Saturday, October 1, 2011

नजराना..........!




                                             कागज  के  यह  
                                              चंद  टुकड़े (पन्ने )  ,
                                          नजराना  समझ  कर
                                                रख  लेना .
                                            इन  पत्थरों  की  तुलना  ,
                                                हीरे  से  न  करना .

                                         कल  हम  रहें  या  ना  रहें 
                                              बेगाना समझ कर ही  ,
                                                याद   कर  लेना .

                                               ये   जिंदगी  है  ,
                                               जब  तक  बाकी 
                                               याद   रह  जाये ,
                                               तो  मिल  लेना .


                                                तोहफे  में  दिए  ,
                                               इन  पन्नो  को  ही 
                                                  प्यार   की  
                                                भेंट  समझना .
                                                       :-  शशि पुरवार

कई बार हम तोहफे में  सिर्फ कार्ड या कुछ लाइन  हमारे प्रिये जनों को देते है , जो सबके लिए अनमोल नहीं होती हैं। आज लोग रूपये से ही तोहफे का वजन तोलते है . कागज के टुकड़े , का मतलब यहाँ पन्नो से है. यहाँ कागज  को पत्थरों  के सामान बेजान मन गया है जिसका कोई मोल नहीं होता , पर हीरे का होता है ....... ज्यादातर  लोग तोहफे  का मोल देखते है ,देने वाले का दिल और मन नहीं , हर किसी के लिए कार्ड  या लेखनी का मोल नहीं होता ,जिसे वह कुछ समय बाद फ़ेंक  देते है . आज कितने लोग कार्ड और पत्रों का मोल समझते है,इसी बात को अलग -अलग शब्दों में दर्शाने की कोशिश ......! डायरी के पन्नों से 











2 comments:

  1. pyar se diya hua kagaj ka panna aur us par likhi hui pyar se bhari line jyda kimti najrana hoti hai .

    ReplyDelete

यहाँ तक आएं है तो दो शब्द जरूर लिखें, आपकी प्रतिक्रिया हमारे लिए अनमोल है। स्नेहिल धन्यवाद ---शशि पुरवार

आपके ब्लॉग तक आने के लिए कृपया अपने ब्लॉग का लिंक भी साथ में पोस्ट करें
सविनय निवेदन



तोड़ती पत्थर

तोड़ती पत्थर वह तोड़ती पत्थर; देखा मैंने उसे इलाहाबाद के पथ पर- वह तोड़ती पत्थर। कोई न छायादार पेड़ वह जिसके तले बैठी हुई स्वीकार; श्याम तन,...

https://sapne-shashi.blogspot.com/

linkwith

http://sapne-shashi.blogspot.com