , पर
                                                उतनी  ही
                                          समझदार   होती  है
                                                 बेटियां  .........!



                                            घर  आंगन  में ,
                                           किलकारी  भरती
                                        और  अपने  नवजीवन   में ,
                                            नए  घर  को  भी 
                                          रौशन  करती  है,
                                              ये  बेटियां .

                                       एक  ही  नहीं , दो  परिवारों  का 
                                           मान  बढाती  है ,
                                             ये  बेटियां .

                                      नए  संसार को, नयी  उत्त्पति  देकर 
                                          नया  जीवन  संवारती  है ,
                                                ये  बेटियां .

                                  बेटी - बहन - सखी - पत्नी और माता ,

                                        ये  सारे रिश्ते निभाती है
                                                सि र्फ

                                             "  बेटियां "

                                         बेटियों  से  ही  तो  ,
                                    जीवन  की  उत्पत्ति  होती  है  ...   !

                                      बहुत  ही  अनमोल  है ,
                                           ये  बेटियां .


                                      मत  गर्भावस्था   में ,
                                          मारो  इन्हें .
                                     जग  की  जननी  है ,

                                         ये  बेटियां .. !.


                                      रक्षा  करो  इनकी , 
                                      सम्मान  दो  इन्हें .

                                   नहीं  तो  हमेशा  के  लिए ,
                                         सिर्फ  " यादें  "
                                          बन  जाएँगी ,
                                              ये ,


                                          " बेटियां  "
                                       :-  शशि पुरवार        


9 comments:

  1. शशि जी बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति
    आप भी मेरे फेसबुक ब्लाग के मेंबर जरुर बने
    mitramadhur@groups.facebook.com
    MADHUR VAANI
    BINDAAS_BAATEN
    MITRA-MADHUR

    ReplyDelete
  2. bahut pyaari hoti hain betiyan jeevan sanchari hoti hain betiyan.
    bahut khoobsurat bhaav betiyon ke prati bilkul meri tarah.dil ko bahut bhaai yeh rachna.

    ReplyDelete
  3. Kyu rula rahe ho didi mujhe.... Bahut hi pyari poem hai. :-)

    ReplyDelete
  4. Touching poem, daughters are a gift which is so precious. I can't compliment this poem in words. It can only be felt.

    Saru

    ReplyDelete
  5. एक बेटी का पिता होने के नाते हूँ बेटी का महत्त्व,खुदा का अनमोल तोहफा होती हैं बेटियाँ ,पिता का सबसे महत्वपूर्ण सृजन होती हैं बेटियाँ,"बेटियाँ "कविता में आपकी कलम द्वारा सुन्दर अभी व्यक्ति

    ReplyDelete
  6. आप सभी का शुक्रिया , आप सबके शब्द मेरे लिए एक नायाब तोहफा है .

    ReplyDelete
  7. मोतियों सी बेटियां कोमल सी बेटियां जो देती हैं बहुत सा प्यार मेरी भी दो बेटियां हैं आपकी रचना ही की तरह प्यारी सी !

    --

    ReplyDelete
  8. बहुत प्यारी रचना आशा की उम्मीद जगाती हुई.....
    शुभकामनायें आपको !

    ReplyDelete
  9. Hon.Shashiji,
    Aapki kavita bahot hi dil ko chu jane wali hai..Apne betiyo ke bare me bahot hi sundar aapki bhavanaye prastut ki hai..Aap hamare "kanya bachao abhiyan" me sahyog pradan karegi aisi aapse mai asha rakhata hu..Sanjay jain jalgaon..

    ReplyDelete

नमस्कार मित्रों, आपके शब्द हमारे लिए अनमोल है यहाँ तक आ ही गएँ हैं तो अपनी अनमोल प्रतिक्रिया व्यक्त करके हमें अनुग्रहित करें. स्नेहिल धन्यवाद ---शशि पुरवार



linkwith

sapne-shashi.blogspot.com